भाजपा जिलाध्यक्ष ने खनिज निरीक्षकों से की अभद्रता

थाना पहुँचने से पहले ही सड़क पर रोक लिया वाहन

(शुभम तिवारी+91 78793 08359)
शहडोल। सोमवार की शाम 6 से 7 बजे के बीच ट्रांसपोर्ट नगरी में ऐसा वाक्या हुआ, जिसने खादी ओढ़कर खुद को पाक-साफ बताने वाले नेता की कलई खोलकर रख दी। कचहरी चौक से कचहरी के गेट के बीच हुई इस घटना को दर्जनों देखा, खनिज विभाग शहडोल से गये दो निरीक्षकों और एक नगर सैनिक के साथ भाजपा के जिलाध्यक्ष ने सरेराह अभद्रता की और भाईगिरी दिखाते हुए शासकीय काम में व्यवधान उत्पन्न कर अपने अधीनस्थ चल रहे ओव्हर लोड गिट्टी वाले वाहन को जबरिया उनके कब्जे से छुड़ाकर ले गये और प्रशासनिक नुमाईंदे डरे सहमे से सबकुछ देखते रहे।
जांच के दौरान पकड़ा वाहन
सोमवार की शाम क्षेत्र में चल रहे अवैध उत्खनन व परिवहन की लगातार आ रही शिकायतों के बाद खनिज विभाग के दो निरीक्षक मुनेन्द्र पटेल और सुरेश कुलस्ते, नगर सैनिक गणेश पाण्डेय के साथ बुढ़ार विकास खण्ड अंतर्गत वाहनों की जांच करने निकले थे, इस दौरान उन्होंने एक ट्रैक्टर और एक हाईवा जैतपुर तिराहे के आस-पास जांच के दौरान पकड़ा, दोनों ही वाहनों में गड़बड़ी पाये जाने पर कार्यवाही के लिए बुढ़ार थाने लाया जाने लगा, वाहन पकड़े जाने तक तीनों शासकीय कर्मचारियों को यह जानकारी नहीं थी कि पकड़ी गई हाईवा के सरपरस्त भाजपा जिलाध्यक्ष इन्द्रजीत ङ्क्षसह छाबड़ा है, खबर है कि ट्रक में प्राप्त रायल्टी पर्ची से इस बात की पुष्टि हुई कि ट्रक में लोड गिट्टी पुष्पराजगढ़ स्थित गोविंद स्टोन क्रेशर से लाई जा रही है, कागज में दर्ज मात्रा और वाहन में लदी गिट्टी उस मात्रा से कहीं अधिक होने के कारण शेष गिट्टी अवैध खनिज उत्खनन- परिवहन के अंतर्गत आती थी, इसलिए वाहन को लेकर तीनों प्रशासनिक कर्मचारी सुरक्षा की दृष्टि से बुढ़ार थाने की ओर ले गये।
शासकीय कार्य में पहुंचाई बाधा
खनिज विभाग के तीनों कर्मचारी गिट्टी से लदे हाईवा को लेकर बुढ़ार थाने से महज 100 से 200 मीटर दूरी पर ही थे कि भाजपा जिलाध्यक्ष इन्द्रजीत सिंह छाबड़ा एक अन्य के साथ वहां पहुंच गये, उन्होंने वाहन को रूकाया और फिर खनिज विभाग के दोनों निरीक्षकों से खुलेआम अभद्रता की, भाजपा जिलाध्यक्ष यहीं नही रूके, उन्होंने शासकीय कर्मचारियों को न सिर्फ बाधा उत्पन्न कर उन्हें कार्य करने से रोका बल्कि कार्य के दौरान उन्हें भद्दी गालिया भी दी। खबर है कि उक्त वाहन न तो उनके नाम पर पंजीकृत था और न ही गिट्टी उन्होंने खरीदी थी, यही नहीं जिस क्रेशर से गिट्टी लाई जा रही थी, वह क्रेशर भी उनका नहीं था, तो फिर शासकीय कर्मियों द्वारा जब्त किया गया वाहन लूट के अंदाज में किस अधिकार से भाजपा जिलाध्यक्ष ने छुड़ाया और अपने साथ लेकर चले गये।
गुर्गाे द्वारा की गई भाईगिरी
भाजपा के जिलाध्यक्ष और उनके गुर्गाे द्वारा की गई भाईगिरी के बाद दोनों खनिज निरीक्षक और नगर सैनिक डरे हुए हैं, यह इस बात से भी स्पष्ट होता है कि तीनों घटना को तो स्वीकार करते हैं, लेकिन मंगलवार को इस संबंध में तीनों की खामोशी और सत्ता का डर उनके चेहरे पर पूरे दिन बना रहा, हालाकि तीनों ने इस संदर्भ में अपनी बातें पूरी निर्भीकता के साथ रखी, यह मामला खनिज अमले सहित अन्य विभागों में भी मंगलवार को चर्चा में बना रहा, लेकिन कलेक्टर सहित जिले के अन्य आलाधिकारियों की चुप्पी संदेहास्पद रही।
कब से चल रहा कारोबार
सोमवार की शाम को हुई घटना न सिर्फ शर्मनाक है, बल्कि सत्ता और राजनैतिक दल की चादर ओढ़कर अवैध काम करने वालो को बेनकाब भी करती है, सोमवार की शाम जांच के दौरान खनिज निरीक्षकों को वाहन मिला, जिससे इस तरह के अवैध कारोबार का मामला सामने आया, लेकिन यह कारोबार कितने अर्से से चल रहा था और इससे पहले सत्ता की आड़ में कथित नेता कितना कारनामा कर चुके हैं, यह तो जांच के विषय है, जिस स्थान से गिट्टी आ रही थी और जहां विभाग द्वारा उत्खनन की अनुमति दी गई है, वहां के भौतिक सत्यापन के बाद और बड़े कारनामें उजागर हो सकते हैं, लेकिन सोचनीय पहलू यह है कि चाल-चरित्र और चेहरे के साथ अनुशासन का दंभ भरने वाले सबसे बड़े राजनैतिक दल के मुखिया खुद ही अपनी पार्टी के दामन पर दाग लगाने में जुटे हुए हैं।
इनका कहना है…
इस संबंध में आप खनिज वालों से ही पूंछे, मेरे को कोई जानकारी नहीं।
इन्द्रजीत सिंह छाबड़ा
भाजपा जिलाध्यक्ष
शहडोल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *