कोतवाली-सोहागपुर को ईनाम और बुढ़ार-अमलाई के प्रभारियों की निंदा

क्राइम मीटिंग में कप्तान ने लोकसभा चुनावों सहित भविष्य को लेकर दिये निर्देश

(Shubham Tiwari-7879308359)
शहडोल । कोतवाली प्रभारी रावेन्द्र द्विवेदी सहित सोहागपुर के प्रभारी विकास सिंह को पुलिस कप्तान ने शुक्रवार को क्राइम मीटिंग के दौरान अच्छे कार्याे के लिए ईनाम देने की घोषणा की और दोनों पुलिस अधिकारियों के कार्याे की खुलकर प्रशंसा की। क्राइम मीटिंग के दौरान पुलिस कप्तान कुमार सौरभ ने सभी थानों में किये गये जा रहे कार्याे की गहन समीक्षा की, कुछ को डांट लगाई, कुछ के कार्याे की प्रशंसा की, वहीं बुढ़ार और अमलाई थाना प्रभारी को शोकाज नोटिस सहित अर्थदण्ड देने की भी बात कही, क्राइम मीटिंग के दौरान कप्तान ने महिला अपराधों से लेकर बीते 10 वर्षाे के दौरान प्रतिबंधात्मक एक्ट के तहत किये गये कार्याे की समीक्षा भी की, इसके साथ ही आगामी सप्ताह में होने वाले देश के सबसे बड़े आम चुनावों को लेकर रणनीति पर व्यापक विचार-विमर्श किया गया।
दो गुड- दो बैड, बाकी ऑल इज वेल
क्राइम मीटिंग के दौरान पुलिस कप्तान ने कोतवाली प्रभारी रावेन्द्र द्विवेदी के द्वारा किये गये कार्याे की प्रशंसा की, बीते 10 वर्षाे के दौरान प्रतिबंधात्मक एक्ट जिसके अंतर्गत शराब, जुआं, सट्टा, जैसे अवैध कारोबार के खिलाफ की गई कार्यवाही का तुलनात्मक अध्ययन किया और तीन स्तरों पर की गई अलग-अलग समीक्षाओं में दो के लिए प्रशंसा और एक के लिए 100 रूपये की नगद राशि से पुरूस्कृत करने की घोषणा की। वहीं सोहागपुर थाना प्रभारी विकास सिंह को माइनर एक्ट के तहत की गई कार्यवाही के लिए भी उनकी प्रशंसा करते हुए 100 रूपये के नगद पुरूस्कार देने की घोषणा की। क्राइम मीटिंग के दौरान पुलिस अधीक्षक ने बुढ़ार थाना प्रभारी अनिल पटेल और अमलाई थाना प्रभारी कलीराम परते के कार्याे की समीक्षा करते हुए, उन्हें शोकाज नोटिस देने के अलावा अर्थदण्ड व ठीक ढंग से कार्य न करने के लिए निंदा भी की। इस दौरान अन्य थाना क्षेत्रों के प्रभारियों के कार्याे की समीक्षा भी की गई।
(बॉक्स बनाकर लगाये)
आटो व बस चालक रहे वर्दी में: कप्तान
क्राइम मीटिंग के दौरान विभिन्न थाना क्षेत्रों के थाना प्रभारियों के कार्याे की समीक्षा के साथ ही पुलिस अधीक्षक कुमार सौरभ ने यातायात प्रभारी अनुभव राय इस बात के निर्देश दिये कि दो पहिया वाहन में तीन सवारी और हेलमेट की अनिवार्यता का ध्यान दिया जाये। स्कूलों में लगे वाहनों सहित आटो में क्षमता से अधिक सवारियों की जांच हो, वहीं आटो तथा बस चालकों के डे्रस कोर्ड का पालन कराया जाये और इसके लिए नियमित जांच और अभियान चलाकर नियमों का पालन न करने वालों के खिलाफ कार्यवाही की जाये।
(बॉक्स बनाकर लगाये)
इन पर रहा विशेष जोर
पुलिस अधीक्षक ने महिला संबंधी अपराधों की समीक्षा करते हुए समस्त थाना प्रभारियों को निर्देशित किया कि एक सप्ताह के भीतर लंबित महिला अपराधों को निराकरण कर पुलिस अधीक्षक कार्यालय को अवगत कराना होगा, ऐसा न करने वाले प्रभारियों के विरूद्ध कार्यवाही प्रस्तावित की जायेगी, 18 वर्ष से कम गुमशुदा बालिकाओं की खोजबीन के लिए भी प्रभारियों को निर्देश दिये गये, महिला संबंधी एसओपी का पालन थाना प्रभारियों के द्वारा किया गया कि नहीं, इसकी समीक्षा की गई और प्रभारियों को इसका पालन करने के निर्देश जारी किये गये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *