आजाद अध्यापक शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री के नाम सौंपा ज्ञापन

अनूपपुर। आजाद अध्यापक शिक्षक संघ अनुपपुर द्वारा शिक्षक दिवस के अवसर पर प्रांताध्यक्ष भरत पटैल के प्रांतीय आव्हान पर अध्यापक शिक्षक संवर्ग की लंबित मांगों एवं समस्याओं के निराकरण की मांग को लेकर माननीय मुख्यमंत्री को संबोधित सहायक आयुक्त आदिम जाति कल्याण विभाग अनुपपुर को ज्ञापन सौंपा गया है। जिला अध्यक्ष विश्वासराज शुक्ला ने बताया कि मध्य प्रदेश के अध्यापक शिक्षक संवर्ग के समस्त अध्यापकों-शिक्षकों की विभिन्न मांगें एवं समस्याएं विगत समय से लंबित हैं जिनका निराकरण नहीं हो पा रहा है।
यह है मांगे
जो निम्नानुसार हैं अध्यापक शिक्षक संवर्ग को भी अंशदाई पेंशन योजना के स्थान पर पूरानी पेंशन लागू की जावे। ( इस योजना को लागू करने से मध्यप्रदेश सरकार को वर्तमान में प्रतिमाह जमा होने वाले कर्मचारियों के खाते में 10 प्रतिशत अंशदाई पेंशन के अंशदान की राशि बचत होने पर प्रतिवर्ष करोड़ों रुपए के आर्थिक बजट की बचत होगी)। अध्यापक शिक्षक संवर्ग को भी राज्य के अन्य कर्मचारियों की भांति छठवें वेतनमान की लंबित एरीयर्स राशि की तृतीय किश्त का भुगतान किया जावे। अध्यापक संवर्ग से शिक्षक संवर्ग में शामिल होने वाले शिक्षक संवर्ग को 1 जुलाई 2018 से होने वाले सातवें वेतनमान के अनुसार मासिक वेतन का 10-12 महीने बाद बिलंब से सातवें वेतनमान के अनुसार मासिक वेतन होने के कारण वेतन के अंतर की राशि की शेष एरीयर्स राशि का भुगतान किया जावे।
लंबित प्रकरणों का हो निराकरण
विगत वर्षों में मृत अध्यापक शिक्षक संवर्ग के आश्रितों के लंबित अनुकंपा नियुक्ति के मामलों को वर्तमान में लागू अनुकंपा नियुक्ति के नियमों को शिथिल करते हुए हजारों लंबित अनुकंपा नियुक्ति के प्रकरणों का निराकरण किया जावे। अध्यापक शिक्षक संवर्ग के छठवें वेतनमान का राज्य के अन्य शासकीय कर्मचारियों की भांति विद्यमान वेतन से ततस्थानीय वेतनमान के अनुसार पुन: वेतन का निर्धारण किया जावे एवं ग्रीनकार्ड धारी अध्यापक शिक्षक संवर्ग की रोकी गई वेतन-वृद्धि का लाभ पुन: बहाल किया जावे। गुरू से संविदा शिक्षक वर्ग 3 संविदा शिक्षक वर्ग 3 से सहायक अध्यापक और सहायक अध्यापक से प्राथमिक शिक्षक बनने वाले गुरु संवर्ग को भी पदोन्नति/क्रमोन्नति में प्रथम नियुक्ति से वरिष्ठता प्रदान की जावे। अध्यापक संवर्ग से शिक्षक संवर्ग में शामिल होने वाले नवीन शिक्षक संवर्ग के 2006, 2007 एवं 2008 के पूर्व में नियुक्त संविदा शाला शिक्षक/अध्यापक संवर्ग संवर्ग की क्रमश: 2018, 2019 एवं 2020 में 12 वर्ष की अवधि पूर्ण करने वाले प्राथमिक शिक्षक, माध्यमिक शिक्षक एवं उच्च माध्यमिक शिक्षकों के आदिम जाति कल्याण विभाग एवं स्कूल शिक्षा विभाग के वर्तमान विभागीय नियुक्ति कर्ता अधिकारियों के द्वारा प्रोन्नति वेतनमान के नियमानुसार आदेश जारी करवाते हुए क्रमोन्नति वेतनमान का लाभ दिया जाए।
और भी दी जाये लाभ
मध्य प्रदेश में कार्यरत आदिम जाति कल्याण विभाग के अध्यापक शिक्षक संवर्ग को स्कूल शिक्षा विभाग में मर्ज किया जाए। अध्यापक संवर्ग से राज्य शिक्षा सेवा ( शैक्षिक संवर्ग) में सहमति प्रदान करने वाले अध्यापक संवर्ग के लंबित प्रकरणों का निराकरण कर नवीन शिक्षक संवर्ग में शामिल कर उक्त शेष अध्यापकों को भी सातवें वेतन के अनुसार वेतन मान एवं नवीन शिक्षक संबर्ग के अन्य लाभ दिये जायें। (जैसे रीवा एवं सतना जिले में लोकायुक्त के कारण लंबित प्रकरण एवं अन्य लंबित प्रकरण)। स्कूल शिक्षा विभाग एवं आदिम जाति कल्याण विभाग में कार्यरत उच्च माध्यमिक/ व्याख्याता को प्राचार्य पद पर, माध्यमिक शिक्षक/उच्च श्रेणी शिक्षक को उच्च माध्यमिक/व्याख्याता पद पर, प्राथमिक शिक्षक/सहायक शिक्षक को माध्यमिक शिक्षक/उच्च श्रेणी शिक्षक के पद पर भर्ती के नियमानुसार विभाग में 50 प्रतिशत पदोन्नति के रिक्त पदों पर पदोन्नति प्रदान की जावे। वर्तमान कोरोना संक्रमण काल को ध्यान में रखते हुए दूरस्थ जिलों में पदस्थ अध्यापक/शिक्षक संवर्ग को रिक्त पदों पर स्वैच्छिक स्थानांतरण का लाभ दिया जाए जावे। अध्यापक शिक्षक संवर्ग के मासिक वेतन भुगतान की समय सीमा पूर्व में जारी शासकीय आदेश अनुसार प्रति माह 1 से 5 तारीख तक भुगतान सुनिश्चित किया जावे। शेष अध्यापक/शिक्षक संवर्ग के एम्पलाई कोड जारी किए जाएं। अध्यापक शिक्षक संवर्ग को जुलाई में मिलने वाली वार्षिक वेतन-वृद्धि में लगी रोक को बहाल किया जावे। अनुपपुर एवं मध्यप्रदेश के अध्यापक शिक्षक संवर्ग की मांगो एवं समस्याओं के शीघ्र निराकरण की मांग आजाद अध्यापक शिक्षक संघ ने की है। ज्ञापन कार्यक्रम में रावेन्द्र सिंह, कर्ण सिंह टेकाम, अमिता रवालकर, किरण पांडेय, दशारथ बुनकर, जगत रौतेल, बंशीधर पटेल, सुरेश सिंह, हीरामणि, जिया लाल संत, मुरारी लाल, धैर्य निकोदिम खालको, भरत लाल आदि अध्य्यापक साथी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *