आरा मशीन संचालक ने लगाए मानसिक प्रताडऩा के आरोप

आरा मशीन केंद्र को सील करने का मामला

(दीपू त्रिपाठी+91 99268 71070)
बिरसिंहपुर पाली। नगर में संचालित अग्रवाल सॉ मिल को एसडीएम द्वारा सील किए जाने की कार्यवाही अब विवादों के घेरे में नजर आने लगी है। अग्रवाल सॉ मिल के संचालक संदीप अग्रवाल ने एसडीएम दीपक चौहान के द्वारा आरा मशीन के गेट में सील किए जाने की कार्यवाही को गलत बताया गया है साथ ही मानसिक प्रताडऩा का आरोप लगाया है। संदीप अग्रवाल ने बताया यह कार्यवाही मेरे अनुपस्थिति में बिना किसी दस्तावेज देखे की गई है, जबकि मेरे पास सभी लकडिय़ों के दस्तावेज है। संदीप ने बताया कि सा मिल के मुख्य द्वार में पाली एसडीएम व उनकी टीम द्वारा सील किया गया है, जबकि उसी स्थल से मेरे दो अन्य व्यवसाय फर्नीचर व सीमेंट ईंट के व्यवसाय संचालित है, अचानक उनके द्वारा की गई इस कार्यवाही से उनका अन्य व्यवसाय भी बन्द हो गया है, उनके फर्नीचर व सीमेंट ईंट भी प्रभावित हुए है। संदीप अग्रवाल ने आरोप लगाया है कि उसके द्वारा वैध दस्तावेजो व सारे नियमो का पालन कर व्यवसाय किया जा रहा है, लेकिन इस कार्यवाही से उसे मानसिक आर्थिक व सामाजिक क्षति पहुँची है।

आठ दिन बाद खोली गई सील
गौरतलब है कि एसडीएम दीपक चौहान के निर्देश पर तहसीलदार व राजस्व की टीम अग्रवाल सा मिल पहुँचे और सा मिल के संचालक व वन विभाग की टीम की उपस्थिति में मिल के गेट में लगे सील को खुलवाया गया। तहसीलदार की उपस्थिति में यहाँ अन्य कार्यवाही भी की गई लेकिन जब्त लकड़ी के सम्बंध में कोई ठोस बातें सामने नही आई। तहसीलदार एम पी विराट ने बताया कि यह कार्यवाही बीते 12 मार्च को एसडीएम साहब के द्वारा की गई थी आज उन्ही के निर्देश पर यहाँ गेट में लगे सील को हटाया गया है। बताया गया कि लकड़ी की प्रजाति की पहचान व अन्य कार्यवाही किया जाना बाकी है। इस संबंध में एसडीएम दीपक चौहान ने बताया कि मिल संचालक संदीप अग्रवाल के द्वारा मुझे कई दस्तावेज दिखाए गए है जिनकी पड़ताल किया जाना शेष है। इन्होंने बताया कि जब तक कार्यवाही पूर्ण नही हो जाती तब तक कुछ नही कहा जा सकता। मिल में किये गए सील खोले जाने के बाद मिल संचालक संदीप अग्रवाल ने बताया कि आवश्यक दस्तावेज मैने पहले भी दिखाने का प्रयास किया लेकिन मुझे सील करने के पूर्व मौका नही दिया गया। उक्त कार्यवाही के बाद अब करीब आठ दिन के बाद सील खोला गया जिससे मुझे व्यवसायिक रूप से काफी नुकसान हुआ है।

इनका कहना है…
अवैध रूप से लकड़ी रखे होने की सूचना मिलने पर यह कार्रवाई की गई है, जिसकी अभी जांच चल रही है।
दीपक चौहान
एसडीएम पाली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *