पहली बारिश में बह गई पुलिया, किसानों को हो रही परेशानी

Ajay Namdev-7610528622

अनूपपुर। विकासखण्ड जैतहरी अंतर्गत ग्राम पटनाकला के डोंगरियाटोला, गहिरा नाला डायवर्सन का निर्माण जलसंसाधन विभाग द्वारा कराया गया था। गहिरानाला से नहर के माध्यम से एमपीईबी चचाई पानी पंहुचाया जाता है, लेकिन पहली ही बरसात में पटनाकला के समीप निर्मित पुलिया बह गई जिसके कारण ग्रामवासियों का अपने खेतों में जाने के लिये रास्ता अवरूध्द हो गया। बताया जाता है कि जलसंसाधन विभाग द्वारा नहर का निर्माण तो कराया गया लेकिन पक्कीकरण नहीं कराया गया जबकि प्राकल्लन के अनुसार व्ही आकार के नहर में पक्कीकरण का कार्य कराया जाना चाहिये था। पूर्व में लगभग 5-6 फिट गहरे नहर का निर्माण कराया गया जो कि अब 15-20 फिट खाई का रूप धारण कर चुकी है और पानी के बहाव में हो रहे मिटटी के कटाव के कारण नहर से लगे खेतों में पानी नहीं रूक पा रहा है। जिससे किसानों को परेशानी का सामना करना पड रहा है। अनेकों बार ग्रामीणों ने जिला प्रशासन से गहिरा नाला निर्माण में की गई अनियमितता की ओर ध्यान दिलाया गया किन्तु अभी तक प्रशासन ने ग्रामीणों की सुध नहीं ली है।
सरपंच ने दिया ज्ञापन
ग्राम पंचायत पटनाकला की सरपंच श्रीमती तिजिया बाई ने कार्यपालन यंत्री जलसंसाधन विभाग अनूपपुर को ज्ञापन सौंपकर डोंगराटोला डायवर्सन मार्ग में बनाये गये नहर के पक्कीकरण की मॉग की है जिससे ग्रामवासियों को किसी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पडे।

किसान नारायण सिंह का कहना है कि एक ओर सरकार किसानों के हित की बात कर रही है और नित नई योजनाओं का क्रियान्वयन कर रही है लेकिन जलसंसाधन विभाग के अधिकारियों द्वारा किसानों की ओर किसी प्रकार का ध्यान नहीं दे रहे हैं। जिस प्रकार पहली ही बारिश में पुलिया बह गई और लगातार मिटटी का कटाव होने से खेतों में पानी नहीं रूक पा रहा है| किसान आशीष सिंह का कहना है कि ग्राम से अपने खेतों तक जाने का एक मात्र मार्ग यही था व पुलिया के बह जाने के कारण अब हम अपने खेतों में नहीं पंहुच पा रहे हैं। कच्चे नहर होने के कारण नहर खाई का रूप धारण कर चुकी है जिससे समीप में लगे पेड भी धराशायी हो रहे हैं। खाई रूपी गडढे में कई बार मूकपशु भी गिर चुके है और कई जानवरों की मौत हो चुकी है। हमने ने कई बार विभागीय अधिकारियों से पक्कीकरण नहर बनाने की मॉग की किन्तु किसी भी अधिकारियों ने नहीं सुनी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *