एनएसयूआई ने महाविद्यालय प्रबंधन को ज्ञापन सौंप मांगा जवाब

ग्रामीणांचल क्षेत्र के छात्र कैसे भरेंगे बढ़ी हुई शूल्क की राशि

Ajay Namdev-7610528622

अनूपपुर। शासकीय तुलसी महाविद्यालय अनूपपुर में आये दिन जन भागीदारी शुल्क की राशि को बढ़ाने का कार्य किया जा रहा है जिसे देखते हुये एन.एस.यू.आई ने प्रदेश सचिव संजय सोनी की नेतृत्व में गुरूवार को छात्रों के साथ मिलकर महाविद्यालय प्राचार्य डां. परमानंद तिवारी को ज्ञापन सौंपकर उक्त समस्या के बारे में अवगत कराया। छात्रों ने बताया कि महाविद्यालय प्रशासन द्वारा गत वर्ष 2018-19 में जन भागीदारी का शुल्क 300 रूपये से बढाकर के दो गुना 600 रूपये कर दिया गया था जिसके कारण अध्ययनरत छात्र-छात्राओं के पर अतिरिक्त शुल्क का भार पड़ा था। प्राप्त जानकारी व दस्तावेज के अनुसार चालू सत्र 2019-20 में एम.एससी. की स्ववित्तीय कक्षाओं में जनभागीदारी व अन्य शुल्क मिलाकर तीन हजार से बढाकर पांच हजार कर दिया गया है तथा स्नातक की कक्षाओं में प्रवेश शुल्क 750 से बढ़ाकर 1500 रूपये कर दिया गया है। जबकि अनूपपुर तुलसी महाविद्यालय में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं की कुल संख्या का 85 प्रतिशत ग्रामीण अंचल क्षेत्र से आते हैं जिनकी आर्थिक स्थिति काफी दयनीय है बढ़े हुये अतिरिक्त शुल्क का भार गरीब तबके के छात्र कैसे भर पायेंगे। छात्रहित को देखते हुये भारतहीय राष्ट्रीय छात्र संगठन जिला अनूपपुर द्वारा अपनी मांग स्वरूप ध्यान आकर्षित कराते हुये ज्ञापन सौंपी गई कि बढ़ी हुई समस्त शुल्क वापस किया जाये। अगर उक्त मांग को तीन दिवस के अंदर महाविद्यालय प्रशासन शुल्क वृद्धि वापस करके एनएसयूआई को लिखित रूप से अवगत कराये अन्यथा एनएसयूआई जिला अनूपपुर उग्र आंदोलन के लिये बाध्य होगा। कार्यक्रम विनय प्रजापति, ऋषि वंशकार, राजीव सिंह, विक्रम महोबिया, अंकुश अग्रवाल, राजा गुप्ता, वासु गुप्ता, आशीष वर्मा, सुनील पटेल, युवराज राठौर, मोहित आहूजा, शिवम नामदेव, अभिषेक ताम्रकार, मोहिल अग्रवाल, संतोष प्रजापति, मोहम्मद रहमान व अन्य लोग उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *