डिसेंट हाउस में हुए व्यापक स्तर पर भ्रष्टाचार की उच्च स्तरीय जांच की मांग

डिसेंट हाउस में हुए व्यापक स्तर   पर भ्रष्टाचार की उच्च स्तरीय     जांच की मांग
(Santosh Sharma)

धनपुरी- सोहागपुर क्षेत्र अंतर्गत श्रमिक आवासों के कायाकल्प करने के लिए प्रबंधन के द्वारा डीसेंट हाउस के अंतर्गत करोड़ों रुपए खर्च किए गए थे डीसेंट हाउस मे काम करने वाले ठेकेदारों ने जमकर भ्रष्टाचार किया निर्माण कार्यों में गुणवत्ताहीन खिड़की दरवाजे टाइल्स का उपयोग किया ठेकेदारों के साथ अधिकारियों की सांठगांठ जमकर देखी गई सोहागपुर क्षेत्र के अधिकारियों ने अपने चेंबर में बैठे-बैठे ही ठेकेदारों के लाखों रुपए के भुगतान दिलवा दिए ना ही कोई अधिकारी निरीक्षण के लिए गया और ना ही उन्हें कहीं काम में कोई कमी नजर आई
रेलवे कॉलोनी में ही जमकर हुआ भ्रष्टाचार- यूं तो डिसेंट हाउस के अंतर्गत होने वाले काम में पूरे सोहागपुर क्षेत्र में जमकर भ्रष्टाचार किया गया डिफरेंट हाउस के काम में ठेकेदार और अधिकारियों ने जमकर चांदी काटी सोहागपुर क्षेत्र अंतर्गत रेलवे कॉलोनी में ही डिसेंट हाउस के अंतर्गत जमकर भ्रष्टाचार किया गया यहां ठेकेदारों के द्वारा कुछ लोगों को खुश करने के लिए अधिकारी के दिशा निर्देशन पर ऐसे मकानों का भी कायाकल्प किया गया जिनमें सेवानिवृत्त कर्मचारी दूसरों के नाम पर मकान आवंटित करा कर रह रहे हैं इसी प्रकार कुछ ऐसे मकानों का भी कायाकल्प किया गया जहां सस्पेंड कर्मचारी निवास करते हैं रेलवे कॉलोनी में कई मकानों में आज भी निर्माण कार्य पूरे नहीं हुए हैं लेकिन ठेकेदार और अधिकारी की सांठगांठ में बिना काम का भी भुगतान हो चुका है
बिलासपुर से आई टीम की जांच महज दिखावा- विश्वस्त सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार कुछ दिनों पूर्व डिसेंट हाउस मे हुए व्यापक स्तर पर भ्रष्टाचार की जांच करने के लिए बिलासपुर से 2 सदस्यों वाली एक टीम सोहागपुर क्षेत्र आई थी लेकिन इस टीम के द्वारा की गई जांच भी विश्वसनीय नहीं लग रही क्योंकि जांच टीम ने उस अधिकारी को साथ लेकर उसी के हिसाब से जांच एवं निरीक्षण किया जिसे पूरे सोहागपुर क्षेत्र में डिसेंट हाउस में हुए भ्रष्टाचार का मास्टरमाइंड माना जा रहा है निरीक्षण टीम ने रेलवे कॉलोनी के चंद उन मकानों का निरीक्षण किया जिसे मास्टरमाइंड पहले से निर्धारित कर लिया था
उठने लगी उच्च स्तरीय जांच की मांग- पूरे सोहागपुर क्षेत्र में डीसेंट हाउस के तहत किए गए निर्माण कार्यों में हुए व्यापक स्तर पर भ्रष्टाचार की जांच उच्च स्तरीय जांच कमेटी से कराए जाने की मांग उठने लगी है क्योंकि वर्षों से श्रमिक जर्जर आवासों में रहने को मजबूर थे मुख्यालय ने श्रमिकों की समस्या को देखते हुए डिसेंट हाउस के अंतर्गत सोहागपुर क्षेत्र को करोड़ों रुपए का फंड उपलब्ध करा दिया लेकिन सोहागपुर क्षेत्र में कुछ भ्रष्ट अधिकारियों ने ठेकेदारों के साथ सांठगांठ कर इतना भ्रष्टाचार किया की आवासों के साथ-साथ अपना भी कायाकल्प कर लिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *