कोतवाली पुलिस ने चार ठगों को किया गिरफ्तार

नौकरी लगाने के नाम पर ठगे थे 60 हजार

(शुभम तिवारी+91 78793 08359)
शहडोल। कोतवाली पुलिस ने दो दिन पहले जिला संयुक्त कार्यालय गेट के समीप चार ठगों द्वारा खुद को एसईसीएल का अधिकारी बताकर की गई 60 हजार रूपये की ठगी के मामले का पर्दाफाश किया है, पीडि़त अनूपपुर जिले के रामनगर थाना के ग्राम निमहा के रहने वाला है, पुलिस ने चारों ठगों के साथ ठगी के दौरान प्रयुक्त की गई चार पहिया गाड़ी भी जब्त की है। उनके अलावा ठगे गये 60 हजार रूपये मोबाइल से सील-मोहर व कूटरचित दस्तावेज भी जब्त किये हैं। कोतवाली पुलिस ने बताया कि कथित चारों आरोपियों ने उक्त मामले के अलावा बिलासपुर में भी कई लोगों के साथ नौकरी के नाम पर ठगी की थी, जिनके नाम पूछताछ में आगे आ सकते हैं।
यह किया आरोपियों ने
शुक्रवार की सुबह 11 बजे के आस-पास जिला संयुक्त कार्यालय के समीप अनूपपुर जिले के रामनगर थाना अंतर्गत ग्राम निमहा के संतोष पिता जवाहर चौधरी द्वारा की गई ठगी की शिकायत लिखाई गई थी, पुलिस सूत्रों के अनुसार पीडि़त को अब्दुल, रमाशंकर सोनी व बृजलाल सहित एक अन्य द्वारा कॉल कर उसका नाम, पिता का नाम व पता बताते हुए खुद को एसईसीएल मुख्यालय के राजस्व विभाग का अधिकारी बताया और दादाजी के नाम पर 2 एकड़ 80 डिसमिल भूमि कॉलरी भू-क्षेत्र में फंसने और उसके एवज में नौकरी मिलने की बातें कहीं गई, साथ ही मुआवजे के रूप में 5 लाख 80 हजार रूपये चेक के रूप में प्राप्त होना भी बताया, चारो ठगों ने पीडि़त को नौकरी और रूपयों का लालच देकर उसे फांस लिया और दो नौकरी करने वालों के नाम, आधार कार्ड, 6-6 फोटो, अंकसूची आदि लेकर शुक्रवार को सुबह संयुक्त कार्यालय शहडोल में मिलने के लिए बुलाया तथा कार्य के एवज में 60 हजार रूपये पारिश्रमिक भी तय किया, तय वायदे के मुताबिक चारों एक लिफाफा लेकर 11 जनवरी को यहां पहुंचे और पीडि़त से 60 हजार रूपये लेकर एसईसीएल के नाम पर प्रिंटेड शील पैक लिफाफा उसे दिया, ठग जब रूपये लेकर चले गये तो पीडि़त ने उसे खोला तो अंदर अखबार की कतरन मिली, जिसके बाद उसे ठगे जाने का एहसास हुआ और उसके द्वारा शिकायत दी गई।
आरोपी गिरफ्तार, पुलिसकर्मी पुरस्कृत
11 जनवरी को हुई ठगी और उसके बाद मिली शिकायत के बाद पुलिस कर्मियों ने कलेक्टर, कमिश्नर सहित आस-पास के अन्य निजी व शासकीय आवासों पर लगे सीसीटीवी कैमरे खंगाले, जिससे घटना की पुष्टि हुई और घटना में प्रयुक्त किया गया वाहन एमपी 65 सी 2147 व उसमें सवार तीन लोगों के फुटेज निकाले गये, 48 घंटे के भीतर ही कोतवाली पुलिस की टीम ने इस ठगी के आरोपियों को गिरफ्तार करने में सफलता अर्जित की, पुलिस अधीक्षक ने कोतवाली में पदस्थ रजनीश तिवारी, दिलीप सिंह, विमल मिश्रा, निर्मल मिश्रा व वरूण पाण्डेय को पुरस्कृत करने की घोषणा भी की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *