मंत्री के बड़बोलेपन ने बढ़ाई कोतमा नगर पालिका अध्यक्ष की मुसीबत, 58 करोड़ की जगह बोल गए 100 करोड़ का विकास कार्य

वर्तमान नगर परिषद के 134 कार्यों में 88 कार्य पूर्ण ,टोटल 26 करोड़ 45 लाख का से ज्यादा का विकाश कार्य हुआ पूर्ण, 31 कार्य प्रगति में और 10 कार्य स्वीकृत हुए हैं

कोतमा नगर पालिका में वर्तमान नगर परिषद ने अपने 5 वर्ष का कार्यकाल सफलतम तरीके से पूरे किए हैं जिसके बाद 2 सितंबर को विदाई समारोह का आयोजन किया गया। जहां नपा कोतमा द्वारा अपने-अपने किए गए कार्यों का लोकार्पण तथा कोतमा नगर को अपनी उपलब्धियों की जानकारी देनी चाही। लेकिन वर्तमान नगर परिषद की यह मनसा उनके मुसीबत का कारण बन रही है विदाई समारोह के मंच पर विराजमान मुख्य अतिथि मध्य प्रदेश के कैबिनेट खाद्य मंत्री बिसाहूलाल सिंह ने विवादित बयान देकर नगरपालिका के विदाई समारोह को फीका कर दिया। 5 वर्ष के कार्यकाल में 134 कार्यो जिसमे पूर्ण, प्रगतिशील, और स्वीकृत कार्य और 1024 पीएम आवास निर्माण सहित कार्यों को मिलाकर 58 करोड़ रुपये की लागत के कार्यो को 100 करोड़ बताकर नगर पालिका कोतमा के अध्यक्ष और वहां के पार्षदों की मुसीबतें बढ़ा दी हैं। जिससे नगर पालिका कोतमा के वर्तमान कार्य परिषदों की थू-थू पूरे नगर में हो रही है।

कोतमा। सदैव अपने भड़कीले बयानों से विवाद में घिरे रहने वाले मध्य प्रदेश के कैबिनेट एवं खाद्य मंत्री बिसाहूलाल सिंह ने हाल ही में कोतमा नगर पालिका के विदाई समारोह में शिरकत करते हुए 100 करोड़ के विकास कार्य का जुमला देते हुए कोतमा नापा को विवाद के कटघरे में खड़ा कर दिया है। विदाई समारोह में नगर से सम्मान के पात्र रहे इस कार्यपरिषद ने मंत्री के विवादित बयान के कारण अपने अंतिम कार्यकाल के दिन बड़े उलझन का सामना करना पड़ा। जहां अपनी ही सरकार के मंत्री की जुमलेबाजी पर तालियां बजाना पड़ा वही अपने 5 साल के सफलतम कार्यकाल पर विवादित बयान के द्वारा पानी फिरते हुए अंतिम दिन की विदाई ली गई। कोतमा नगर पालिका की अध्यक्ष मोहनी धर्मेंद्र वर्मा के कार्यकाल में किए गए कार्यों पर मंत्री के जुमलेबाजी ने उनकी समस्या को बढ़ा दिया है कोतमा नगर पालिका का पूरा नगर 100 करोड़ के विकास कार्य का लेखा जोखा मांग रही है जबकि कोतमा नपा द्वारा पीएम आवास सहित किए गए कार्यों को मिलाया जाए तो लगभग 58 करोड का कार्य किया है। जिनमें से 41 कार्य प्रगतिशील और प्रस्तावित है। जिसका विवरण विदाई समारोह में कागजों में दिया गया था लेकिन खाद्य मंत्री विशाल लाल सिंह के विकास के किए गए कार्यों को देखते हुए आकलन लगाते हुए 100 करोड रुपए की जुमलेबाजी कर दी गई जिससे वर्तमान नगर परिषद के ऊपर नगर भर में उंगलियां उठना शुरू हो गई है जिस पर अब ना तो कोतमा नगर पालिका अध्यक्ष सफाई दे पा रही है और ना ही नगरपालिका के सीएमओ मंत्री के दिए गए बयानों पर कुछ भी कहने से कतरा रहे हैं। अगर ऐसा ही रखा रहा तो हाल ही में होने वाले चुनाव में भाजपा को बड़ी मुसीबत का सामना मंत्री के दिए गए जुमलेबाजी बयान के कारण करना पड़ सकता है।

तो 26 करोड़ 45 लाख का हुआ निर्माण कार्य

नगर पालिका कोतमा के वर्तमान नगर परिषद के कार्यकाल में 134 कार्य में 88 कार्य अपने कार्यकाल के दौरान पूर्ण किए हैं और 31 कार्य प्रगति पर है वही 10 कार्य स्वीकृत हुए हैं जिसका अब तक का टोटल मूल्यांकन 58 करोड़ रुपये हुआ है जिसमें 1024 पीएम आवास स्वीकृत और पूर्ण भी सम्मिलित है जिसका टोटल भुगतान 25 करोड़ 60 लाख रुपये है। वही वर्तमान नगर परिषद के कार्यकाल के दौरान लगभग 26 लाख 45 हजार रुपये की लागत से निर्माण कार्य कार्यकाल के पूर्ण होने तक किए हैं। जिसका विवरण कार्यकाल के पूर्ण होने पर 2 सितंबर के विदाई समारोह में कोतमा नपा ने अपने कार्यों व उपलब्धियो को जनता के समक्ष रखा था । जहां मध्य प्रदेश के कैबिनेट मंत्री बिसाहूलाल सिंह ने अपने बड़बोलेपन या बड़बोले की आदत के कारण लगभग 26 करोड़ 45 लाख के निर्माण कार्यों और 1024 आवास के 25 करोड़ 60 के कार्य को 100 करोड़ का विकास कार्य बता गए जिसके बाद पूरे नगर घर में वर्तमान नगर परिषद के कार्यकाल की किरकिरी हो रही है मंत्री के जुमलेबाजी वाले बयान ने वर्तमान नगर परिषद के 5 साल के सफलतम कार्यकाल पर ग्रहण लगाने का कार्य कर रही है।

पार्टी का मंत्री तो सफाई में अध्यक्ष ने साधी चुप्पी

भारतीय जनता पार्टी और अनूपपुर जिले के खाद्य मंत्री बिसाहूलाल नगर पालिका अध्यक्ष कोतमा के करीबी माने जाते हैं वही भारतीय जनता पार्टी की सरकार होने के कारण 100 करोड़ के विकाश कार्यो की जुमलेबाजी वाले बयान पर कोतमा नगर पालिका अध्यक्ष ने चुप्पी साध रखी है। लेकिन कोर्ट में नपा अध्यक्ष किया चुप्पी भारतीय जनता पार्टी को आगामी चुनाव में कितना नुकसान पहुंचाएगी यह तो देखने की बात होगी फिलहाल नगर पालिका कोतमा के अध्यक्ष की चुप्पी ने वर्तमान कार्य परिषद की मुसीबतों को दोगुना कर दिया है कोतमा नगर की जनता वर्तमान नगर परिषद के द्वारा किए गए कार्यों का विवरण और लेखा-जोखा मांग रही है जो कि वर्तमान नगर परिषद के पार्षदों और अध्यक्षों के लिए मुसीबत का सबब बन गया है 100 करोड़ का विकास कार्य बता कर मंत्री जी ने तो जुमलेबाजी कर दी लेकिन अब संपूर्ण वर्तमान नगर परिषद विवाद के कटघरे में खड़ा कर दिया है।

लगभग 7 करोड़ के कार्य प्रगतिरत और स्वीकृत

कार्यकाल समापन के पूर्व नगर पालिका कोतमा की वर्तमान नगर परिषद ने 41 टेंडर के माध्यम से लगभग 7 करोड़ की लागत के कार्य प्रगतिरत और स्वीकृति कर अगले कार्य परिषद के लिए कार्यों को प्रस्तावित कर छोड़ गए हैं। जिसके अंतर्गत 85 लाख रुपए का ट्रेचिंग ग्राउंड निर्माण कार्य के साथ वार्ड क्रमांक 01,04, 05 ,06,07,08 और वार्ड क्रमांक 15 में दर्जनों करोड़ों की लागत के कार्य स्वीकृत करवाया गया है जिसे आने वाली नगर परिषद द्वारा पूर्ण किया जाएगा। वही 31 कार्य 4 करोड़ 32 लाख के प्रगतिरत है। जिसमें मुख्यमंत्री अधोसंरचना के तीसरे चरण में 1 करोड़ 33 लाख का शॉपिंग कंपलेक्स सहित सड़क निर्माण कार्य प्रगति पर है जो कि जल्द ही कोतमा नगर के लिए सुविधाजनक होगा।
हाल फिलहाल देखा जाए तो मध्य प्रदेश के कैबिनेट मंत्री बिसाहूलाल सिंह की जुमलेबाजी ने 100 करोड़ के विकास कार्य की जुमलेबाजी के कारण वर्तमान नगर परिषद के सफलतम कार्यकाल को ग्रहण लगाने का कार्य बखूबी किया है जिसका खामियाजा आने वाले नगरी निकाय चुनाव में देखने को मिलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed