लोक सेवक की जबान फिसली तो, आदिवासी महिला ने उठा ली चप्पल

बरगवां के प्रभारी सचिव दूसरे जिले के मजदूरों से ठेके पर करवा रहे थे काम

(अमित दुबे+8818814739)
अनूपपुर/ शहडोल। भ्रष्टाचार और विवादों के लिए सुर्खियों में रहने वाली शहडोल और अनूपपुर जिले की सीमा पर स्थित ग्राम पंचायत बरगवां मंगलवार को फिर चर्चाओं में बनी रही, दरअसल पंचायत द्वारा नाली का निर्माण खुद न कराकर शहडोल जिले के धनपुरी में रहने वाले कुर्बान नामक ठेकेदार को ठेके पर देकर करवाया जा रहा था, जिसमें शहडोल जिले के ग्रामों से दर्जनों मजदूर यहां काम पर लगा रखे थे, जिस वार्ड में कार्य चल रहा था, वहां की महिला पंच सहित अन्य आदिवासी मजदूर, गांव के अन्य पंच, उपसरपंच व जनपद सदस्य ने मामला जनपद व जिला पंचायत के संज्ञान में लाया। https://youtu.be/6TRR_TMiFyE

जिला पंचायत सीईओ सरोधन सिंह के आदेश पर जनपद सीईओ इमरान सिद्धीकी एवं एपीओ अनुराग निगम जांच करने मौके पर पहुंचे, पंचों व अन्य आदिवासी महिला मजदूरों ने सीईओ को पूरी व्यथा सुनाई, इस दौरान ग्राम के प्रभारी सचिव राजेन्द्र साहू आदिवासी महिलाओ से चर्चा के दौरान अपनी जबान से फिसल गये और महिलाएं भड़क गई, जनपद सीईओ के सामने आदिवासी महिलाओं ने चप्पल उतारकर अपने अपमान का बदला लेना चाहा, लेकिन सीईओ की तत्परता से मारपीट होते-होते बच गई, अंत में प्रभारी सचिव ने महिलाओं से माफी भी मांगी।

https://youtu.be/6TRR_TMiFyE
यह कर रहे थे प्रभारी सचिव
जैतहरी जनपद के ग्राम केल्हौरी मे पदस्थ सचिव राजेन्द्र साहू को ग्राम बरगवां का अतिरिक्त प्रभार बीते माहों में दिया गया था, पंचायत में होने वाले निर्माण कार्याे में प्रभारी सचिव ने सरपंच को तो अपने साथ मिला लिया, लेकिन गांव के लगभग पंचों, उप सरपंच, जनपद सदस्य और रोजगार सहायक तक को किनारे कर दिया, पंचायत के निर्माण कार्याे को सचिव द्वारा ठेके पर बिना अनुमति व सूचना के देना शुरू किया। पूर्व में पंचायत में बनने वाले यात्री प्रतिक्षालय अजय सिंह ठाकुर को ठेके पर दिया गया। उसके बाद उक्त नाली निर्माण को भी शहडोल के किसी कुर्बान नामक ठेकेदार को दे दिया, मंगलवार को जब सीईओ और एपीओ मौके पर पहुंचे तो कार्य करा रहे कुर्बान के पुत्र ने सचिव द्वारा निर्माण कार्य ठेके पर दिये जाने की बात स्वीकारी, सचिव के इसी मनमानी के कारण पंचायत में विवाद की स्थिति निर्मित हुई और भविष्य में कभी भी कोई बड़ी अनहोनी हो सकती है।

https://youtu.be/6TRR_TMiFyE
संभागायुक्त ने मांगी जिंप सीईओ से रिपोर्ट
सचिव द्वारा पंचायत के कार्य ठेके पर देने और आदिवासी महिलाओ से बदतमीजी करने के मामले को संभागायुक्त आर.बी. प्रजापति ने जानकारी मिलने के बाद संज्ञान में लिया और जिला पंचायत सीईओ सरोधन सिंह को दूरभाष पर मामले की जांच और कार्यवाही करने के आदेश दिये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed