ग्राम विकास के संदर्भ में कांग्रेसियों ने सौंपा ज्ञापन

सोनवर्षा, हड़हा सहित समीपी क्षेत्र विकास से पिछड़ेगांव में लग रहे क्रेशर का किया विरोध

शहडोल। विकासखण्ड सोहागपुर अन्तर्गत आने वाले ग्राम छादा के सोनवर्षा व हड़हा बस्तियों में एक लम्बे अर्से से विकास रूक चुका है, वहीं यह क्षेत्र खनिज कारोबारियों के लिये सोने की चिडिय़ा बना हुआ है, पंचायत व राजस्व कर्मचारियों के साथ मिलकर मनमानी अनापत्तियां बांटी जा रही है, जिससे ग्रामीण परेशान हैं। क्षेत्र में अवैध उत्खनन और खनन कारोबारियों द्वारा की जा रही हैवी ब्लास्टिंग से ग्रामीण भयभीत हैं, यही नहीं गांव के अंदर से भारी वाहन दौड़ रहे हैं, जिससे जनजीवन खतरे में है। बीते दिवस कांग्रेस के जिला उपाध्यक्ष व अन्य दर्जन भर पदाधिकारियों ने कलेक्टर को उक्त स्थिति से अवगत कराते हुए कार्यवाही के लिये ज्ञापन सौंपा।क्रेशर के खिलाफ ग्रामीणसौंपे गये ज्ञापन में कांग्रेस नेता प्रदीप सिंह ने यह उल्लेख किया कि ग्राम पंचायत से सटे क्षेत्र में सज्जन पाण्डेय निवासी सेमरा द्वारा क्रेशर लगाया जा रहा है, जो स्थानीय जनजीवन के लिये खतरा है, ग्राम पंचायत छादा के सचिव द्वारा नियमों से परे हटकर उसे अनापत्ति दे दी गई है, जिससे ग्रामीणों में रोष है, उक्त एनओसी को तत्काल रद्दकर के्रशर लगाने की प्रक्रिया पर रोक लगाई जाये, अन्यथा किसान आंदोलन व प्रदर्शन के लिये बाध्य होंगे। माफिया का बना चारागाहकांग्रेस नेता ने ज्ञापन में यह भी उल्लेख किया कि ग्राम छादा के हड़हा व सोनवर्षा क्षेत्र खनिज माफिया के लिये चारागाह बन गये हैं, यहां रेत के अवैध उत्खनन के अलावा पत्थरों का बड़े पैमाने पर अवैध खनन व परिवहन हो रहा है, जिससे ग्रामीण जीवन अस्त-व्यस्त हो चुका है। पत्थरों के उत्खनन के लिये हैवी ब्लास्टिंग की जाती है, जिससे पूरा गांव थर्रा उठता है, यही नहीं अवैध खनिज परिवहन के लिये भारी वाहनों का उपयोग हो रहा है, जो गांव के होकर गुजरते हैं, जिससे दुर्घटनाएं कारित होती हैं, कोलाहल व धूल से प्रदूषण अपने चरम पर है। इस संबंध में तत्काल कार्यवाही किया जाना अपेक्षित है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *