नशे के कारोबार में नौरोजाबाद सबसे ज्यादा प्रचलित

हर नशे के सामान का गढ़ बन गया कोयलांचल क्षेत्र

(दीपू त्रिपाठी+91 99268 71070)
उमरिया । जिले का नौरोजाबाद थाना क्षेत्र हर नशे का गढ़ बन गया है। यहाँ गांजा अवैध शराब सहित मेडिशिन नशे का अवैध काला कारोबार अब दिन प्रतिदिन बढ़ते ही जा रहा है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक नौरोजाबाद शहर व ग्रामीण क्षेत्र में यत्र तत्र अवैध नशे का कारोबार इस तरह फल फूल रहा है मानो इन कारोबारियों को प्रशासन का कोई खौफ ही नही है। सूत्र बताते है कि नगर के बाजारपुरा व इंदिरा चौक स्थल नशे का गढ़ माना जा रहा है यहाँ दिन रात अवैध नशे का सामान गांजा कोरेक्स फेंसेडिल नाइट्रावेट आदि धड़ल्ले से बेचा जाता है। बताया जाता है कि खांसी सर्दी में उपयोग होने वाली दवा यहाँ के नशेड़ियों के लिए नशे का आधार बन गई है जिसमें युवा वर्ग इसकी गिरफ्त में ज्यादा समाते जा रहे है। बताया जाता है कि यह मेडिशिन नशा बिना महक व गंध का होता है जिससे कई युवा इसे प्रमुख नशा के रूप में उपयोग करते है। सूत्र बताते है कि बजारपुरा स्थित एक प्रचलित स्थान से मेडिशिन नशा का कारोबार पूरे शहरी व ग्रामीण अंचल में संचालित हो रहा है। सूत्रों ने बताया कि नौरोजाबाद के कुदरी क्षेत्र में भी अब अवैध नशे का कारोबार पनपने लगा है। जानकार बताते है कि गांजा व मेडिशिन नशा के कारोबार में लिप्त कुछ युवा अब फोन से संपर्क कर नशे का सामान पहुचाने लगे है वही कुछ प्रमुख चायपान ठंडा की दुकानों से उक्त कारोबार को बढ़ावा देने की चर्चा भी सुर्खियों में बनी हुई हैं। उल्लेखनीय है कि इस संबंध में बीते दिन जिले के ऊर्जावान पुलिस कप्तान सचिन शर्मा ने ऐसे कारोबारियों पर निशाना साधते हुए कहा था कि अवैध नशा के कारोबारी या तो अपना धंधा बन्द कर दें या फिर जिले से बाहर चले जाएं यदि पकड़े जाते है तो सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। बहरहाल अब इस कारनामे में नौरोजाबाद पुलिस को नकेल कसने पर कब तक सफलता मिल पाती है यह तो समय ही तय करेगा।
गांव में भी अवैध नशे के अड्डे
प्राप्त जानकारी के मुताबिक नौरोजाबाद थाना क्षेत्र के ग्रामीण क्षेत्रो में भी नशे का ग्राफ बीते कई महीनों से बढ़ते ही जा रहा है। बताया गया है कि यहाँ कुछ चिन्हित व नामी लोगो के द्वारा विंध्या पिंनौरा सस्तरा सहित अन्य ग्रामीण इलाकों में प्रतिबंधित दवा व गांजा की सप्लाई की जा रही है हलाकि यह गांजा व दवा की खेप कहाँ से आती यह अभी तक पूर्ण रूप से स्पष्ट नही हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *