सिंगरौली नगर राजभाषा कार्यान्वयन समिति (नराकास) की 13 वीं बैठक ई- माध्यम से हुई संपन्न

शशिकांत कुशवाहा
सिंगरौली। भारत सरकार की मिनी रत्न कंपनी नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (एनसीएल) के निदेशक (कार्मिक) श्री बिमलेन्दु कुमार की अध्यक्षता में सिंगरौली नगर राजभाषा कार्यान्वयन समिति की 13 वीं बैठक सोमवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सम्पन्न हुई । राजभाषा हिन्दी का प्रयोग स्वप्रेरणा से होना चाहिए न कि बाध्यता से : श्री बिमलेन्दु कुमार, निदेशक (कार्मिक), एनसीएलइस बैठक में एनटीपीसी विंध्याचल, विंध्यनगर के कार्यकारी निदेशक श्री मुनीश जौहरी, एनसीएल से महाप्रबंधक/ विभागाध्यक्ष राजभाषा एवं सदस्य-सचिव, सिंगरौली नराकास श्री एस. एस. हसन, सहायक निदेशक (कार्यान्वयन) एवं कार्यालयाध्यक्ष- क्षेत्रीय कार्यान्वयन कार्यालय भोपाल, श्री हरीश सिंह चौहान, मुख्य महाप्रबंधक बीईएमएल श्री बासुदेव मिश्रा , महाप्रबंधक (कार्मिक), एनटीपीसी विंध्यनगर श्री उत्तम लाल, कमाण्डेंट औ.सु बल (विंध्यनगर) श्री जयप्रकाश आजाद, मुख्य प्रबंधक एसबीआई श्री शिवेन कृष्ण हंडू आदि इलेक्ट्रोनिक माध्यम से जुड़े ।
साथ ही, बैठक में एनसीएल की विभिन्न परियोजनाओं व अन्य सरकारी संस्थानों के राजभाषा अधिकारियों ने भी भाग लिया ।

बैठक की अध्यक्षता कर रहे एनसीएल के निदेशक कार्मिक श्री बिमलेन्दु कुमार ने कहा कि सिंगरौली परिक्षेत्र राजभाषा की दृष्टि से “क क्षेत्र” के अंतर्गत आता है, जहाँ शत प्रतिशत कार्य हिंदी में करना अपेक्षित है।

श्री कुमार ने कहा कि कार्यालयीन कार्यों में हम राजभाषा अधिनियम 1963 की धारा 3(3) तथा नियम-11 के अनुपालन हेतु संवैधानिक रूप से तो उत्तरदाई हैं ही परंतु राजभाषा के प्रसार हेतु सभी संबन्धित कर्मियों को स्वप्रेरणा से कार्य करना चाहिए ।

श्री कुमार ने सभी से आह्वान किया कि बिना क्लिष्ट शब्दों का उपयोग किए हुए हम सब दैनिक कार्यालयीन कार्यों को राजभाषा हिंदी में ही करें तथा औरों को भी इस हेतु प्रेरित करें |

सहायक निदेशक (कार्यान्वयन) – क्षेत्रीय कार्यान्वयन कार्यालय भोपाल, श्री हरीश सिंह चौहान ने राजभाषा कार्यान्वयन के संवैधानिक पक्ष पर विस्तृत प्रकाश डाला तथा सभी को राजभाषा के उन्नयन में योगदान देने हेतु प्रेरित किया ।

श्री चौहान ने एनसीएल को कोविड 19 जनित विषम परिस्थितियों के बावजूद इलेक्ट्रोनिक माध्यम से मीटिंग आयोजित करने की बधाई दी।

इस अवसर पर एनटीपीसी विंध्याचल, विंध्यनगर के कार्यकारी निदेशक श्री मुनीश जौहरी ने एनटीपीसी में राजभाषा उन्नयन हेतु किए गए कार्यों की विस्तृत जानकारी दी । इसके पूर्व सिंगरौली नराकास के सदस्य-सचिव, एनसीएल के महाप्रबंधक (राजभाषा) श्री एस॰ एस॰ हसन ने अपने उद्बोधन में नराकास के उद्देश्यों तथा सिंगरौली नराकास द्वारा राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार के लिए किए गए प्रयासों व कार्यों की विस्तार से चर्चा की । श्री हसन ने सभी संबन्धित अधिकारियों एवं कर्मचारियों को अधिक से अधिक कार्य हिन्दी में करने हेतु प्रेरित किया ।

इस दौरान पिछली बैठक में सभी की सहमति से तय किए गए कार्यवृत्त पर विस्तृत चर्चा की गई तथा विभिन्न सरकारी उपक्रमों से जुड़े हुए प्रतिनिधियों से राजभाषा कार्यान्वयन के क्षेत्र में बेहतरी के लिए सुझाव मांगे गए । इस दौरान सभी प्रतिष्ठानों के संबन्धित अधिकारियों ने राजभाषा के प्रसार हेतु किए गए विशिष्ट कार्यों का ब्योरा भी दिया।

गौरतलब है कि भारत सरकार के गृह मंत्रालय के राजभाषा विभाग द्वारा गठित सिंगरौली नगर राजभाषा कार्यान्वयन समिति (नराकास) में सिंगरौली जिले में स्थित एनसीएल, एनटीपीसी, पावर ग्रिड कॉर्पोरेशन, बीईएमएल, एसबीआई, पोस्ट ऑफिस, सीआईएसएफ, बीएसएनएल तथा इंश्योरेंस कंपनियों सहित केंद्र सरकार के 22 कार्यालय शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *