दुकानों पर छापामार की गई पॉलीथिन की कार्यवाही, संभाग में अब तक पॉलीथिन पर एक लाख से अधिक की हुई पैनाल्टी

Ajay Namdev-7610528622



अनूपपुर। मध्यप्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड शहडोल के द्वारा संभाग के व्यापारिक क्षेत्रों में पॉलीथिन के उपयोग को रोकने के लिये जनजागृति एवं जागरण के कार्य सतत रूप से किये जा रहे हैं। नगर पालिका परिषद कोतमा में लगभग 110 किलो पॉलीथिन को दुकानों से जप्त करने के पश्चात बिजुरी नगर पालिका परिषद में नगरीय निकाय के अधिकारियों-कर्मचारियों के द्वारा पुलिस बल एवं स्थानीय प्रशासन के सहयोग से पॉलीथिन की सघन जांच की गई एवं फल बाजार, सब्जी बाजार एवं दुकानों से अमानक पॉलीथिन जप्त की गई तथा दुकानदारों एवं ग्राहकों को समझाइश दी गई कि पॉलीथिन के उपयोग से पर्यावरण पर गंभीर दुष्प्रभाव होते हैं। पालतू जानवर पॉलीथिन खाकर मर जाते हैं पॉलीथिन अपशिष्ट सुगमता से अपघटित नहीं होता है तथा पॉलीथिन से सीवर नालिया जाम हो जाती है। पॉलीथिन को जलाने से वायुमण्डल में हानिकारण गैसों का उत्सर्जन होता है।

विभाग ने लोगों से की अपील
प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड क्षेत्रीय कार्यालय शहडोल के वरिष्ठ वैज्ञानिक जी.के. बैगा तथा प्रयोगशाला सहायक शंकरलाल गोठारिया तथा रवि वर्मा द्वारा बाजार क्षेत्रों में पंपलेट एवं पर्चे वितरित किये गये। पंपलेट एवं पर्चो में सभी नागरिकों से अपील एवं अनुरोध किया गया कि पॉलीथिन के स्थान पर कागज के पैकेट तथा कपडे की थैलियों का उपयोग करें। सिंगल यूज प्लास्टिक के उपयोग से परहेज करें। नगरपालिका परिषद बिजुरी एवं प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के विभागीय दल द्वारा सभी दुकानदारों से पॉलीथिन का उपयोग भविष्य में नहीं किये जाने का वचन लिया गया है।

बिजुरी में की गई कार्यवाही
बिजुरी बाजार क्षेत्र में जैन डिस्पोजेबल के यहां 2.1 किलो, पारस जनरल स्टोर 1 किलो, स्टार डीजे एवं टेंट 2 किलो, नरेश सब्जी भंडार 200 ग्राम, श्याम साहू सब्जी भंडार 200 ग्राम, सब्जी विक्रेता 200 ग्राम, सियाराम सब्जी विक्रेता 100 ग्राम एवं मसूर अली 100 ग्राम पॉलीथिन पाया गया जिस पर कार्यवाही की गई। जिसमें पुलिस बल के सहायक उप निरीक्षक आर.एस. वर्मा द्वारा आवश्यक योगदान एवं सहयोग छापामार कार्यवाही के दौरान दिया गया।

अब तक एक लाख से अधिक की पैनाल्टी
विगत एक वर्ष में शहडोल संभाग के विभिन्न स्थानों में लगभग एक दर्जन से अधिक छापामार कार्यवाही की जा चुकी है, उसके सकारात्मक परिणाम देखने को मिल रहे हैं। छापामार कार्यवाही में जहां एक ओर हजार किलो से अधिक पॉलीथिन की जप्ती की जा चुकी है वहीं दूसरी ओर पॉलीथिन के स्टॉकिस्टों पर लगभग एक लाख रूपये से अधिक की पैनाल्टी लगाई जा चुकी है।

कम कीमत में कॉटन का थैला
विगत तीन माह से पॉलीथिन की छापामार कार्यवाही में अत्यंत सक्रियता आई है तथा शहडोल अंचल के पर्यावरण प्रेमियों में अत्यंत हर्ष एवं उल्लास व्याप्त हुआ है। कई दुकानदारों द्वारा ग्राहकों को अत्यंत कम कीमत में उपलब्ध नान बूबन बैगों का इस्तेमाल किया जा रहा है एवं नान बूबन बैगों को दुकानदारों द्वारा थोक में क्रय कर नि:शुल्क वितरित किया जा रहा है, वहीं कई ग्राहकों द्वारा स्वयं ही कॉटन के थैलों की सहायता से दुकानदारी की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.