जिला कांग्रेस कमेटी का सचिव रतन सोनी खरीदता था चोरी का सोना

shrisitaram patel-9977922638
शहडोल। बीते निकाय चुनावों के दौरान जिले की आर्थिक राजधानी कहे जाने वाली ट्रांसपोर्ट नगरी बुढार में कांग्रेस का चेहरा बनकर चुनावों में उतरे अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के शहडोल जिले के सचिव रतन सोनी नटवरलाल निकले है। रतन सोनी खादी की आड में चोरी के जेवरात खरीदने का काम करते थे। छत्तीसगढ के कोरबा जिले अंतर्गत दर्री थाना से आई पुलिस टीम ने शुक्रवार की शाम जब बुढार थाने की टीम के साथ टिकुरी टोला स्थित रतन सोनी के आवास पर छापा मारा तो खादी की आड में छुपा कथित नटवरलाल बेपर्दा हो गया। छत्तीसगढ की पुलिस टीम ने रतन सोनी के कब्जे से खरीदा गया चोरी का सोना भी जब्त किया और चौबिस घंटे तक उससे पूछताछ करने तक उसे आज माननीय न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत कर पुन: चौबिस घंटे की पुलिस रिमांड में लेकर उसे अपने साथ छत्तीसगढ ले गई।
यह है नटवरलाल की दास्तांन
पुलिस सूत्रो की माने तो बीती 28 फरवरी की दरमियानी रात छग के दर्री थाना अंतर्गत एक सूने मकान का ताला तोड कर वहां से करीब 2 लाख 10 हजार नगदी और सोने चांदी के जेवरात व अन्य कीमती वस्तुए पार कर दिये गये। अगले दिन एक मार्च को दर्री थाने में अपराध दर्ज हुआ और पुलिस जांच में जुट गई। इस दौरान छग पुलिस ने सूरज दास मानिकपुरी और दुर्गेश नाई नामक दो युवकों को चोरी के आरोप में गिरफ्तार किया। पूछ-ताछ के दौरान उन्होने बताया कि चोरी किया गया सोना उन्होने मध्यप्रदेश के शहडोल जिले अंतर्गत बुढार में रहने वाले रतन सोनी को बेचा है। इसी की तस्दीक पर छग पुलिस यहां पहुंची थी और रतन सोनी को गिरफ्तार कर छग ले गई। सभी आरोपियों के खिलाफ भादवि की धारा 457, 380, 120, 34 के तहत् अपराध कायम किया गया था, जिसमें रतन सोनी के गिरफ्तार होने के बाद धारा 411 और जोड दी गई।
जानिए कौन है रतन सोनी
रतन सोनी वर्तमान में जिला कांग्रेस कमेटी शहडोल का सचिव है और वह कांग्रेस की सक्रिय राजनीति में रहता है। लगभग दो वर्ष पहले हुए निकाय चुनावों के दौरान कांग्रेस ने रतन सोनी को अध्यक्ष पद का उम्मीदवार बनाया था, हालांकि इस दौरान वे भाजपा प्रत्याशी से भारी अंतर से चुनाव हार गये थे। लोकसभा चुनावों से ठीक पहले ट्रांसपोर्ट नगरी में कांग्रेस का चेहरा माने जाने वाले रतन सोनी के इस कारनामे ने स्थानीय कांग्रेसियों के होश उडा दिये है। शहर में इस बात की चर्चा सरगर्म है कि बीते चुनावों में रतन सोनी को साथ लेकर घर-घर वोट मांगने के लिए जाने वाले स्थानीय कांग्रेसी इस बार जब दोबारा कांग्रेस के लिए वोट मांगने जायेंगे तो मतदाता उनसे किस-किस तरह का सवाल करेगा।




कांग्रेस ने मामले से किया किनारा

दो साल पहले कांग्रेस का चेहरा बने रतन सोनी के बेनकाब होते ही, कांग्रेस कमेटी ने इस मामले से खुद को किनारे कर लिया है। बीते सप्ताह ही जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष ने अपनी जंबो कमेटी की घोषणा की थी, जिसमें रतनलाल सोनी को जिला बाडी में सचिव बनाया गया था। घटना के संदर्भ में आजाद बहादुर सिंह ने कहा कि उसे जांच पडताल कर सामान खरीदना चाहिए था, कांग्रेस ऐसे लोगों के साथ बिल्कुल नही है। जो गलत करेगा, कानून का दायरा तोडेगा, उसके लिए कानून के हिसाब से ही कार्यवाही होनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.