जैतहरी की गलियों में गूँजे मतदाता जागरूकता के नारे

बैंड बाजे धूम धाम के साथ दिया मतदान करने का संदेश

Ajay Namdev- 7610528622

नुक्कड़ नाटक संवाद मानव शृंखला एवं सामूहिक मतदाता शपथ में उमड़ा जन समुदाय

अनूपपुर। जैतहरी की गलियों में बुद्धवार की शाम लोकतंत्र के संदेश से रंगी हुई थी। संगीत लय ताल सभी के समागम में पिरोया हुआ था लोकतंत्र का संदेश। स्काउट गाइड की लय एवं बैंड के संगीत ने शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय जैतहरी से प्रारम्भ हुई इस रैली ने आमजनो को ऐसे आकृष्ट किया कि देखते ही देखते हज़ारों नागरिकों का जनसमूह उनके साथ हो लिया। सभी ने इन बच्चों के साथ आवाज़ बुलंद की और 29 अप्रैल को मतदान करने का संदेश दिया।

रैली को एसडीएम जैतहरी ऋषि सिंघई ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। सहायक आयुक्त जनजातीय विकास डी एस राव की अगुवाई में निकली इस रैली ने मतदाता जागरूकता गीतों, जगह जगह पर छात्रों द्वारा नुक्कड़ नाटक, मतदाता संवाद के माध्यम से लोकतंत्र की अलख जगायी। क़रीब तीन घंटे तक चली यह रैली जैतहरी बाज़ार, अस्पताल रोड और विभिन्न वार्डों की गलियों से गुज़रती हुई क्रीड़ा परिसर जैतहरी में आकर समाप्त हुई। इस दौरान नागरिकों को उनके मत का महत्व बताकर यह समझाया गया कि लोकतंत्र को सशक्त करने में हर एक मतदाता की राय ज़रूरी है। निर्भीक होकर स्वविवेक से मतदान करें। ज़िला प्रशासन द्वारा मतदान केंद्रों में दिव्यांग जनो गर्भवती महिलाओं एवं वृद्ध जनो हेतु की जाने वाली व्यवस्थाओं एवं सुविधाओं से आम जनो को अवगत कराया गया।

नागरिकों को जानकारी दी गयी कि इस बार मतदान हेतु मतदाता पर्ची के साथ पहचान स्थापित करने हेतु एपिक कार्ड अथवा निर्वाचन आयोग द्वारा मान्य अन्य 11 दस्तावेज़ ड्राइविंग लाइसेन्स, बैंक पास बुक, आधार कार्ड, मनरेगा जॉब कार्ड आदि में से कोई एक अवश्य साथ लें। कार्यक्रम के समापन में सभी नागरिकों ने मानव शृंखला बनाकर लोकतंत्र को सशक्त बनाने का प्रण लिया एवं मतदाता जागरूकता के इस अभियान में सक्रिय सहभागिता निभाने की सामूहिक शपथ ली।

रैली में सीईओ जनपद जैतहरी इमरान सिद्दीक़ी, सीएमओ जैतहरी आरएन तिवारी, ज़िला स्काउट गाइड समन्वयक वीएस नामदेव, प्राचार्य उत्कृष्ट जैतहरी सीएम शर्मा, प्राचार्य कन्या माध्यमिक शाला जैतहरी वी के मिश्रा, स्काउट गाइड प्रशिक्षक जी सी मिश्रा समेत विभिन्न शासकीय अशासकीय विद्यालयों के छात्र एवं छात्राएँ तथा जैतहरी के आम निवासी महिलाएँ पुरुष हज़ारों की संख्या में उपस्थित थे। सभी ने लोकतंत्र के सुर में सुर मिला अपने लोकतांत्रिक कर्तव्य को निभाने के प्रण को दृढ़ किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *