मैं सिम्मा बोल रहा हूँ, सुनते ही छोड़ दी गाड़ी

(Amit Dubey-8818814739)
शहडोल। पुलिस अधिकारियों पर कबाड़, कोयला, सट्टा जैसे आपराधिक गिरोहों को संरक्षण देने के आरोप तो लगते रहे हैं, लेकिन यह बात भी साफ है कि जब-जब ऐसे आरोप सतह पर आये हैं, पुलिस अधिकारियों ने ऐसे लोगों से पल्लाझाड़ कर कार्यवाही करना ही मुनासिब समझा है, नई घटना गुरूवार सुबह 10 बजकर 50 मिनट की है, जहां अमलाई थाना में पदस्थ एसआई विपिन पाल द्वारा थाना क्षेत्र के अंतर्गत मुख्यमार्ग कान्वेंट स्कूल के समीप अवैध कबाड़ से लदी एक पिकप को खड़ा कराया गया। वाहन में लदे कबाड़ को देखने के बाद वाहन चालक से इस संबंध में जानकारी ली गई, पिकप को सड़क पर खड़ा करके वाहन चालक नीचे आया और उसने थाना क्षेत्र के किसी सिम्मा नामक कबाड़ी का कबाड़ होना बताया, पुष्टि के लिए एसआई ने मोबाइल पर बात कराने को कहा, इसके बाद मोबाइल में बात करने के बाद जब इस बात की पुष्टि हो गई कि अवैध कबाड़ सिम्मा का ही है, तो उसे छोड़ दिया गया।

पकड़ा नहीं ले रहा था सूचना
मुख्यमार्ग पर पुलिस और अवैध कारोबारी के गुर्गे की बातें टैप हो जाने के बाद इस संबंध में पुलिस अधिकारी विपिन पाल ने कहा कि गाड़ी में क्या लदा था, मुझे नहीं मालूम, कथित व्यक्ति मुझे सूचनाएं देता है, इसलिए मैं उसे रोककर कुछ सूचनाएं ले रहा था।

मैं तो सिम्मा से बात करा दी
अमलाई इन्द्रा नगर में बीते 3 से 4 वर्षाे से अवैध कबाड़ का कारोबार चल रहा है, इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि इन कारोबारियों को अमलाई पुलिस की शह मिली हुई है, गाड़ी छूट जाने के बाद अवैध कबाड़ पिकप में ले जा रहे, वाहन चालक ने अपने बयान में इस बात की पुष्टि खुद की कि एसआई द्वारा गाड़ी रोकने के बाद मैंने उसे सिम्मा का कबाड़ बताया और मोबाइल पर उससे बात करा दी, तो उसने मुझे छोड़ दिया।
इनका कहना है…
मैं इस संबंध में कुछ नहीं जानता, बात करने के बाद ही कुछ कह पाऊंगा।
भरत नोटिया
थाना प्रभारी ,अमलाई


मामला गंभीर है, जांच कर आवश्यक कार्यवाही की जायेगी।
अनिल सिंह कुशवाह
पुलिस अधीक्षक, शहडोल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *