कृषि विभाग में वर्षाे से जमे पाण्डेय जी

बीज के नाम पर वसूली के लग रहे आरोप

(Amit Dubey-8818814739)
शहडोल। जहां एक ओर प्रदेश सरकार तबादलों को लेकर विपक्ष के निशाने पर है, वहीं विपक्ष यह भूल जाता है कि उनके समय भी नियमों की खुलकर तिलांजलि चढ़ाई गई है, मजे की बात तो यह है कि 15 साल सत्ता में रहते हुए कुछ कर्मचारियों पर इतनी कृपा बरसाई की, वह लंबे समय से एक ही स्थान पर पदस्थ हैं। एक ओर जहां पुलिस विभाग ने थोक में तबादले किये, वही अन्य विभागों में लगभग 20 वर्षाे से पदस्थ कर्मचारियों को हिला पाने में संभाग के अधिकारी नाकाम साबित हुए, एक ओर जहां चुनाव से पहले 3 वर्ष से अधिक समय से पदस्थ कर्मचारियों का तबादला होना चाहिए था, लेकिन पहुंच, पकड़ और चाटुकारिता में माहिर कुछ जिम्मेदारों को आज भी हरीझण्डी मिली हुई है।

वर्षाे से जमे अधिकारी
जिले के जयसिंहनगर जनपद के कृषि विभाग में कुछ ऐसे कर्मचारी हैं, जिनकी यहीं पदस्थापना हुई और वह यहीं से रिटायरमेंट लेना चाहते हैं, आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र होने की वजह से कुछ जिम्मेदारों ने अपनी यहां जड़े जमा ली है। जानकारों का कहना है कि कृषि विभाग में पदस्थ आरएईओ एन.के. पांडे लगभग 20-25 वर्षाे से पदस्थ है, लेकिन उनका तबादला नहीं हुआ, ऐसा नहीं है कि विभाग द्वारा इनका तबादला इन वर्षाे में नहीं किया गया, वर्ष 2011 में इनका तबादला हुआ था, लेकिन 10-11 महीनों की छुट्टी पर जाने के बाद इनका तबादला रूक गया, वर्ष 2011 के बाद ऊंची पहुंच रखने वाले पाण्डेय जी की सर्विस को लगभग 4 वर्ष बाकी है, संभवत: ऊपर बैठे जिम्मेदारों के मिले संरक्षण के बाद साहब की सेवानिवृत्ति जयसिंहनगर से ही होगी।
पाण्डेय अकेले नहीं
ऐसा नहीं है कि जयसिंहनगर के कृषि विभाग में अकेले पाण्डेय जी ने अपनी सेवा यहां लंबे समय से दे रहे हैं, अगर जिले में बैठे वरिष्ठ अधिकारी ध्यान दे तो 20 वर्षाे से लेकर 8 वर्षाे से अधिकारी यहां सेवा दे रहे हैं, लेकिन इनका तबादला नहीं हो रहा है, जहां एक ओर जीरो टॉलरेंस वाली सरकार बनने के बाद पूरे प्रदेश में तबाड़तोड़ तबादले हुए, लेकिन जिम्मेदारों ने कृषि विभाग के इन कर्मचारियों को यहीं से सेवानिवृत्त होने के लिए छोड़ रखा है, या यह कहें कि इन्हें भुला ही दिया गया।
किसान मित्र हो रहे परेशान
किसान मित्रों को आगे करके शासन की योजनाओं का लाभ जो भी किसानों को मिलना चाहिए, किसानों तक नहीं पहुंच पा रहा है, सूत्रों का कहना है कि किसान मित्रों के माध्यम से छूट में मिलने वाले बीजो के मनमाने दाम वसूले जा रहे हैं, ऐसा नहीं है कि इसकी जानकारी वरिष्ठों को नहीं है, लेकिन जिम्मेदारों ने इस ओर से आंखे मूंद रखी है, इसी वजह से पाण्डेय का हौसला इतना बुलंद हो चुका है कि वह कहते हैं कि जिसको जो शिकायत करना हैं कर सकता है, मुझे किसी की परवाह नहीं है।
इनका कहना है…
हां यह सही है कि एन.के.पाण्डेय कई वर्षाे से पदस्थ है, मैं ब्लाक स्तर का अधिकारी हंू, तबादले की लिस्ट जिले से तैयार होती है, मैं अगर कुछ कहूंगा तो मेरे ऊपर ही कार्यवाही शुरू हो जायेगी, रही बात शिकायत की तो मुझे किसी प्रकार की शिकायत नहीं मिली है, मैं किसी नेता या किसी की ऊंची पहुंच को नहीं डरता, शिकायत मिलेगी तो कार्यवाही की जायेगी। वैसे मैं भी यहां 8 सालों से पदस्थ हंू, 10 महीनें बाकी हैं मेरी सेवानिवृत्ति को, मैं खुद यहां से जाना चाहता हंू।
आर.बी. चतुर्वेदी
कृषि विभाग, जयसिंहनगर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *