गरीब के विश्वास का गला घोट दिया बैंक प्रबंधक, शिकायत के लेकर भटक रहा सुद्धू

Ajay Namdev-7610528622

एक गरीब के विष्वासों का गला बैंक प्रबंधक ने इस तरह घोट दिया कि वह अब दर-दर की ठोकरे खाने को विवश है पुस्तैनी जमीन के अधिग्रहण उपरांत मिली धनराशि को ग्रामीणा बैंक सकोला के शाखा प्रबंधक के कहने पर उसने पैसा तो जमा किया, लेकिन उसे क्या पता कि उसकी धनराषि को प्राइवेट कम्पनी के लोग हजम कर जायेगें। 30 वर्षो से शाखा प्रबंधक के यहां मजदूरी करने वाले अपने साहब के विश्वासों में आकर पैसा तो जमा कर दिया,लेकिन अब उसी पैसे के लिए उसे दर-दर की ठोकरे खानी पड़ रही है। शिकायत के बाद भी आज तक कोई कार्यवाही नहीं हो सकी।
जमुना। कोतमा थानांतर्गत अंतर्गत ग्राम बेडिय़ा के निवासी सुदधू साहू आत्मज स्व. विशेषर साहू ने पुलिस महानिरीक्षक से शिकायत किये है कि उमरदा में जमीन थी जिसको बिलस्पन कम्पनी द्वारा अधिग्रहित कर लिया गया था जिसके उपरांत भूमि का मुआवजा रकम प्राप्त हुआ था उस रकम के गांव बेलियाबाड़ी निवासी कृष्णावतार पाण्डेय प्रबंधक ग्रामीण बैंक कोतमा द्वारा ग्रामीण बैंक सकोला में खाता खुलवाकर जमा करा दिया गया था, पीडि़त के उक्त खाते से 2 लाख रूपये कृष्णावतार पाण्डेय एवं उसका बड़ा बेटा पंकज पाण्डेय के द्वारा अर्थात मल्टी स्टेट क्रेडिट कॉपोरेटिव सोसायटी लिमिटेड के नाम जमा करा दिया गया और कहा गया कि 3 वर्ष में उक्त रकम डबल हो जायेगी।
विश्वास का घोटा गला
कृष्णावतार के यहां 30 वर्षो से सुद्धू साहू मजदूरी कर रहा था जिसके विष्वास पर कृष्ण्णावतार कहने पर पैसा जमा करा दिया था कृष्णावतार ने कहा था यदि कम्पनी पैसा नहीं देती है तो हम तुम्हारी पूरी रकम ब्याज सहित वापस करेगें अगर हम नहीं करते है तो तुम हमारी 2 एकड़ की जमीन बेचकर अपना पैसा वसूली कर लेना। कृष्णावतार बैंक में मैनेजर है तो उस स्थिति में उनका एवं उनके लड़के द्वारा दिलाये जा रहे भरोसे से हम सहमत हो गया।
प्राइवेट कम्पनी को दे दिया पैसा
कृष्णावतार द्वारा कम्पनी के खाते में 2 लाख रूपये दिनांक 17 जुलाई 2012 को स्थानांतरण करा दिया गया जो 3 वर्ष की अवधि के लिया था जिसकी रसीद प्रमाण दिया गया उक्त रकम जमा कराने के बाद 3 वर्ष गुजर जाने के पष्चात् कृष्णावतार पाण्डेय एवं पंकज पाण्डेय से रकम निकलवाने को कहा तो दोनों के द्वारा आज कल रकते हुए बात को टाल मटोल किया जा रहा और कहा जा रहा था कि कम्पनी से पैसा आ रहा है, लेकिन कुछ दिन लगेंगे ऐसा कह कहकर सुद्धू को गुमराह किया जा रहा है।
दी जा रही है धमकी
गरीब सिद्धू अब पैसे की मांग कर रहा है तो बैंक प्रबंधक कृष्णावतार द्वारा कहा जा रहा कि कम्पनी भाग गई है हम पैसा नहीं दे सकते तुम्हे जो करना है कर सकते हो, हमसें उलझोगे तो हम तुम्हारे रास्ते में ही गोली मार देगें और तुम्हारा पता भी नहीं चलेगा, इस धमकी से सिद्धू व उसके परिवार के लोग काफी डरे व सहमें है।
की गई शिकायत
6 अगस्त 2018 को पैसा कीं मांग को लेकर कोतमा थाना जाकर रिपोर्ट लिखने को कहे तो लेकिन कोतमा थाना प्रभारी के द्वारा रिर्पोट नहीं लिखी गई इसके उपरांत हम पुलिस अधीक्षक अनूपपुर के पास आवेदन पत्र दिये, जिसकी जांच एएसआई पटेल के द्वारा की जा रही थी। कृष्णावतार के द्वारा 2 लाख रूपये वापस करने की बात थाना प्रभारी के सामने कहा था तद् उपरांत एएसआई अरविंद दुबे के द्वारा अपना रिष्तेदार बताकर पैसा देने से मना कर दिया और मुझ को पुलिस का रौब दिखाकर गाली-गलौज करने लगे और कहा कि तुम्हे पैसा वापस हर हालत में नहीं मिलेगा जहां जाना है जाओं जो करना है कर लो।
जांच अधिकारी बन गया रिश्तेदार
इस पूरे मामले की जांच जब कोतमा थाना में पदस्थ अरविंद दुबे को दी गई तो उनके द्वारा जांच को बार-बार टाल मटोल कर कार्य में बाधा डाल रहे है। जबकि पुलिस अधीक्षक के द्वारा फोन के माध्यम से थाना प्रभारी कोतमा केा 2 लाख रूपये दिलाने की बात की चर्चा हुई थी जिसमें 24 घंटे के अंदर निराकरण कराकर सूचित करने की बात पुलिस अधीक्षक के द्वारा कहा गया था लेकिन ए.एस.आई दुबे के द्वारा इस कार्य को भी रोकर अपने रिष्तेदारी बताकर गुमराह कर दिया गया।
इनका कहना है
खाताधारक के कहने पर हमने पैसा दूसरी कम्पनी में जमा कराया था इसमें हमारी कोई गलती नहीं है।
कृष्णावतार पांडेय
शाखा प्रबंधक, सकोला अनूपपुर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed