यहां नशीली दवाएं बिगाड़ रही है कोयलांचल की सेहत

 

नशीली दवाओं के सौदागरों पर तेज हो अभियान
पुलिस की पकड़ में आते है प्यादे
सरगनाओं से कोसों दूर …..

धनपुरी/शहडोल-बीते एक दशक में धन की नगरी धनपुरी नशीली दवाओं की अवैध बिक्री का गढ़ बन चुकी है शुरुआत हुई दवा दुकानों से जब यह नशीली दवा सिर्फ और सिर्फ धनपुरी नगर के अंदर चर्चित दवा दुकानों से ही बिकती थी नशीली दवाओं की अवैध बिक्री करके कुछ दुकानदार जमकर मुनाफा भी कमा चुके हैं उसके बाद नशीली दवाओं की अवैध बिक्री का कारोबार इतना बढ़ गया की दवा दुकानदारों के बस का नहीं रहा दवा दुकानदारों के मुनाफे को देखते हुए कुछ लोगों ने दूर दूसरे शहरों से नशीली दवा लाकर खुद बेचना शुरू किया यहीं से शुरुआत होती है धनपुरी नगर के नशीली दवाओं के गढ़ बनने की और आज हालात यह हो चुके हैं की सिर्फ चर्चित दवा दुकान को छोड़कर कहीं से भी नशीली दवा शायद ही बिकती हो धनपुरी नगर में गली गली नशीली दवाओं की खाली शीशियां रास्तों पर सार्वजनिक मूत्रालयों में बाजारों में फेंकी हुई मिल जाएगी बघइयां पुल के पास बंगवार जाने वाले रास्ते में दाएं हाथ की ओर संचालित एक होटल के पीछे हजारों की संख्या में खाली शीशियां फेंकी हुई देखी जा सकती हैं इससे अंदाजा लगाया जा सकता है की नशीली दवाओं की लत का शिकार हो चुके कहां बैठकर इसे पीते होंगे शुरुआत में जब नशीली दवा नशेड़ियों को दुकानों से खरीदनी पड़ती थी तो उसे लाल बत्ती खरगोश जैसे चर्चित नाम भी धनपुरी नगर ने दिया था चोर पुलिस चूहे बिल्ली का यह खेल तो वर्षों से चला आ रहा है लेकिन नशीली दवाओं के अवैध व्यापार को जड़ से खत्म करने के लिए जितने प्रयास अभी तक हो चुके हैं उससे बेहतर प्रयास करने होंगे
समय-समय पर पुलिस की पकड़ में आए हैं धनपुरी के सच्चे कपूत-धनपुरी नगर में नशीली दवाओं का अवैध व्यापार संचालित करने वाले कोई और नहीं बल्कि धनपुरी के ही सच्चे सपूत हैं जिन्हें सपूत कहा जाए या कपूत नगर की जनता अच्छे से जानती हैं इन्होंने मानो भीष्म प्रतिज्ञा ले रखी हो की नगर में युवाओं के भविष्य को चौपट करना ही हमारे जीवन का लक्ष्य है और यह प्रतिज्ञा भीष्म की तरह अटल है अमर है बीते एक दशक में ना जाने नशीली दवाओं के कितने सौदागर पुलिस के द्वारा पकड़े जा चुके हैं इस वर्ष जनवरी माह में ही धनपुरी पुलिस के द्वारा उस्मान उर्फ काली पप्पू पिता स्वर्गीय अब्दुल अजीज उम्र 48 साल निवासी अमरकंटक रोड धनपुरी नंबर 4 को धनपुरी पुलिस ने 13 सीसी आरसी कफ सिरप एवं 8 सीसी ऑन रेक्स कफ सिरप के साथ गिरफ्तार किया था इस कार्यवाही को करने में धनपुरी थाने में पदस्थ तत्कालीन उप निरीक्षक योगेंद्र सिंह परिहार प्रधान आरक्षक लालजी श्रीवास्तव आरक्षक ज्ञानेंद्र सिंह एवं शंकर का सराहनीय योगदान था इसी प्रकार सुनील रैदास पिता गणेश प्रसाद रैदास उम्र 31 साल निवासी बिलियस नंबर दो को नशीली दवाओं की अवैध बिक्री करते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया गया था नशीली दवाओं के इस सौदागर को गिरफ्तार करने में उप निरीक्षक नंदू लाल प्रजापति आरक्षक सतीश चौरसिया एवं शंकर प्रजापति का सराहनीय योगदान था नशीली दवाओं के सौदागर लगातार धनपुरी पुलिस के हत्थे चढ़ रहें थे इसी बीच पुलिस को नशीली दवाओं के एक पुराने सौदागर अनुज गुप्ता पिता पूरनलाल उर्फ मुन्नी गुप्ता उम्र 24 साल निवासी सरकारी टोला धनपुरी को 10 नग आरसी कफ सिरप बेचते हुए रंगे हाथ पकड़ने में सफलता प्राप्त हुई इस कार्यवाही में उप निरीक्षक नेहा उइके एवं आरक्षक हरपाल सिंह का सराहनीय योगदान रहा संजू महरा पिता जीत लाल मेहरा उम्र 19 वर्ष निवासी वार्ड नंबर 15 नीरज सिंह पिता सुंदरलाल सिंह उम्र 19 वर्ष निवासी वार्ड नंबर 2 धनपुरी 21 पत्ते नशीली दवाओं के साथ गिरफ्तार हुए थे इस कार्यवाही को करने में उपनिरीक्षक नेहा उइके एवं आरक्षक सतीश चौरसिया का सराहनीय योगदान रहा
जनता को भी करना होगा अपने कर्तव्यों का पालन-नशीली दवाओं की अवैध बिक्री के गढ़ बन चुके धनपुरी नगर को यदि नशीली दवाओं के चंगुल से बचाना है तो नगर के हर नागरिक को अपने कर्तव्यों का पालन इमानदारी से करना होगा यदि नशीली दवाओं की अवैध बिक्री करने वालों की जानकारी हम प्रशासन तक बिना डरे साझा करेंगे तो बहुत ही कम समय में नशीली दवाओं के अवैध व्यापार को जड़ से खत्म किया जा सकता है नशीली दवाओं की अवैध बिक्री करते हुए पकड़ाए जाने वाले लोगों का सामाजिक बहिष्कार करना धनपुरी के युवाओं के सुनहरे भविष्य के लिए अति आवश्यक हो चुका है क्योंकि नशीली दवाओं की अवैध बिक्री करके लाखों रुपए कमाने वाले इन लोगों को एहसास होना चाहिए की तुम युवाओं के रगों में जहर घोलने वाले नगर के दुश्मन हो और दुश्मनों से दोस्ती बेवकूफ करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *