पुलिस की कार्यवाही से दहला खनिज माफिया @ 21 वाहन सोन नदी से जप्त – कटघरे में खनिज अमला

( शुभम तिवारी )

शहडोल । पुलिस अधीक्षक सत्येंद्र कुमार शुक्ला के निर्देशन में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बीडी पांडे, यातायात डीएसपी अखिलेश तिवारी के द्वारा बुधवार और गुरुवार की रात जिला मुख्यालय से सटे श्यामडीह से होकर गुजरने वाली सोन नदी में रात लगभग 2:00 बजे बड़ी छापामार कार्यवाही की गई ।
सोन नदी से रेत के अवैध उत्खनन व परिवहन के खिलाफ पुलिस ने कार्यवाही करते हुए 21 वाहनों को जप्त किया है, जिसमें 11 डग्गियाँ और 10 ट्रैक्टर बताए गए हैं।

आधी रात से शुरू हुई कार्यवाही अभी तक लगातार जारी है खनिज माफिया के खिलाफ अब तक की सबसे बड़ी कार्यवाही पुलिस द्वारा की गई है, इस कार्यवाही ने खनिज विभाग को कटघरे में खड़ा कर दिया है साथ ही उसकी कार्यशैली पर भी प्रश्नचिन्ह लगा दिया है।

खबर है कि जब्त किए गए सभी वाहनों को सोहागपुर पुलिस और यातायात पुलिस के साथ पुलिस अधीक्षक के निर्देशन में सोहागपुर थाने लाया जा रहा है, अभी वाहनों को श्यामडीह रेत खदान से पकड़कर थाने लाने का सिलसिला जारी है, पुलिस की इस कार्यवाही से माफिया में हड़कंप की स्थिति निर्मित हो गई है।

प्रदेश सरकार द्वारा माफिया के खिलाफ छेड़ी गई जंग में जिले में अब तक की सबसे बड़ी कार्यवाही पुलिस विभाग द्वारा की गई है, जिससे खनिज माफिया में हडकंम्प की स्थिति निर्मित हो गई है, ज़ब्त किए गए वाहन सोन नदी से रेत का अवैध उत्खनन और परिवहन करने का कार्य कर रहे थे, मुखबिर से मिली सूचना के बाद रात 2 बजे पुलिस ने छापामार कार्यवाही की हालांकि यह बात अभी साफ नहीं हो पाई है कि जब्त किए गए वाहन किस-किस के हैं और उनके नंबर क्या है, लेकिन अभी उन्हें थाने लाने का सिलसिला जारी है।

तो क्या सो रहा था खनिज विभाग

पुलिस के द्वारा अवैध उत्खनन और परिवहन की इस बड़ी कार्यवाही ने जिले के खनिज विभाग को कटघरे में खड़ा कर दिया है, मुख्यालय से सटे श्यामडीह में पुलिस ने बड़ी कार्यवाही को अंजाम देते हुए यह साफ कर दिया कि अरसे से यहां पर खनिज का अवैध खनन और परिवहन चल रहा था, जबकि खनिज के अवैध उत्खनन व परिवहन जैसे कार्यों पर अंकुश लगाने का काम खनिज विभाग का है, खनिज विभाग को अवैध कार्यों की जानकारी नहीं थी या फिर जानबूझकर वह संरक्षण देता था, यह तो जांच का विषय है लेकिन इस बड़ी कार्यवाही से माफिया में हड़कंप की स्थिति निर्मित हो गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed