साइबर कैफे की आड मेंं करता था ई-टिकट का धंधा

Ajay Namdev-7610528622

अनूपपुर। 20 मई को निरीक्षक आर.पी. सिंह रेसबु/अगुशा/अनूपपुर अपते मातहत अधिकारी बल सदस्यों एवं स्थानीय पुलिस सिटी कोतवाली शहडोल के साथ बुढार चौक शहडोल में स्थित पुष्पांजली कम्प्यूटर (साइबर कैफे) दुकान में जाकर दुकान संचालक को दुकान में चल रहे ई-टिकट के कार्य को चेक करने पर वरूण पिता स्व. विरेन्द्र सिंह उम्र 31 वर्ष निवासी सरदार पटेल नगर, वार्ड क्रमांक- 12 सियारोज गार्डन के पास, थाना- सिटी कोतवाली जिला-शहडोल बताया तथा रेलवे ई-टिकट चेक पर उसके दो नग पर्सनल आईडी से कम्प्यूटर से 20 नग टिकट कुल कीमत 9235 रूपये है। उक्त रेलवे ई-टिकटों को अपने पर्सनल आईडी से बनाकर बेचने के संबंध में लाईसेंस या वैधानिक दस्तावेजों की मांग करने पर वह कुछ भी दिखा नहीं पाया तथा प्रत्येक टिकट 50 से 100 रूपये किराये से अतिरिक्त कमीशन लेकर बेचने व रेलवे ई-टिकट का अवैध व्यापार करने का अपराध स्वीकार किया। तब मौके पर उपलब्ध गवाहों के रेलवे ई-टिकट नगद 6800 रूपये, दो नग एक एमआई05 कंपनी एवं एक नोकिया कंपनी का मोबाइल, सीपीयू मॉनीटर, की-बोर्ड माउस, प्रिंटर डोंगल को जप्त कर मौके की आवश्यक कार्यवाही कर उक्त आरोपी को मय जप्त संपत्ति के साथ रेसुब/पोस्ट/शहडोल लाया गया तथा आरोपी को मय जप्त सुदा संपत्ति एवं अन्य दस्तावेजों के साथ अग्रिम कानूनी कार्यवाही हेतु सुपूर्द किया गया, रेसुब/पोस्ट/शहडोल द्वारा अपराध क्रमांक 310/19 दिनांक 20 मई धारा 143 रेलवे एक्ट कायम किया गया तथा आरोपी को अग्रिम कार्यवाही हेतु 21 मई को विशेष रेलवे न्यायालय (प्रथम वर्ग) के न्यायालय में पेश किया जायेगा। उक्त कार्यवाही में मुख्य भूमिका रेलवे सुरक्षा बल अपराध गुप्तचर शाखा अनूपपुर के निरीक्षक आर.पी. सिंह, उपनिरीक्षक आर.एस. मिश्रा, प्रधान आरक्षक ए.सिंह, प्रधान आरक्षक एस.बी. प्रसाद, आरक्षक पी.के. मिश्रा एवं स्थानीय पुलिस थाना कोतवाली शहडोल के आरक्षक उमेश तिवारी, राजेन्द्र शुक्ला, लवकेश शुक्ला व हीरालाल की रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *