सागौन की लकडी के फर्नीचर बनाकर करते थे तस्करी वन अमले ने दो अंतर्राज्यीय तस्करो को दबोचा

Shubham kori-7898119734

बिजुरी। वन मंडल बिजुरी वन परिक्षेत्र में छत्तीसगढ़ राज्य के टेगनमांडा, खोंडसरा के जंगलों से अवैध चोरी की सागौन लकड़ी की कटाई कर बिना लायसेंस के छत्तीसगढ़ के लकडी तस्करो के द्वारा फर्नीचर बनाकर बिलासपुर, चिरमिरी सवारी गाड़ी से मध्यप्रदेश के बिजुरी, कोतमा, शहडोल में चोरी के लकड़ी के फर्नीचर बनाकर ब्रिकी करने की खबरें मिल रही थी, जिस पर 9 फरवरी को मुखबिर के द्वारा सूचना प्राप्त हुई कि बिलासपुर-चिरमिरी गाड़ी से बिजुरी रेलवे स्टेशन में चोरी की लकड़ी से बना दिवान बिजुरी रेलवे स्टेशन में उतर रहा है, जिसकी सूचना प्राप्त करते ही बिजुरी वन परिक्षेत्र अधिकारी रमेश पाटले ने वन मंडल अधिकारी एमएस भगदिया, एसडीओ ओजी गोस्वामी से निर्देश प्राप्त कर अपनी टीम के साथ बिजुरी रेलवे स्टेशन पर सुबह 5:30 के आसपास दो संदिग्ध व्यक्ति लकड़ी के दीवान को पन्नी से ढके हुए खड़े थे।
कटाई के बाद बनाते थे फर्नीचर
वन अमला ने उस लकड़ी के दीवान से संबंधित कागजात मांगे जाने पर न प्रस्तुत करने पर दोनों आरोपी राजकुमार पात्रे पिता सामल दास पात्रे निवासी करवा थाना वेलगहना अमित कुमार कुर्रे पिता हरप्रसाद कुर्रे निवासी करवा थाना वेलगहना छत्तीसगढ़ के द्वारा छत्तीसगढ़ राज्य के वन परिक्षेत्र बेलगहना वन क्षेत्र से सागौन के बृक्षो की अवैध कटाई कर चिरान कर फर्नीचर तैयार कर गाड़ी से अवैध परिवहन कर बिजुरी में विक्रय करने लाए थे, जिसकों भारतीय वन अधिनियम के तहत अपराध पंजीबृद कर सागौन के लकड़ी के दीवान की कीमत लगभग 26 हजार के कीमती दीवान को जप्त कर सागौन के दीवान की लंबाई माप कर जुर्माना की राशि तय की जा रहीं हैं।
इनकी रही भूमिका
दैनिक वेतनकर्मी की रमेश सिंह पाटले, वनपरिक्षेत्र अधिकारी बिजुरी, विनोद कुमार मिश्रा वनपरिक्षेत्र सहायक बिजुरी, शिव कुमार तिवारी वनरक्षक बीटगार्ड बिजुरी, शुभम गुप्ता, वनरक्षक वन चौकी भेडरीतलैया ने अंतर्राज्यीय तस्करो को गिरफ्तार करने के साथ ही चोरी की बेशकीमती लकडी से बने फर्नीचर को पकडने में अहम भूमिका अदा की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed