अंबिका सचिव की मनमानी का दंश झेल रहा ग्राम पंचायत ऊरा

अंबिका सचिव की मनमानी का दंश झेल रहा ग्राम पंचायत ऊरा
ग्राम पंचायत ऊरा में शासकीय पैसे का हो रहा दुरूपयोग

शुभम  कुमार 9770295994/ कोतमा| कोतमा विधानसभा क्षेत्र के ग्राम पंचायत ऊरा में मनमानी और भ्रष्टाचार इस कदर बढ़ गया है कि क्षेत्र के विकास में लगने वाले प्रशासन के पैसे पर ग्राम पंचायत के सरपंच सदनलाल और सचिव अंबिका प्रसाद शुक्ला की नजरें बिगड़ने लगी है | पंचायत के खाते की राशि को बंटाधार करने के लिए सचिव और सरपंच ने मिलकर सुनसान इलाके में पुलिया का निर्माण प्रारंभ कर दिया | आश्चर्य की बात तो यह है सचिव अंबिका शुक्ला के किए गए कार्यों को पहले भी बहुत सारे भ्रष्टाचार के मामलों में जांच चल रही थी फिर भी इंजीनियर सीईओ और एसडीओ ने कार्यस्थल की जांच व कार्य की गुणवत्ता की अनदेखी करते हुए कार्य प्रारंभ करने की मंजूरी दे दी|

विधायक मत का दुरुपयोग, विधायक ने मुदी आंखें

क्षेत्र में विकास हो सके इसके लिए सरकार सांसद मद विधायक मद ,आदिवासी मद, खनिज मद सहित विभिन्न प्रकार के मद का उपयोग करते हुए विकास किऐ जातें हैं।
कोतमा विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत विधायक मद से लगभग 10 लाख  रुपए लागत से पुलिया निर्माण का कार्य ऊरा ग्राम पंचायत में किया जा रहा है | विधायक सुनील सराफ द्वारा ग्राम पंचायत के विकास के लिए विधायक दर से पुलिया निर्माण की स्वीकृति प्रदान की थी| उस राशि से पंचायत सचिव अपने मन मुताबिक कार्य कराते हुए निर्माण कार्य में अनदेखी कर रहा है | विधायक के प्रयासों को असफल करने एवं पंचायत की राशि का बंदरबांट करने का प्रयास ग्राम पंचायत ऊरा के सचिव सरपंच एवं इंजीनियर के द्वारा किया जा रहा है|

ढालते ही बह गई पुलिया की बेस
निर्माण कार्य के पहले उसका एस्टीमेट तैयार किया जाता है उसी एस्टीमेट के तहत पूरा कार्य होता है लेकिन ग्राम पंचायत ऊरा में कार्य सचिव की मनमानी से होता है बरसात में पुलिया निर्माण का कार्य सचिव महोदय के देखरेख में किया जा रहा है | पुलिया बेस निर्माण का कार्य भरी बरसात में चालू हो गया था जिससे आधा बेस तो ढालते ही बह गया | गुणवत्ता विहीन मसाला लगाकर पंचायत तथा जनता को चूना लगाने का कार्य ग्राम पंचायत ऊऱा के सचिव अंबिका शुक्ला द्वारा बड़ी सफाई से किया जा रहा है|

फर्जी बिल लगा करते हैं भुगतान
ऊरा ग्राम पंचायत अंतर्गत होने वाले कार्यों में अंबिका शुक्ला की भागीदारी सबसे महत्वपूर्ण रहती है जिनको सारा जिम्मा बिल पास करवाने का मिल जाता है इसके एवज में अच्छी खासी कमीशन भी ऐठ ली जाती है| मनरेगा के कार्यों में चपानी में रहने वाले शख्स शीलभद्र जोशी का जॉब कार्ड लगाकर हजारों लाखों का भुगतान कर दिया जाता है उसकी एवज में कमीशन से जेब भर लिया जाता है वही शीलभद्र जोशी ऊरा ग्राम पंचायत के अंतर्गत मैटेरियल सप्लायर का भी काम करता है और जब पेमेंट लेने की बारी आती है तो वही शीलभद्र चपरासी भी बन जाता है | कुल मिलाकर अंबिका शुक्ला अपने पद का दुरुपयोग कर पंचायत के पैसों का वारा न्यारा करते हैं|
सीईओ तथा इंजीनियर की मिलीभगत, नहीं होती कार्यवाही

ग्राम पंचायत ऊरा में होने वाले भ्रष्टाचार की शिकायत लंबे अरसे से उपसरपंच नागेंद्र सिंह द्वारा सीओ इंजीनियर व कलेक्टर के पास की जा रही है पर कार्यवाही शून्य है पंचायत में होने वाले कार्यों में आंख मूंदकर बिलों को पास करने की मोहर लगाने वाले इंजीनियर साहब भी सचिव अंबिका के साथ कदम से कदम मिलाकर चलते हैं वही मिलने वाली शिकायतों में सीईओ द्वारा फाइलें बंद कर कार्यवाही रोक दी जाती है | विधायक मद से होने वाले पुलिया निर्माण के समय ना तो जानकारी इंजीनियर को दी जाती है और ना ही स्टीमेट के तहत कार्य किया जाता है|

मापदंडों का नहीं हो रहा पालन-
विधायक मद के पैसे से बनाए जा रहे पुलिया पर स्टीमेट से हटके  2 से 3 फुट की गहराई की नीव  खोदकर पुलिया का निर्माण जारी है तो मसाले पर भी सीमेंट की कटौती करते हुए रेत की मात्रा ज्यादा डाली जा रही है जिससे पुलिया की मजबूती पर सवाल उठना लाजमी है निर्माण स्थल में ना तो उपयंत्री  का पता होताा हैं जिससे सचिव अपने मन मुताबिक कायॅ करवा रहा है | पुलिया आधी बनकर तैयार हो गई है पर अब तक गुणवत्ता की जांच हेतु कोई अधिकारी नहीं पहुंचा है |

विधायक मद की राशि का दुरूपयोग कर रहा सचिव

क्षेत्र में विकास कार्य के लिए अपने मद से राशि जनपद पंचायत अनूपपुर दिया गया   जनपद पंचायत से राशि ग्राम पंचायत में दी गई लेकिन जिस तरह विधायक मद के पैसे का दुरूपयोग सचिव कर रहा उससे निर्माण कार्य में भ्रष्टाचार हो रहा है कहीं ना कहीं या अंदाजा लगाया जा रहा है कि इस भ्रष्टाचार में सब मिले हुए हैं ग्राम पंचायत के सरपंच सचिव सहित जनपद स्तर के कर्मचारी भी इस भ्रष्टाचार में लिप्त है इस लिए गुणवत्ता विहीन निर्माण कार्य पर उच्च अधिकारि भी चुप चाप गुणवत्ता विहीन निर्माण चलने दे रहे हैं

इनका कहना है
आज ही हमें शिकायत मिली है शिकायत मिलने पर जांच जांच की जा रही है वैसे ऊरा ग्राम पंचायत में पहले भी बहुत शिकायतें हुई हैं जिसकी जांच जिला पंचायत द्वारा टीम गठित कर की जा रही है|
अरुण भारद्वाज सीईओ जनपद पंचायत अनूपपुर|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *