सिंगल यूज़ प्लास्टिक उपयोग बंद करने को लेकर पसान में कार्यशाला का हुआ आयोजन

Ajay Namdev- 7610528622
जमुना। स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 स्वच्छता ही सेवा अभियान अंतर्गत सिंगल यूज़ प्लास्टिक के विरुद्ध जागरूकता एवं निकाय क्षेत्र अंतर्गत होटल, स्कूल, हॉस्पिटल, शासकीय कार्यालयों, विद्यालयों और व्यापारी संघों के लिए त्रैमासिक रैंकिंग के लिए कार्यशाला का आयोजन 25 सितंबर को नगर पालिका पसान कार्यालय में किया गया। स्वच्छता सर्वेक्षण के त्रैमासिक रैंकिंग में मुख्य रूप से निकाय अंतर्गत सबसे बड़ी आबादी व सबसे बड़े क्षेत्रफल में फैले एसईसीएल प्रबंधन एसईसीएल क्षेत्रीय चिकित्सालय जमुना एवं भालूमाडा शाखा प्रबंधक, भारतीय स्टेट बैंक जमुना कॉलरी, कोतमा कालरी व समस्त स्कूलों के प्राचार्य पोस्ट ऑफिस जमुना कॉलरी व कोतमा कालरी एवं व्यापारी संघ के साथ ही पूरे क्षेत्र में होटल मालिक व अन्य लोगों को बैठक में लिखित रूप से आमंत्रित किया गया था लेकिन उक्त बैठक में केवल दो-चार शिक्षकों को छोड़कर कोई भी आना जरूरी नहीं समझे।

इतना ही नहीं नगर पालिका परिषद पसान में आयोजित इस बैठक में मात्र 3 पार्षद ही नजर आए बाकी पार्षद तक उपस्थित नहीं हुए यहां तक कि बैठक में नगरपालिका उपाध्यक्ष भी नदारद रही। कार्यशाला में नगरपालिका के उपयंत्री व स्वच्छता अभियान के नोडल अधिकारी अविनाश मरकाम ने शासन द्वारा सिंगल यूज पलास्टिक के प्रतिबंध एवं होने वाले नुकसान के विषय में जानकारी प्रदान की।

साथ ही बताया कि राज्य शासन द्वारा आगामी 2 अक्टूबर महात्मा गांधी जी की 150वीं जयंती पर पूरे प्रदेश से सिंगल यूज़ प्लास्टिक को प्रतिबंधित किया जाना है जिसमें पन्नी डिस्पोजल थाली गिलास पानी बॉटल यहां तक कि कार्यालयों में उपयोग होने वाले प्लास्टिक स्टेशनरी को भी बंद किया जाना है जिस संबंध में शासन के दिशा निर्देशों की विधिवत जानकारी उपयंत्री द्वारा प्रदान की गई जिसमें महत्वपूर्ण रूप से दुकानों में बिकने वाली पन्नी आम तौर पर उपयोग की जाने वाली ऐसी प्लास्टिक की चीजें जिन का उपयोग एक बार किया जाता है इन सभी चीजों का उपयोग ना किया जाए उनके स्थान पर अन्य विकल्प मौजूद हूं तो उनका प्रयोग किया जाए पन्नी की जगह थैले का प्रयोग हो या कागज के ठोगे में दुकानदार सामग्री दे क्योंकि पन्नी व प्लास्टिक के बढ़ते उपयोग से यह हमारे जीवन में गंभीर समस्याओं को जन्म दे रहा है आज इन प्लास्टिक की चीजों के कारण ही तरह-तरह की बीमारियां फैल रही हैं स्वच्छता अभियान में सबसे बड़ा बाधक यही पन्नी और प्लास्टिक हैं।

कार्यशाला को संबोधित करते हुए संधान ट्रस्ट के सीईओ डॉ राकेश रंजन ने बताया कि भारत में प्रतिदिन प्लास्टिक के माध्यम से कितना टन कचरा निकल रहा है और उसका दुष्परिणाम हमारे जीवन में किस तरह से पड़ रहा है पूरी दुनिया में जब प्लास्टिक का उपयोग शुरू हुआ तब बहुत अच्छा सभी ने महसूस किया था लेकिन उसका दुष्परिणाम क्या होगा इसको लेकर किसी ने सोचा नहीं था लेकिन अब यही प्लास्टिक हमारे जीवन के लिए खतरे की घंटी बनता जा रहा है इसको बंद करने तथा आने वाले समय में किस तरह से उसकी जगह पर अन्य थैलों का उपयोग किया जाना है उस पर विस्तार से डॉ राकेश रंजन ने सभी लोगों के समक्ष जानकारी रखी झोला बैंक और कागज के थैलों के निर्माण में क्षेत्र के बेरोजगार युवाओं को रोजगार कैसे मिलेगा और उसकी उपयोगिता से प्लास्टिक से निर्मित सामग्री कैसे बंद होगी इसको लेकर सभी के समक्ष राकेश रंजन ने अपनी बातें रखी आने वाले समय में सिंगल यूज़ प्लास्टिक के दुष्परिणाम को बताया उन्होंने बताया कि भारत सरकार ने 6 तरह के प्लास्टिक पर अभी बैन लगाया है और उसको लेकर अभी से सभी इस अभियान में लगे तो निश्चित ही सफलता मिलेगी

अंत में नोडल अधिकारी द्वारा उपस्थित जनों को स्वच्छता अभियान की शपथ दिलाई गई साथ ही पसान नगर पालिका अध्यक्ष श्रीमती सुमन गुप्ता पसान सी एम ओ आर एस हलवाई ने उपस्थित जनों को कपड़े के बने थैले प्रदान कर उनसे पन्नी या प्लास्टिक की वस्तुओं के उपयोग न करने की अपील की गई। इस दौरान नगरपालिका के स्टाफ सहित पत्रकारों में संतोष चौरसिया सुरेश शर्मा की उपस्थिति सराहनीय रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *