धारदार हथियार से घर में घुसकर युवक पर हमला

मामला दर्ज करने तक रही पुलिस की कार्यवाही

(अजय नामदेव+91 76105 28622 )
अनूपपुर। मुख्यालय से 10 किलोमीटर दूर स्थित ग्राम धिरौल में रहने वाला 30 वर्षीय युवक राजा पटेल पिता बाल करण पटेल के ऊपर धार दार हथियार से युवक के घर में घुस कर वारदात को अंजाम दिया। पीडित का कहना है कि रात्रि में मेरे कमरे में कई लोग घुसकर जान से मारने का प्रयास करने आये थे, जिसके बाद मेरे द्वारा आवाज किया गया तो मेरा छोटाभाई दौड कर आया, जिसकों देखते ही वह वहां से भाग खडे हुए।फोन से मिलती है धमकीपीडित ने बताया कि जब से मेरी शादी तय हुई है तब से कई बार चचाई निवासी बबलू सिंह जो किसी रेत खदान में कार्य करता है, के द्वारा फोन से धमकी भी दिया गया है और इससे पहले सितम्बर 2018 में हमला भी किया गया था। जिससे मेरा पैर फैक्चर हुआ था और बिलासपुर चिकित्सालय में उपचार चल रहा था, वहां से लौटेने के बाद अपने निवास में आराम कर रहा था। अचानक शुक्रवार की रात्रि मेरे घर में घुस कर धारदार हथियार से जान से मारने का प्रयास किया।पहले भी हो चुकी है शिकायतयह कोई नया मामला नही है, पीडित के अनुसार इससे पहले भी कई बार वाद-विवाद की स्थिति बनी है, जिसकी शिकायत पुलिस से की जा चुकी है, लेकिन पुलिस के द्वारा किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही न करने से अपराधी के हौसले बुलंद है और आज जान से मारने तक पहुंच गया। समय रहते अगर पुलिस ने ऐसे अपराधी को सबक नही सिखाया तो निश्चित ही कई लोग इससे प्रभावित होंगे और घटनाएं घटित होते रहेंगे।जान से मारने का किया प्रयासजिला चिकित्सालय में उपचार करा रहे पीडित ने बताया कि युवक से मेरी कोई पहचान नही है, लेकिन मेरा जान क्यो लेना चाहता है यह समझ से परे है, लेकिन जब से मेरी शादी तय हुई है तब से मेरे पीछे पडा है और कई बार धमकिया भी देता है। चार महीने पहले जिस गाडी से मेरा पैर फैक्चर हुआ था वह गाडी भी उन्ही का बताया जाता है, जिसका क्रमांक एमपी-65 एच-1210 है।रात्रि में पहुंचा घर के अंदरशुक्रवार की रात्रि जब घर का दरवाजा पूरी तरह बंद था, युवक घर के पीछे से चढकर छत के माध्यम से आगन में पहुंचा, जिसके बाद वह युवक मेरे कमरे तक पहुंच गया और धारदार हथियार निकाल कर मेरे गले में वार किया तभी हस्ताक्षेप करते हुए मैने चिल्लाया तो मेरे भाई के पहुंचते ही युवक भाग रहा था, घर से निकलते हुए मेरे भाई ने भी उसे देखा और दौडाया भी तो अंधेरा होने के कारण युवक भाग निकला।

यहां से नही मिलती जानकारी
जिला चिकित्सालय में आने वाली घटनाओं की एमएलसी व अन्य सहायता के लिये पुलिस सहायता केन्द्र तो जरूर बना दिया गया है, लेकिन यहां बैठे कर्मचारियों के द्वारा पत्रकारो को किसी प्रकार की जानकारी नही दी जाती, बल्कि अभद्रता से बात करते हुए संबंधित थाने जाकर जानकारी लेने की बात कही जाती है। उच्चाधिकारियों को इस ओर ध्यान देने की आवश्यकता है, जिनके कर्मचारी आज भी देश भक्ति जनसेवा का पाठ नही पढ पाये है और वर्दी के रौब में मशगूल रहते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *