100 प्रतिशत एफडीआई के विरोध में श्रमिक संगठनों का पांच दिवसीय हड़ताल

(सुधीर शर्मा-9754669649)

शहडोल। केंद्र सरकार की मजदूर विरोधी नीति एफडीआई के विरोध में श्रमिक संगठन आज से पांच दिवसीय हड़ताल पर है। एसईसीएल सोहागपुर एरिया अंतर्गत सभी कोयला खदानों में बीएमएस और इंटक के नेतृत्व में मजदूरो ने एफडीआई के विरोध में काम बंद कर दिया है। मजदूर संगठनो ने केंद्र की भाजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस की 49 प्रतिशत एफडीआई का विरोध करने वाली भाजपा अब 100 प्रतिशत एफडीआई लागू कर दिया है। जिसके विरोध में देशव्यापी हड़ताल किया जा रहा है।

दामिनी में 100 प्रतिशत रहा सफल

सोमवार की सुबह सोहागपुर एरिया के सभी खदानों में सुबह 07 बजे से हड़ताल प्रारंभ किया गया, जिसमे दामिनी यूजी कोल माइंस में हड़ताल पूरी तरह से सफल रहा। क्षेत्रीय सुरक्षा समिति सदस्य व मजदूर नेता अमरजीत सिंह के नेतृत्व में श्रमिकों ने माइंस गेट पर डटे रहे और हड़ताल का समर्थन किया। सोमवार को इंटक और बीएमएस के संयुक्त तत्वाधान में काम बंद रह। वही 23 से 27 नवम्बर के बीच अलग-अलग संगठन एक साथ मिलकर आंदोलन करेंगें।

विदेशी कंपनियों का होगा हस्ताक्षेप

श्रमिक संगठनों ने बताया कि 100 प्रतिशत एफडीआई के लागू होने से विदेशी कंपनियों का सीधा हस्ताक्षेप होगा, जिसके चलते श्रमिको के अनेकों सुविधाओ में ग्रहण लग सकता है, श्रमिको ने बताया कि एफडीआई पूरी तरह से मजदूर विरोधी है, कोल माइंस में लागू प्रावधानों में संधोधन होने के आसार है, जिनमे अनुकंपा नियुक्ति, स्वास्थ्य, शिक्षा आदि कई सुविधाओ में कटौती हो सकती है। कालरी के निजीकरण होने से मजदूरो पर काम का दोहरा भार पड़ेगा।

कल से सभी संगठन होंगे शामिल

श्रमिक संगठनों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक एफडीआई के विरोध में कल से सभी मजदूर संगठन एक साथ हड़ताल में शामिल होंगे, दामिनी कोल माइंस गेट पर हड़ताल के दौरान अध्यक्ष बीएमएस दामिनी विंनीत द्विवेदी, जय सिंह गहरवार, रजनीश खरे, अतहर खान, प्रभुदास, आशीष तिवारी, एसके मंडल, नरेश यादव, अविद खान, इमरान हुसैन, प्रदीप सिंह, मो. रहमान, जितेंद्र सोनी एवं सैकड़ो की संख्या में बीएमएस व इंटक के कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed