रिलायंस ने दी स्मार्ट क्लास-साइंस लैब की सौगात

65 मॉडल स्कूलों के 2900 छात्र-छात्राएं हो रहे लाभान्वित

(शुभम तिवारी+91 87703 54184)
शहडोल। रिलायंस सी.बी.एम सी.एस.आर. परियोजना के अंतर्गत आने वाले ग्रामों में रिलायंस फाउडोसन द्वारा विभिन्न सामुदायिक विकास संबंधित कार्य नियमित रूप से करवाए जा रहे है, पूर्व में शिक्षा के क्षेत्र में बालिकाओं के आवागमन हेतु परियोजना के द्वारा दो बसों के संचालन की शुरूआत की गई है, साथ ही साथ विद्यालयों में अध्ययनरत छात्र एवं छात्राओं को किताब-कापी एवं स्कूल बैगों का वितरण किया जाता आ रहा है, तथा युवाओं को कौशल विकास संबंधित प्रशिक्षण विभिन्न प्रशिक्षण केन्द्रो के माध्यम से करवाया जा रहा है।
मॉडल का संभाग में अनुशरण
जिले की औसत साक्षरता दर 66.67 प्रतिशत है और परिवार की साक्षरता दर 57 प्रतिशत से भी कम है। अनुपस्थिति पर अंकुश लगाने और कक्षा को अधिक आकर्षक और परस्पर संवेदनात्मक बनाकर नामांकन बढ़ाने के लिए वर्तमान में रिलयांस फाउंडेशन में अपने कोल बेड मीथेन प्रोजेक्ट के आसपास के क्षेत्रों में स्मार्ट क्लासेस के साथ 21 सरकारी स्कूलों (17 गावों) का समर्थन कर रहा है। पूरे भारत भर में रिलायंस फाउंडेशन की सी.एस.आर. गतिविधियों में शिक्षा हमेशा एक प्रमुख विषयगत क्षेत्र रहा है, और संभाग में भी इसी मॉडल का अनुशरण किया जा रहा है।
65 मॉडल विद्यालय में मिलेगी सुविधा
डिजिटल शिक्षा को बढ़ावा देने हेतु 21 विद्यालयों में स्मार्ट क्लास की स्थापना एवं संचालन तथा 05 विद्यालयों में मिनी साइंस लैब की स्थापना की गई है। मिनी साइंस लैब के माध्यम से पढ़ाई में आने वाली संकल्पनाओं को अब 65 मॉडल के माध्यम से बच्चों को और सरल एवं बेहतर तरीके से समझाया जा सकेगा, स्कूल प्रबंधन द्वारा इस आधुनिक तकनीक के विद्यालय में आने से छात्रों की रूचि पढ़ाई में बढऩे के साथ-साथ उपस्थिति एवं शिक्षा की गुणवत्ता में भी सुधार हुआ है। परियोजना के आसापास का क्षेत्र उन समुदायों द्वारा बसा हुआ है जो अपने बच्चों की शिक्षा पर उचित ध्यान नहीं दे रहे हैं। यह सुविधा अभिभावकों को एक अतिरिक्त हाथ प्रदान करना है। इससे तुरंत सूचना और सीखने के परिणामों में भी सुधार हुआ है।
डिजिटल क्लास रूम की स्थापना
स्मार्ट क्लास उपकरण इंटरनेट और वाई-फाई से लैस हैं, जो सरकारी स्कूलों के शिक्षकों को मल्टीमीडिया सामग्री और ऑनलाइन जानकारी एक्सेस करने में मदद करता है। इससे छात्रों को नोटबुक में स्थिर छवियों की तुलना में अवधारणाओं को बेहतर ढंग से देखने में मदद मिलती है। डिजिटल क्लास रूम के माध्यम से, रिलायंस फांउडेसन द्वारा छात्रों को अधिगम और प्रौद्योगिकी आधारित शिक्षा को बढ़ावा दे रहा है। स्कूलों में स्मार्ट कक्षाओं के कामकाज की देखरेख और सहायता के लिए समर्पित व्यक्तियों को काम पर रखा गया है, वे डिजिटल कक्षाओं के कामकाज में सुधार के किसी भी क्षेत्र का आकलन करने के लिए नियमित रूप से छात्रों और शिक्षकों से प्रतिक्र्रिया लेते हैं एवं समय-समय पर रखरखाव का निरीक्षण करतें है।
2900 से अधिक होंगे लाभान्वित
एक स्मार्ट क्लास सेटअप में पाठ्यक्रम के अनुसार प्रोजेक्टर, सी.पी.यू. कीबोर्ड, माउस, अबाधित विद्युत आपूर्ति प्रणाली और स्मार्ट क्लास साफ्ॅटवेयर सामग्री होती है। वर्तमान में इन स्मार्ट कक्षाओं में सामग्री हिंदी व्याकरण, अंग्रेजी व्याकरण, सामाजिक विज्ञान, विज्ञान और गणित के लिए प्रदान की जाती है। रिलायंस इंडस्ट्रीज, सी.बी.एम.,सी.एस.आर. की इस एक गतिविधि से इन स्कूलों के 2900से अधिक छात्र लाभान्वित हैं। रिलायंस की इस पहल को छात्रों और शिक्षकों दोनों ने समान रूप से सराहा है।
यहां संचालित हैं स्मार्ट क्लास
शासकीय माध्यमिक विद्यालय, धुरवार, ब्लॉक-सोहागपुर, शासकीय माध्यमिक विद्यालय, लालपुर, ब्लॉक-सोहागपुर, शासकीय माध्यमिक विद्यालय, नौगई, ब्लॉक-सोहागपुर, शासकीय माध्यमिक विद्यालय, नदना, ब्लॉक-सोहागपुर, शासकीय माध्यमिक विद्यालय, पोंगरी, ब्लॉक-सोहागपुर शासकीय माध्यमिक विद्यालय, ब्लॉक-सोहागपुर, शासकीय माध्यमिक विद्यालय, सेंदुरी, ब्लॉक-सोहागपुर, शासकीय माध्यमिक विद्यालय, ब्लॉक-सोहागपुर, शासकीय माध्यमिक विद्यालय, नवलपुर, ब्लॉक-सोहागपुर, शासकीय माध्यमिक विद्यालय, देवरी-1, ब्लॉक-सोहागपुर, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, धुरवार, ब्लॉक-सोहागपुर, सरस्वती शिशु विद्या मंदिर, हवाई पट्टी, लालपुर, ब्लॉक-सोहागपुर, शासकीय एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय, धुरवार, ब्लॉक-सोहागपुर, एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय, धुरवार, ब्लॉक-सोहागपुर, शासकीय माध्यमिक विद्यालय, बिरहुली, ब्लॉक-बुढ़ार, शासकीय माध्यमिक विद्यालय, कटकोना, ब्लॉक-बुढ़ार, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, साबो, ब्लॉक-बुढ़ार, शासकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, सेमरा, ब्लॉक-बुढ़ार, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, बिरहुली, ब्लॉक-बुढ़ार, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, देवरी-1,ब्लॉक-गोहपारू, शासकीय माध्यमिक विद्यालय, धनगवां, ब्लॉक-गोहपारू।
मिनी साइंस लैब
शासकीय माध्यमिक विद्यालय, धुरवार, ब्लॉक-सोहागपुर, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, बिरहुली, ब्लॉक-बुढ़ार, शासकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, सेमरा, ब्लॉक-बुढ़ार, एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय, धुरवार, ब्लॉक-सोहागपुर, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, निगवानी, ब्लॉक-कोतमा।
किताबो की परिकल्पनाओं को समझने में आसानी

छात्रा रागिनी यादव कक्षा-9वीं शासकीय हाईस्कूल धुरवार ने बताया कि स्मार्ट क्लास के माध्यम से पढ़ाई और भी दिलचस्प हो गई है, पहले चीजें सिर्फ ब्लैक बोर्ड व कापी किताबों तक ही सीमित थी, लेकिन अब प्रोजेक्टर और चलचित्र के माध्यम से चीजे और जल्दी समझ आती है। छात्रा आंशिका मिश्रा कक्षा 9वीं शासकीय हाईस्कूल धुरवार ने कहा कि संाइस लैब पहले सिर्फ 11वी एवं 12वीं के विद्यार्थियो के लिए थी लेकिन अब 9वीं एवं 10वीं के विद्यार्थी भी रिलायंस द्वारा प्रदत्त लैब का लाभ ले पा रहे हैं, जिससे किताबों में पढ़े जाने वाली परिकल्पनाओं को समझने में बहुत आसानी हुई है।
आधुनिक तकनीक से बदला स्तर
रिलायंस द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में उठाए गये कदम प्रशंसनीय है, आधुनिक तकनीको से शिक्षा ग्रहण कर रहे इस विद्यालय के बच्चों में पढ़ाई के लिए और रूचीबद्धता देखी गई है, कम समयावधि में समान दक्षता से ज्यादा पाठ्यक्रम पढ़ाया जा पा रहा है, जिससे बच्चों को रिविजन के लिए ज्यादा समय मिल पा रहा है।
अनुराग जैन
प्राचार्य, शासकीय हाई स्कूल, धुरवार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *