पुलिस ने किया अंधे हत्याकाण्ड का खुलासा

उप सरपंच ने गर्दन पर मारी थी टांगी

( रामनारायण पाण्डेय+91 99938 11045 )
जयसिंहनगर। थाना क्षेत्र अंतर्गत टेरन सिंह ग्राम छूदा का सरपंच पति ने रिपोर्ट दर्ज कराया की 08 जुलाई को घर जाते समय गांव का उप सरपंच गंगाधर बैगा सुबह करीब 8.30 बजे फोन लगाया और बताया कि मेरे खेत में बने इन्दारा के पास महुआ पेड़ के नीचे एक महिला की लाश पड़ी है। तब बुद्धीमान सिंह कंवर मंगल बैगा को साथ लेकर उप सरपंच गंगाधर केे खेत पास पहुंचकर देखा महुआ पेड़ के नीचे गांव की ललिया सिंह कंवर मृत अवस्था में पड़ी थी, ललिया सिंह के सिर के पीछे व गर्दन में चोट लगी है तथा ललिया सिंह के हाथ में कपड़े में बंधी महुआ डोरी भी है।
सरपंच को फोन पर मिली सूचना
मृतिका ललिया बाई की हत्या किसी अज्ञात व्यक्ति के द्वारा किया जाना पाये जाने पर थाना में धारा 302 पंजीबद्ध किया जा कर विवेचना के दौरान मृतिका ललिया सिंह की बहु रामलली सिंह पति राजाराम सिंह कंवर ग्राम छूदा ने बताई कि 08 जुलाई को सुबह 8 बजे उसके फोन पर गांव के उप सरपंच गंगाधर बैगा के द्वारा फोन कर बताया गया कि बिलऊआ डोंगरी जंगल में सास ललिया सिंह गाली दे रही थी, तो मैने उसे टांगी से गर्दन पर मार कर हत्या कर दी है, हमारा तुम्हारा प्रेम संबंध है, यह बात किसी को बताना नहीं ठीक नहीं होगा, तुम गांव के ही लोगों का नाम बताना जिनसे तुम्हारा जमीनी विवाद चल रहा है। आरोपी गंगाधर बैगा को दिनांक 07 जुलाई की सुबह 8-9 बजे लगभग गांव का गजाधर कंवर ने टांगी ले जाते हुए बिलऊआ डोंगरी जंगल खेत तरफ जाते हुए देखा था।
खुद स्वीकार अपराध
प्रकरण में उपलब्ध साक्ष्यों से आरोपी गंगाधर बैगा व साक्षी रामलली कंवर के सीडीआर तथा साक्षी गण रामलली व गजाधर बैगा के दिये कथन के आधार पर आरोपी गंगाधर बैगा से गहन पूछताछ की गई जो गंगाधर बैगा द्वारा उक्त अपराध का कृत्य किया जाना स्वीकार किया, आरोपी गंगाधर बैगा पिता स्व. नर्बदा प्रसाद बैगा उम्र 48 साल ग्राम उप सरपंच निवासी ग्राम छूदा को 26 जुलाई को विधिवत समक्ष गवाहान गिरफ्तार किया गया तथा आरोपी द्वारा दिये गये मेमोरेण्डम के अनुसार आरोपी से घटना केे वक्त प्रयुक्त टांगी बरामद की गई है। उक्त अंधेे कत्ल का आरोपी गंगाधर बैगा उप सरपंच ग्राम छूदा का बड़ी चालाकी के साथ हत्या करने के एक दिन बाद बाद 8 जुलाई को स्वयं घटना स्थल पर पहुंचकर सबसे पहले सुबह 8 बजे लगभग अपने प्रेमिका , मृतिका की बहु रामलली सिंह कंवर को फोन करके हत्या करने की बात स्वीकार करना तथा ग्राम सरपंच पति टेरन सिंह को फोन से घटना की जानकारी दी थी।
इनकी रही उपस्थिति
अंधे कत्ल का पर्दाफाश करने में पुलिस अधीक्षक अनिल सिंह कुशवाह के कुशल निर्देशन पर घटना के बाद से ही अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रवीण कुमार भूरिया, अनुविभागीय अधिकारी (पुलिस) श्रीमती उमा कांती आर्माे के कुशल नेतृत्व एवं मार्गदर्शन में घटित टीम निरीक्षक डी.आर. बरकड़े थाना प्रभारी जयसिंहनगर अनिल कुमार पटेल, थाना प्रभारी ब्यौहारी, उप निरीक्षक गोविंद भगत पी.एस.आई, सुनील कुमार सरेयाम, प्रधान आरक्षक भागचंद, नीतेन्द्र सिंह, प्रहलाद सिंह, सूरज सिंह, चालक सौरभ मिश्रा, रणजीत कनासिया, महिला आरक्षक ललिता पटेल, गीता आर्माे के द्वारा 15 दिवस के अंदर अंधी हत्या का पर्दाफाश करने में सफलता अर्जित की है। अंधे कत्ल के पर्दाफाश करने में लगे अधिकारी-कर्मचारियों को पुलिस अधीक्षक द्वारा नगद पुरूष्कृत करने की घोषणा की है।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *