साहब….जयसिंहनगर बीएमओ की भी हो जांच

अपात्रों को बांटा आवास, नहीं लगी बायोमैट्रिक मशीन, समय से नहीं आता स्टाफ

(Amit Dubey-8818814739)
शहडोल। नवागत संभागायुक्त शोभित जैन इन दिनों संभाग में सभी शासकीय उपक्रमों का जायजा ले रहे हैं, इसी क्रम में कमिश्नर औचक निरीक्षक करने गोहपारू अस्पताल पहुंच गये, जहां उन्हें कई गड़बड़ियां मिली, जिससे नाराज होकर उन्होंने तत्काल ही गोहपारू बीएमओ को निलंबित कर दिया, कमिष्नर श्री जैन से जयसिंहनगर क्षेत्र के लोगों ने अपनी व्यथा बताते हुए बताया है कि जयसिंहनगर में पदस्थ बीएमओ डाॅ. राजेश तिवारी वर्षाे से यहां पदस्थ है, उनके द्वारा अपने विभाग के आवासों को अपात्रों को दे दिया गया है, जबकि पात्र कर्मचारी आज भी आवास के लिए भटक रहे है।
1950 की निकली हवा
चुनाव आयोग के निर्देष थे कि जहां भी तीन वर्षाे से अधिक कोई कर्मचारी पदस्थ है, उसे तत्काल अन्यत्र किया जाये, जयसिंहनगर बीएमओ का तबादला नहीं हो सका, वहीं इस पूरे मामले के संबंध में चुनाव आयोग द्वारा जारी 1950 हेल्पलाईन नंबर पर षिकायत करने के बाद जहां 100 मिनट में कार्यवाही होनी थी, उसके बाद भी जिले में बैठे हेल्पलाईन नंबर देख रहे अधिकारियों ने इस ओर से कलेक्टर एवं निर्वाचन अधिकारी को गलत जानकारी देकर उन्हें हटने से बचा लिया, स्थानीय स्तर पर निर्वाचन अधिकारी को यह जानकारी दी गई कि उनकी पदस्थापना भोपाल से हुई है, लेकिन अगर नियम है तो 3 साल के बाद अधिकारी का तबादला होना चाहिए था, लेकिन बीएमओ द्वारा जिले से सेटिंग कर अपने तबादले होने ही नहीं दिया गया।
अपात्रों को बांट दिया आवास
जयसिंहनगर बीएमओ अपने कार्याे के कारण इन दिनों पूरे क्षेत्र में चर्चा में बने हुए है, जहां उन्होंने यहां पदस्थ के नर्स का षिवपुरी तबादला होने के बाद भी उनसे भवन खाली नहीं कराया, वहीं एक नर्स जो रिटायर हो गई है, उनसे भी कमरा खाली नहीं करवाया, सूत्रों का कहना है कि इसके एवज में उन्हें क्या लाभ हो रहा है यह तो वही जाने, ऐसा नहीं है कि इसकी जानकारी वरिष्ठ अधिकारियों को नहीं है, इसके बाद भी वरिष्ठों से मिला संरक्षण इन्हें अपने क्षेत्र में भ्रष्टाचार के लिए बढ़ावा दिये हुए है।
बायो मैट्रिक मषीने भी नदारद
सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र जयसिंहनगर में बायो मैट्रिक मषीन शासन द्वारा उपलब्ध कराई गई थी, जिससे यहां पदस्थ कर्मचारी समय से अपने कार्य पर पहुंचे, लेकिन साहब द्वारा उन मषीनों को खराब बताकर कर्मचारियों के देरी से आने के लिए खुले रूप से बढ़ावा दिये हुए हैं, सूत्रों का कहना है जो लोगों जयसिंहनगर क्षेत्र से बाहर रहते हैं, वह अधिकतर देरी से आते हैं, जिनसे साहब को कुछ न कुछ फायदा हो जाता है, जिससे साहब खुद भी नहीं चाहते कि बायोमैट्रिक मषीन लगे, स्थानीय लोगों ने मांग की है कि जल्द से जल्द की गई षिकायत सहित अपात्रों को दिये गये शासकीय आवासों को खाली करा कर दोषीजनों पर कार्यवाही की जाये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *