मुख्य नपा अधिकारी सहित सहायक यंत्री, उपयंत्री को आरोप पत्र जारी

मुख्य नपा अधिकारी सहित सहायक यंत्री, उपयंत्री को आरोप पत्र जारी

आर्थिक अनिमितताओं के हैं आरोप

शहडोल । आयुक्त आर.बी. प्रजापति ने विद्याशंकर चतुर्वेदी तत्कालीन मुख्य नगरपालिका अधिकारी शहडोल वर्तमान परियोजना अधिकारी, शहरी विकास अभिकरण सतना, देवकुमार गुप्ता उपयंत्री एवं बृजेन्द्र प्रसाद वर्मा सहायक यंत्री  को विभागीय जांच संस्थित किये जाने से संबंधित आरोप पत्र जारी किया है। जारी आरोप पत्र में आरोपों का विवरण अभिलेख की सूची एवं साक्ष्य की सूची संग्लन कर अधिरोपित किये गये आरोप के संबंध में 7 दिवस के अंदर लिखित प्रतिवाद प्रस्तुत करते हुए यह अवगत कराने हेतु उल्लेखित किया गया है कि विभागीय जॉच प्रकरण में प्रत्यक्ष सुनवाई चाहते है, मौखिक जांच चाहते है, अपने बचाव में कोई तथ्य, साक्ष्य इत्यादि प्रस्तुत करना चाहते है यदि हॉ तो सूची प्रस्तुत करें। साथ ही यदि आरोप पत्रादि के प्रति उत्तर में लिखित प्रतिवाद नियत समयावधि में प्रस्तुत नहीं हुआ तो यह माना जाऐगा कि इस संबंध में आपको कुछ नहीं कहना है तथा प्रकरण में नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी।

प्रशासकीय शर्तों का उल्लंघन

नगरपालिका में मोहनराम तालाब के पास रिटेनिंग बाल ए साइट कार्य में विभागीय कार्यो हेतु सामग्री पूर्व स्वीकृत दर पर क्रय किया एवं मजदूरो का मस्टर न बनाकर लेवर कॉन्टेक्ट के रूप में भुगतान किया। मध्यप्रदेश लेखा नियम 1971 की धारा 38 का उल्लंखन करते हुए आपके द्वारा खण्डश: तकनीकि स्वीकृत प्राप्त की गई। प्रशासकीय स्वीकृति के शर्त क्रमांक 08 का उल्लखंन करते हुए कार्यपालन यंत्री लोक निर्माण विभाग से मूल्यांकन नही कराया गया है और सामग्री बिना गुणवत्ता परीक्षण किए 14 लाख 53 हजार 102 रूपये का भुगतान किया गया जो प्रदाय आदेश से 5 लाख 86 हजार 132 रूपये का अधिक भुगतान किया गया। 

02 करोड़ 91 लाख की आर्थिक अनिमितता

उक्त आधिकारियों पर आरोप है कि सामग्री गुणवत्ता परीक्षण किए हुए 15 लाख 86 हजार 78 रूपये का भुगतान का किया गया जो प्रदाय आदेश से 03 लाख 89 हजार 11 रूपये अधिक किया गया। जारी आरोप में बिना सामग्री गुणवत्ता परीक्षण के एवं सीधे कोटेशन लेकर 08 लाख 11 हजार 451 रूपये का भुगतान किया गया। आपके द्वारा सामग्री गुणवत्ता परीक्षण के 19 लाख 87 हजार  345 रूपये का भुगतान किया गया जो जारी आदेश से 06 लाख 5 हजार 493 रूपये अधिक है। इसी प्रकार अन्य आर्थिक भुगतान की अनियमितता भी पाई गई है। आपने सहायक यंत्री पदस्थगी के दौरान शासन कुल  02 करोड़ 91 लाख 54 हजार 548 रूपये की आर्थिक अनियमितता की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *