कल्पवृक्ष के नीचे मुक्ताकाश मंच पर हुई सांस्कृतिक संध्या

भोपाल। राम राजा की नगरी ओरछा में पहली बार मध्यप्रदेश सरकार द्वारा आयोजित तीन दिवसीय “नमस्ते ओरछा” महोत्सव के दूसरे दिन 7 मार्च को सांस्कृतिक संध्या का आयोजन किया गया। कल्पवृक्ष के नीचे मुक्ताकाश मंच पर हुई सांस्कृतिक संध्या में म्यूजिकल बैण्ड ‘मृगया’ की धुनों से श्रोता मंत्रमुग्ध हुए। मध्यप्रदेश के कलाकार कालूराम बामनिया ने लोक-गीतों के माध्यम से श्रोताओं को बाँधे रखा।

शाम ढलने के साथ ही अंतर्राष्ट्रीय कलाकार श्री मनु चाव के इण्डियन ओशॅन रॉक बैण्ड की प्रस्तुति ने दर्शकों का मन मोह लिया। सुश्री स्मिता नागदेव के सितार-वादन के बाद इण्डियन ओशॅन रॉक बैण्ड के अंतर्राष्ट्रीय कलाकार मनु चाव के गीतों से श्रोता भाव-विभोर हुए। इसके साथ ही रॉक बैण्ड का ताल-मेल देखते ही बन रहा था। श्रोता नाचने के लिये मजबूर हुए। कार्यक्रम के अंत में सामूहिक संगीतमय प्रस्तुति में सभी संगीत प्रेमी शामिल हुए।

शुरूआत में सुश्री आलियाह खान ने कलाकारों का स्वागत किया। इस मौके पर प्रदेश ही नहीं बल्कि देश-विदेश के पर्यटकों ने भी संगीतमयी संध्या का भरपूर आनंद उठाया।

पर्यटकों ने रिवर राफ्टिंग के साथ की विरासत की यात्रा

“नमस्ते ओरछा” महोत्सव में अंतिम दिन आज सुबह विभिन्न गतिविधियां आयोजित की गईं। इसकी शुरूआत स्थानीय बेतवा रिट्रीट में स्वास्थ्य और योगा सत्र से हुई। इस सत्र में बड़ी संख्या में विदेशी पर्यटकों के साथ देशी पर्यटकों ने भी योगाभ्यास किया।

महोत्सव में सुबह की अनुभूतियों में बेतवा नदी में कंचना घाट से पर्यटकों के लिये एडवेंचर स्पोर्ट्स (राफ्टिंग) का आयोजन किया गया। इसमें पर्यटकों ने बेतवा नदी में राफ्टिंग का आनंद लिया और फोटोग्राफी वॉक का भी आनंद लिया। पर्यटकों को हेलिकॉप्टर द्वारा ओरछा के प्राकृतिक सौन्दर्य एवं विरासत की यात्रा भी कराई गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.