ठेकेदार मनमानी पर उतारू कर रहा कहीं भी बिजली का तार सप्लाई, हाई वेंशन तार से हमेशा बना रहता खतरा

Ajay Namdev- 7610528622

अनूपपुर। बिजली विभाग के द्वारा बिजली चोरी व अन्य कारणों की वजह से केबल तार लगाने का कार्य पूरे अनूपपुर जिले में चल रहा है जहां केबल तार लगाने का कार्य ठेकेदार द्वारा कराया जा रहा है जो अपनी हठधार्मिता के कारण कहीं भी तार फैलाकर चला जा रहा है जिससे आम नागरिकों को परेशानी का सामना करना पड रहा है। जानकारी अनुसार अनूपपुर नगर में बिजली के तारों से परेशान आम नागरिकों को राहत नही मिल पा रही, पूरे शहर में खुले तारों का जाल पूरे शहर में बिछा है। उसमें एक और हाई वेंशन तार लोगों के घर के ऊपर से निकाली जा रही, हाई टेंशन 33 केव्ही के संपर्क में अगर कोई व्यक्ति आ जाये उसकी मौत निश्चित है। इस तरह ठेकेदार द्वारा अपनी मनमानी करते हुये आम नागरिकों को परेशान किया जा रहा है। 

बच्चे व महिलाएं भयभीत 

नगरवासियों ने बताया कि केबल के माध्यम से 33 केव्ही बिजली की तार सप्लाई की जा रही है जो घरों के ऊपर से ले जाई जा रही। जिससे घर की छत बिजली के पूरे संपर्क में रहता है और बिजली फैलने की आशंका बनी रहती है। जहां लोगों ने बताया कि छत के ऊपर से बिजली के तार फैलने से बच्चे व महिलाएं भयभीत है कि कहीं तार गिर न जाये और कोई इसकी चपेट में न आये। 

ठेकेदार दे रहा धमकी 

नगर के लोगों द्वारा जब छत से दूर बिजली की सप्लाई केबल लगाने की बात की गई तो ठेकेदार और शहडोल एमपीईबी निर्माण की जेई द्वारा एफआईआर करवाने की धमकी तक दी गई। जिससे लोगों को अब बिजली विभाग के गुंडा राज का सामना करना पड रहा है। स्थानीय लोगों ने उच्चाधिकारियों से इस ओर कार्यवाही कर बिजली के तार को छत से दूर करने की मांग की है।

मनमानी पर उतारू विभाग- आदर्श दुबे 

स्थानीय निवासी आदर्श दुबे ने बताया कि इंदिरा तिराहे से लेकर न्यायालय कॉलेज रोड तक बिजली के हाईवेंशन तार लगाने का कार्य किया जा रहा है। जो रहवासियों की बात न मानते हुये तार कहीं भी लगाकर चले जाते हैं। जबकि यह लाइन बीच सडक में लग रहे खंभों से आना चाहिए जिससे किसी को परेशानी ना हो पर रिहायशी घरों के सामने और ऊपर से निकाला जा रहा। हाई वेंशन के इन तारों से हमेशा ही खतरा बना रहता है। अगर इसी तरह बिजली विभाग के द्वारा मनमानी किया गया तो वह दिन दूर नहीं जब रहवासी अनशन में बैठने को मजबूर होगें। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed