ओव्हर लोड बल्करों को लेकर अनूपपुर यातायात प्रभारी संजीदा

शहर की यातायात व्यवस्था चरमराई, जिम्मेदार मौन

(Amit Dubey-8818814739)
अनूपपुर। शहर की यातायात व्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई है, ट्रैफिक जाम में लोग फंस रहे हैं। नगर के मुख्य बाजार में लोग बमुश्किल आवागमन कर पा रहे। यातायात व्यवस्था बनाने में ट्रैफिक अमला फेल साबित हो रहा। ट्रैफिक प्रभारी बदलते ही व्यवस्था कैसे चरमराई यह साफ दिखाई देने लगी है, नेशनल हाईवे के साथ-साथ शहर के मुख्य मार्ग में भारी अव्यवस्था फैल गई है। मुख्य मार्गों पर बड़े-बड़े वाहन पार्क हो रहे हैं, जिनके कारण आवागमन बाधित हो रहा है। पूर्व में ऐसे वाहनों पर कार्रवाई होती थी, तब अधिकांश लोग सड़क किनारे कार आदि पार्क नहीं करते थे। त्यौहारी बाजार लोगों के लिए आफत बन गई है, जगह-जगह जाम में लोग फंस रहे हैं। लोग भीड़ में फंसकर बेहाल हो रहे हैं। ट्रैफिक पुलिस की लापरवाही लोगों पर भारी पड़ रही है। खबर है कि यातायात पुलिस शहर प्रवेश द्वार में चालानी कार्रवाई में भिड़ी है, शहर की हालत दिनों दिन खराब होते जा रही है।
ओवरलोड को छूट
शहर के अंदर से गुजरने वाले हाईवे से रोज दर्जनों ओवरलोड राखड़ के वाहन गुजर रहे हैं, लेकिन प्रभारी ने इन्हें खुली छूट दी हुई है, सूत्रों की माने तो यातायात प्रभारी ने राखड़ के ओव्हर लोड वाहनों से महीना बांध रखा है, ऐसा नहीं है कि यातायात विभाग कार्यवाही नहीं करता, जानकारों का कहना है कि अगर वरिष्ठ अधिकारी सहित यातायात विभाग कार्यवाही को लेकर दंभ भरता है तो पिछले महीनों रेत भण्डारण के बंद होने के दौरान कैमरों की जद में निकले वाहन इन की कार्य प्रणाली को पोल खोल सकती है।
बांध लिया महीना
नेशनल हाइवे होने से रोजाना सैकड़ों छोटी, बड़ी वाहनें आवागमन करती है, मजे की बात तो यह है कि जैतहरी से निकलने वाले राखड़ के बल्करों को लेकर इतने संजीदा दिखते हैं कि अगर कोई उनसे इनके खिलाफ बात करता है तो वह उसे खुद ही बिना पूछे नियम कानून की जानकारी देने पर आमादा हो जाते हैं। सूत्रों का कहना है कि प्रभारी ने ओव्हर लोड राखड़ वाहनों से महीना बांध रखा है, जिससे उनके ओव्हर लोड होने पर भी प्रभारी को कोई फर्क नहीं पड़ता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *