गरिमा को बरकरार रखकर उसे आगे बढ़ायेगे: स्वास्थ्य मंत्री

मेस इंचार्ज सहित ठेकेदार पर गिरी गाज

(Amit Dubey-8818814739)
शहडोल। प्रदेश शासन की चिकित्सा शिक्षा आयुष एवं संस्कृति मंत्री डॉ. विजय लक्ष्मी साधौ ने चिकित्सा महाविद्यालय में पढ़ रहे छात्र-छात्राओ से मिलकर उनसे परिचय प्राप्त किया। इस अवसर पर छात्र-छात्राओं को सम्बोधित करते हुए प्रदेश की चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ. विजय लक्ष्मी साधौ ने कहा कि चिकित्सक बनकर मानव सेवा का अवसर आपको मिला है। उन्होनें कहा है कि आप अच्छी शिक्षा ग्रहण कर अच्छे चिकित्सक बने और पीडि़त मानवता की सेवा नि:स्वार्थ भाव से करें। उन्होनें कहा कि समाज में चिकित्सको को भगवान के रूप में देखा जाता है। इस गरिमा को बरकरार रखकर उसे आगे बढ़ायेगे तो आम लोगो के मन से दी जाने वाली दुआ आपकी उत्तरोत्तर उन्नति एवं प्रगति में सहायक होगी।
अपनी यादे की साझा
चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ. विजय लक्ष्मी साधौ ने छात्रो की हौसला आफजाई करते हुए कहा कि इस महाविद्यालय का यह पहला बैच है, जिसे हमेशा याद किया जायेगा। उन्होनें छात्र-छात्राओं से चिकित्सकीय पढ़ाई की अपनी यादे साझा करते हुए कहा कि पहले इतने संसाधन और सुविधाएं उपलब्ध नही थे। प्रदेश में पहले 5 चिकित्सा महाविद्यालय थे अब उनकी संख्या बढ़कर 13 हो गई है। प्रदेश सरकार नवीनतम विषयो की पढ़ाई भी प्रारंभ करा रही है तथा स्वास्थ्य सुविधाओं में निरतंर विस्तार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आदिवासी क्षेत्र में इस तरह का मेडिकल कॉलेज गॉव के आमजनो के हित में कारगर सिद्ध होगा। उन्होंने कहा कहा इस मेडिकल कॉलेज से शहडोल जिले के अतिरिक्त अनूपपुर, उमरिया साथ छत्तीसगढ़ के कोरिया जिले के मरीजो को भी लाभ मिलेगा।
कन्या छात्रावास का निरीक्षण
डॉ. विजय लक्ष्मी साधौ ने चिकित्सा महाविद्यलाय में पढ़ रही छात्राओं के छात्रावास का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान रसोई घर, भोजन कक्ष, शौचालय एवं छात्रावास में साफ -सफाई का अवलोकन किया। इस अवसर पर उन्होने कहा कि देश के दूर-दराज से आकर चिकित्सकीय शिक्षा ग्रहण करने वाले छात्र-छात्राओ को किसी भी प्रकार की कठिनाई न हो इस बात का मेडिकल कॉलेज प्रबंधन विशेष रूप से ध्यान रखे।
अध्ययन कक्षों का निरीक्षण
डॉ. विजय लक्ष्मी साधौ ने चिकित्सा महाविद्यलाय में पढ़ रहे छात्र-छात्राओं के अध्ययन कक्षों का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान अध्ययन कक्ष में उपलब्ध फर्नीचर तथा आवश्यक प्रायोगिक संसाधन उपलब्ध कराने के निर्देश मेडिकल कॉलेज प्रबंधन को दिया। उन्होनें कहा की अध्ययन कक्ष पूर्णरूप से गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के अनुरूप बनाया जायें।
मेस इन्चार्ज को तत्काल हटाने के निर्देश
चिकित्सा शिक्षा आयुष एवं संस्कृति मंत्री ने चिकित्सा महाविद्यालय शहडोल के निरीक्षण के दौरान चिकित्सा महाविद्यालय के भोजन कक्ष में छात्र-छात्राओ के लिए बनाएं गए भोजन का निरीक्षण किया तथा भोजन कक्ष में भोजन भी किया। इस दौरान चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने छात्र-छात्राओ के लिए गुणवत्ताहीन भोजन बनाएं जाने पर कड़ी नाराजगी व्यक्त की तथा मेस इन्चार्ज और मेस ठेकेदार को तत्काल हटाने के निर्देश दिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *