कोतमा वन परिक्षेत्र में जारी है वनों की अंधाधुंध कटाई

Ajay Namdev-7610528622
वन माफिया की मिलीभगत इसलिये कार्यवाही महज खानापूर्ति

जमुना/बदरा। वन परिक्षेत्र कोतमा अंतर्गत बीट कल्याणपुर कक्ष क्रमांक रिजर्व फॉरेस्ट 455 के अंतर्गत भारी मात्रा में साल वृक्षों की कटाई अवैध तरीके से स्थानीय वन कर्मचारी व वन माफिया द्वारा सांठगांठ कर की गई है जिसकी जांच मुख्य वन संरक्षक शहडोल के डॉ. ए.के. जोशी द्वारा वन मंडल अधिकारी अनूपपुर को निर्देशित कर टीम गठित किया गया। टीम द्वारा मात्र 38 नग ठुठो की गणना की गई, शेष ठूठों को छोड़ दिया गया। जब हमारे स्थानीय प्रतिनिधि ने उक्त वन क्षेत्र कल्याणपुर बीट का निरीक्षण किया गया जहां पर कई ठूठो को अवैध तरीके से कुल्हाड़ी से काटे गए पाए गए। उक्त वन क्षेत्र में लगभग130 वृक्ष साल के कटे हैं जिसकी नुकसानी आज के महंगाई दर पर लगभग छह लाख के आस-पास होगी। बीट गार्ड को कोई पता नहीं कि हमारे बीट में लकड़ी कटी है, वन परिक्षेत्र सहायक द्वारा वृक्षों को कटा कर अन्य कहीं ठिकाने लगाए गए हैं। आम वन प्रेमियों ने ईमानदार मुख्य वन संरक्षक शहडोल से अनुरोध किया है कि इसकी जांच शहडोल स्तर से कराई जाए और ऐसे कर्मचारियों पर कड़ी कार्यवाही की जाए। वन परिक्षेत्र अधिकारी कोतमा द्वारा उक्त कृत्य को छिपाने के लिए काले पेंट से नंबर डालकर भ्रष्टाचार को छुपाने का प्रयास किया गया है जबकि कूप कटाई आरा से की गई थी। अवैध कटाई कुल्हाड़ी से की गई है जो कि जांच में स्वत: ही स्पष्ट हो जाएगा, पूर्व में भी उक्त अधिकारी पर अवैध कटाई में वन माफियाओं से सांठ-गांठ के आरोप लगे हैं जिसकी जांच चल रही है जिसमें वन कटाई के साथ साथ डिपो में अवैध तरीके से जलाऊ लकड़ी बेचने का भी प्रकरण शामिल है।
इनका कहना है-
मैं अभी अनूपपुर में हूं, मेरा एसडीओ फॉरेस्ट साहब के पास बयान चल रहा है। शाम को वापस आता हूं तो इस संबंध में बैठ कर बात करते हैं।
नंद किशोर मिश्रा
रेंजर, वन परिक्षेत्र कोतमा

Leave a Reply

Your email address will not be published.