वन विभाग ने अवैध कब्जे पर की कार्यवाही, मौके से निर्माण सामग्री वन विभाग ने किया जप्त साथ में मामला भी किया दर्ज

Ajay Namdev- 7610528622

राजनगर। वैसे तो क्षेत्र में वन विभाग की जमीन पर अवैध कब्जा निरंतर जारी है वहीं स्थानीय वन विभाग के कर्मचारियों को सूचना देने के बावजूद भी कार्यवाही नहीं होती जब इसकी शिकायत वरिष्ठ अधिकारियों को दी जाती है तब जाकर कार्यवाही होती है। ऐसा ही मामला वन परिक्षेत्र कोतमा अंतर्गत राजनगर वन चौकी के सेक्टर सी के पास शुक्रवार- शनिवार की रात्रि को स्थानीय वन विभाग के कर्मचारियों की मिलीभगत से जमीन पर कब्जा करते हुए घर बना लिया था  जिसके बाद इसकी शिकायत सीसीएफ शहडोल से की गई जिसके बाद तत्काल ही सीसी अपने कोतमा रेंजर को कार्यवाही के निर्देश दिए 
दल बल के साथ पहुंचकर की कार्यवाही – कोतमा रेंजर ने अपनी टीम के साथ आकर वन विभाग की जमीन पर बनाए गए रातों-रात बनाए मकान पर कार्यवाही करते हुए अपराध क्रमांक 16 / 2/ 2019 के तहत आरोपी अशोक कुशवाहा पिता   देवबन  कुशवाहा उम्र 31 वर्ष निवासी राज नगर बाजार दफाई के ऊपर मामला पंजीबद्ध किया गया !
मौके से जप्त की निर्माण सामग्री

मौके पर पहुंचे कार्रवाई के लिए वन विभाग की टीम ने सीमेंट की शीट व जी आई पाइप भी जप्त करते हुए कार्यवाही की वहीं जब समान को अपने साथ फॉरेस्ट ऑफिस ले जाया गया इस कार्रवाई से आसपास के क्षेत्र में हड़कंप मचा हुआ है !
पूर्व में शिकायत  करने पर वन विभाग कर रहा था आनाकानी

अवैध कब्जे को लेकर स्थानीय लोगों ने पूर्व में भी स्थानीय वन विभाग के कर्मचारियों अधिकारी को शिकायत दर्ज कराई थी लेकिन कोतमा रेंजर के द्वारा इस जमीन को एसईसीएल की जमीन बता कर मामले को दबाया जा रहा था  जब इसकी शिकायत सीसीएफ शहडोल से की गई उसके बाद कोतमा रेंजर के द्वारा इस पर कार्यवाही की गई !
कार्यवाही के दौरान नेताओं की बस्ती रही घंटी – जिस वक्त वन विभाग के कर्मचारी अवैध  कब्जा से कब्जा हटाने के लिए कार्यवाही कर रहे थे उस  दौरान नेताओं के फोन की घंटी अधिकारियों के पास बचती रही वही कार्यवाही के दौरान कोतमा रेंजर से किसी नेता के फोन पर कहा जा रहा था कि सामान जप्त ना करें लेकिन कोतमा रेंजर ने कहा अगर हम कारवाही नहीं करते हैं तो मुझ पर भी निलंबित तक की कार्यवाही हो सकती है गौरतलब है कि वन विभाग टीम के द्वारा पूर्व में भी दो बार यहां पर कार्रवाई की जा चुकी है जिस पर दो लोगों के नाम से मामला भी दर्ज किया गया था जो अब तक न्यायालय में विचाराधीन है !
 इनका कहना है –
अधिकारियों के निर्देश पर राजनगर परीक्षेत्र में अवैध रूप से वन विभाग की जमीन पर  कब्जा करने की कार्यवाही की गई है औऱ मौके से निर्माण सामग्री भी जप्त की गई है मामला दर्ज कर उच्च अधिकारियों को अवगत करा दिया गया है ।
सिद्धार्थ दीपांकर रेंजर कोतमा

Leave a Reply

Your email address will not be published.