बड़ी खबर…..जयसिंह मरावी सहित 9 लागों ने मिलकर की थी दलबीर सिंह की हत्या

गुनाह छुपाने के लिए गाड़ दी थी लाश, हुए आठों गिरफ्तार

अनूपपुर जिले के करनपठार थाने के गोरा टोला में रहता था मृतक

(शुभम तिवारी+91 78793 08359)
शहडोल। सिंहपुर पुलिस ने मंगलवार को अनसुलझी गुत्थी से पर्दा उठाते हुए 8 लोगों को गिरफ्तार किया और उन्हें न्यायालय में पेश कर जेल भेज दिया गया, वहीं दूसरी तरफ पुलिस अधीक्षक कुमार सौरभ के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी नरेन्द्र सिंह राजपूत और उनकी टीम अभी भी विवेचना में जुटी हुई है, उक्त मामले में पुलिस ने गुमशुदगी के मामले में मृतक को तलाशते गड्ढे में दफन उसकी लाश को निकलवाया और आरोपियों तक भी पहुंची। घटना के संदर्भ में बताया गया कि अनूपपुर जिले के थाना करनपठार की सरई चौकी से 2 किलोमीटर अंदर गोराटोला में रहने वाले दलबीर सिंह 5 मार्च को घर से अचानक गायब हो गया था, तीन दिनों तक तलाश करने के बाद स्थानीय थाने में 8 मार्च को गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी, वहीं 10 मार्च को म़ृतक के भाई समरजीत ने अपने भाई के संबंध में सिंहपुर थाने में सूचना दी, जिस आधार पर पुलिस तत्काल ही शव प्राप्त कर पंचनामा आदि किया और उक्त मामले को आईपीसी की धारा 302 तथा 201 ताहि के तहत विवेचना शुरू कर दी।

यह है घटना का सार
पुलिस सूत्रों की माने तो मृतक दलबीर सिंह के खेत में गणेश सिंह, मुन्ना बैगा, कमला बैगा, सहदेव सिंह, संतोष बैगा, वीरभान सिंह, रमेश सिंह, रति सिंह 5 मार्च की रात्रि इक_े हुए थे, वहां उनके द्वारा खेत में जंगली जानवरों को मारने के लिए 11 हजार वोल्ट की लाईन से जीआई तार खींचकर खूंटे गाड़ कर बिछा दी गई, लेकिन दलबीर खुद अपने साथियों के साथ बिछाये गये जाल में फंस गया और करंट की चपेट में आने से उसकी मौत हो गई। अपने साथी की लाश देखकर सब घबरा गये और उन्होंने इससे बचने के लिए उसकी लाश वहां से ले जाकर डोंगरी पहाड़ के नीचे बरमसिया की झाडिय़ों में छिपा दी, अगले दिन फिर वे रात में वहां पहुंचे और लाश को निकालकर बंजारी घाट से नीचे फेंक दिया, पुन: नीचे जाकर गड्ढा खोदकर लाश गाड़ दी और पत्थरों से उसे छु़पा दिया। पुलिस जब मृतक के भाई की शिकायत पर विवेचना करते हुए मौके पर पहुंची तो लाश को गड्ढे से निकलवाने के बाद अपराध कायम कर विवेचना शुरू कर दी।
विवेचना जारी, यह रहे टीम में
सिंहपुर पुलिस ने इस मामले में विवेचना करते हुए जयसिंह पिता प्रताप सिंह मरावी, रति सिंह पिता रूपलाल सिंह धुर्वे, गणेश पिता मोहन सिंह, मुन्ना पिता कंठूलाल बैगा, वीर सिंह पिता सम्मल सिंह मरकाम व संतोष पिता रामलाल बैगा सभी निवासी थाना करनपठार ग्राम गोराटोला को गिरफ्तार कर लिया गया। वहीं उक्त मामले में अभी धाराएं घटने व बढऩे की संभावनाएं है, उक्त घटना से पर्दा उठाने में निरीक्षक एन.एस. राजपूत, के.एन. बंजारे, महेन्द्र सिंह, बांके सिंह, मनोज शुक्ला, रामशरण दीवान, आदि ने प्रमुख भूमिका निभाई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *