दस्तान दप्तर : बहुआयामी प्रतिभा सम्पन्न

अनूपपुर / शासकीय तुलसी महाविद्यालय अनूपपुर जिले का अग्रणी महाविद्यालय ही नही अपितु आदिवासी अंचल का प्रमुख शिक्षा केन्द्र है, जहां स्नातकोत्तर,कला,विज्ञान,वाणिज्य की कक्षाएं संचालित है। बी.ए.,बी.एस.सी.,बी.काम.,एम.ए.,एम.एस.सी., एम.काम तक में तकरीबन 2500 छात्र-छात्राएं अध्यनरत है। इस विद्यालय में ग्रामोदय वि.वि. चित्रकूट,इंदिरागांधी वि.वि. दिल्ली,तथा भोज मुक्त वि.वि. का भी अध्ययन केन्द्र स्थापित यह कालेज अपनी स्थापना के पचासवें अर्थात स्वर्ण जयंती में प्रवेश कर रहा है, काजेल की स्थापना के लंबे अंतराल में कई उतार चढाव देखे है, कालेज का जो वर्तमान स्वरूप है इसके पूर्व की संघर्ष एवं संकल्प की दास्तान बडी लंबी है। वर्तमान समय में जहां कोर्ट परिसर है वह कालेज भवन ही था। महाविद्यालय कई प्राचार्यो और प्रशिक्षित प्राध्यापकों के भी कार्यो का साक्षी है, यहां के वर्तमान प्राचार्य डॉ. परमानंद तिवारी असाधारण प्रतिभा के धनी व्यक्ति है उनके जीवन का ध्येय वाक्य रहा है जबसे चला हूं मेरी मंजिल पे नजर है,मैने कभी मील का पत्थर नही देखा श्री तिवारी ने 13 अक्टूबर 2013 को नवीन महाविद्यालय जैतहरी में प्राचार्य का पदभार सभांला और अगस्त 2018 तक रहें,जैतहरी महाविद्यालय को सर्वसुविधायुक्त सम्पन्न बनाकर शा.तुलसी महाविद्यालय अनूपपुर आए तथा 1 सितम्बर 2018 से प्राचार्य के रूप में उन्होने यहां की व्यवस्था,अनुशासन में बुनियादी बदलाव किया ।
ज्ञातत्व हो कि डॉ.परमानंद तिवारी के लिये समन्दर की यह लाईने बहुत ही अनुकूल लगती है कि हम वो दरिया है,मुझे अपना हुनर मालूम है-जिस तरफ जाएंगे खुद रास्ता बन जाएगा । अनुशासन,स्वच्छता,न्यायालयीन प्रकरण लंबित पेन्सन प्रकरण,जर्जर भवन,पुस्तकालय विहीन बंद किताबे,तालाबन्द छात्रावास ,अतिथिभवन,असमतल टीले नुमा मैदान,परीक्षा व्यवस्था लंबित प्रकरणों के साथ,प्रसाधन,कॉमन रूम,आंचल कक्ष, खूलकूद,एन.एस.एस.,एन.सी.सी.,स्टाफ की कमी सहित सम्पूर्ण समस्याओं का निराकरण शासन प्रशासन जन नेताओं के सहयोग और अपने श्रम संकल्प के बल पर श्रम करते हुये पूरा किया। बहुआयामी प्रतिभा के धनी प्रो.परमानन्द तिवारी की शासन प्रशासन पर मजबूत पकड है, जाहे वह क्षेत्रीय विधायक वर्तमान मंत्री म.प्र.शासन मान.बिसाहू लाल सिंह जी होअथवा जिला कलेक्टर तमाम पूरे सरोकरो के साथ तिवारी जी की अपनी साख है। प्रसंग बस यह भी बताना आवश्यक है प्रो. तिवारी इसके पूर्व भी राज्यस्तरीय शिक्षक राज्यपाल पुरूस्कार,राष्ट्रीय शिक्षक पुरूस्कार राष्टपति,मा.शि.मंडल सम्मान जगतगुरू शंकराचार्य राष्ट्रिय शिक्षक पुरूस्कार,उच्च शिक्षा में शतप्रतिशत परीक्षा परीणाम पुरूस्कार, एयर इंडिया वोल्ट अवार्ड,समरसता स्वर्ण पदक,ज्ञान भारती गौरव सम्मान,सन्दीपनी सम्मान,जन जागरण सेवा सम्मान जैसे अनेक सम्मान पुरूस्कार एवं प्रशस्तियों से सम्मानित है।
महाविद्यालय में कई राष्ट्रीय शोध संगोष्ठीयों के संयोजक पत्र पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन डंा. तिवारी के निर्देश में 15 शोधार्थी कार्य कर चुके है, पर्यावरण वाहिनी के संयोजक रहे तथा कई राष्ट्रीय राज्य स्तरीय,एन.जी.ओ. के पदाधिकारी,एन.एस.एस. स्वमुहिम में भी अहम भूमिका निभाये है, मानवीय मूल्यो के तमाम सामाजिक चेतना से सम्पन्न डां तिवारी का स्वभाव कार्यशैली और आचरण स्तुत्य और अभिनन्दनीय है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *