सड़क के गड्ढे बने जानलेवा, प्रशासन उदासीन

(रामनारायण पाण्डेय+91 99938 11045 )
जयसिंहनगर। रीवा-अमरकंटक मार्ग समझ कर सरपट भागने की कोशिश जान लेवा हो सकती है, क्योंकि इस नाम से चर्चित जयसिंहनगर जनपद मुख्यालय में सड़कों की हालत वैसी नहीं हैं। कारण गड्ढे में सड़क है, या फिर सड़क में गड्ढे यह पता भी नहीं चलेगा। इनमें कुछ तो डेंजर जोन के रूप में मुंह बाए खड़ी है। नगर की हालत ऐसी है कि सड़कों पर कभी सीवरेज का पानी जमा रहता है, तो कभी बारिश का। ऐसे में इन गड्ढों वाली सड़कों की हालत ऐसी बन चुकी है कि सावधानी हटी तो दुर्घटना घटी। हास्यास्पद तो यह कि ही यह नगर पंचायत सहित पीडब्ल्यूडी को दिखाई नहीं दे रहा है। लाखों खर्च कर बनाई इन सड़कों की दशा और दुर्दशा को देखने वाला कोई नहीं है। दिन के समय जहां स्कूली बच्चों सहित सभी के लिए खतरा बना हुआ है, वहीं रात का सफर तो बिल्कुल ही नहीं किया जा सकता।
रोजे होते हैं हादसे, कोई नहीं देता ध्यान
नगर में सड़कों की हालत खस्ता होने से हर रोज लोग हादसों का शिकार हो रहे हैं, प्रशासन इस तरफ कोई ध्यान नहीं दे रही है। अगर सड़कों की हालत ठीक होती तो हादसे कम होते हैं। यहां की टूटी फूटी ज्यादातर हादसों के लिए जिम्मेदार हैं। हाल ही में पाईप लाईन बिछाने के नाम पर जहां एक ठेकेदार ने रोड खोदकर पाईप लाईन बिछाई, मजे की बात तो यह है उसने उसी जगह पर अनाधिकृत रूप से ब्रेकर का निर्माण कर दिया, बाईक पार करने पर अधिकांश लोग दुर्घटना के शिकार होने के बाद जब इसकी शिकायत थाना में हुई तो ब्रेकर को थोड़ा कम कर दिया गया।
तालाब बनी सड़क
मरम्मत के अभाव में पहले से ही नगर के अंदर की सड़कें बरसात के बाद खतरनाक हो गई हैं। सड़क पर बने गड्ढों में कीचड़ भरे जलजमाव से राहगीरों को आवागमन में दुश्वारियों का सामना करना पड़ रहा है। कुछ ऐसा ही हाल रीवा-अमरकंटक मार्ग का भी है। गड्ढों से मुक्ति दिलाने की मांग पर विभागीय अधिकारी संजीदगी का परिचय नहीं दे रहे हैं, इसे लेकर स्थानीय लोगों में रोष है। मार्ग पर बने बड़े-बड़े गड्ढे राहगीरों के लिए पहले से ही मुसीबत का सबब बने हुए थे कि इस बीच गत दिनों हुए बरसात के बाद गड्ढे कीचडय़ुक्त गंदे पानी से लबालब हो गए हैं, उसमें उलझकर बाइक, साइकिल सवार चोटिल हो रहे हैं। चार पहिया वाहनों के आवागमन के दौरान पैदल व साइकिल से यात्रा कर रहे लोगों, स्कूली बच्चों के कपड़े गंदे पानी से सन जाते हैं, इसे लेकर आए दिन विवाद की नौबत भी देखी जा रही है। वहीं स्कूली बच्चे भी स्कूल नहीं जा पाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *