7 ओसियन के डायरेक्टर पर यौनाचार के आरोप

0
88

थाने शिकायत लेकर पहुंची पीडि़ता, पुलिस ने करा दिया समझौता
पीडि़त महिला से एएसआई ने किया अभद्र व्यवहार
सफेदपोश को बुलाकर दी, काउंटर केस की धमकी

(Amit Dubey+8818814739)
शहडोल। वर्ष 2011 से लेकर बीती 26 जून तक महिला कर्मचारी के साथ सेवन ओसियन के डायरेक्टर राकेश सिंह के द्वारा यौनाचार किया गया, यही नहीं महिला के पति के साथ मारपीट और उसे वेतन तक नहीं मिलने के आरोप महिला द्वारा कथित सफेदपोश पर लगाये गये हैं, उक्त शिकायत लेकर महिला गुरूवार की शाम करीब 7 बजे अमलाई थाने पहुंची थी, यह मामला एएसआई सूर्यप्रताप सिंह ने मामला अपने हाथों में लिया, महिला के साथ हुए यौनाचार की शिकायत में पूछताछ किसी महिला पुलिसकर्मी के समक्ष या उसके द्वारा न करवाकर एएसआई सूर्य प्रताप सिंह ने खुद की। यही नहीं महिला की शिकायत पढऩे के बाद आरोपी अचानक इसकी सूचना मिली और वह भी कुछ महिलाओं को लेकर थाने पहुंचा, पीडि़त महिला से पहले एफआईआर होने की बात कही गई, एएसआई ने इस मामले में महिला पर दबाव बनाया और प्राथमिक सूचना रिपोर्ट तक दर्ज किये बिना, महिला का तथाकथित सफेदपोश से समझौता करवाकर वापस भेज दिया गया।

(पार्ट-1)

यह लिखा था शिकायत में
महिला ने स्कूल के डायरेक्टर के खिलाफ दी शिकायत में यह उल्लेख किया कि उसे अपने बातों के मायाजाल में फंसाकर अपने स्कूल में लाया गया, 25 हजार वेतन, बंगला, गाड़ी के सपने दिखाये गये, बीते 8 सालों से महिला को विद्यालय परिसर में बने घर पर रखा और इन 8 सालों तक लगातार यौनाचार किया, जब पति ने इसका विरोध किया तो, उसके साथ मारपीट की गई, यही नहीं डायरेक्टर के पिता अरूण सिंह सहित परिवार के अन्य लोग भी इस पूरे घटना क्रम से वाकिफ थे, पारिवारिक कार्यक्रमों में महिला बराबर सम्मलित होती रही।

26 जून को किया बाहर
शिकायत में इस बात का भी उल्लेख किया गया कि बीती 26 जून की दोपहर 12.30 बजे सेवन ओसियन स्कूल परिसर जहां महिला रहती थी, राकेश सिंह उसके पिता अरूण सिंह, चाचा अनिल सिंह, भाई शैल सिंह आदि वहां पहुंचे और गाली-गलौज करने लगे, एक घंटे के अंदर पूरा सामान बाहर निकलवाकर फेंक दिया गया, मारपीट भी की गई, इस दौरान महिला के परिवार के लोग भी थे, यही नहीं धनपुरी में रहने वाले राकेश सिंह के खास मित्र जाकिर अली ने जान से मारने की धमकी दी, जिस कारण पूरा परिवार शांत रहा।

30 जून को फिर मुकरे
शिकायत में यह भी उल्लेख किया गया कि वेतन के करीब साढ़े 12 लाख रूपये रोक दिये गये थे, जिसे 30 जून को देने के लिए कहा गया था, इस दौरान राकेश सिंह लगातार महिला के सेल फोन पर कॉल कर कहीं शिकायत न करने की धमकी देते रहे, जब महिला को अकेला और डरा हुआ पाया तो, रूपये देने से भी मुकर गये। जिस कारण महिला ने अमलाई थाने जाकर न्याय की गुहार लगाई।

बेटा नहीं, बाप भी शातिर
महिला ने शिकायत में यह भी लिखा कि राकेश सिंह का पिता अरूण सिंह भी अपने पुत्र की तरह संबंध बनाना चाहता था, कई बार अकेले में घर में आ जाता था, शराब लेकर दोस्तों के साथ घर आकर गंदी नजरों से देखता व अश्लील बातें करता था।

रखे हैं महिला के अश्लील छायाचित्र
किसी विद्यालय के संचालक का दूसरा रूप इतना घिनौना हो सकता है, यह पीडि़त महिला के आंसू पुलिस अधिकारियों के सामने बताते रहे, लेकिन यहां भी कथित संचालक का रसूख और रूपया काम आ गया, पुलिस ने यौनाचार, अश्लील छायाचित्र और रूपयों की शिकायत पर, सिर्फ रूपये देने का समझौता कराया और खुद भी अपने जमीर से समझौता कर लिया।

एएसआई ने पार की हद
एएसआई सूर्यप्रताप सिंह परिहार ने महिला की शिकायत अपने हाथों में लेने के बाद किसी भी महिलाकर्मी को सामने नहीं किया, खुद यौनाचार जैसे मामले में बयान दर्ज करते रहे, यही नहीं थाने में कई लोगों के समक्ष महिला के साथ अमर्यादित शब्दों का भी उपयोग किया, आरोप यह भी हैं कि कथित एएसआई अपने गृह ग्राम रीवा व अन्य स्थानों पर जाने के लिए कथित डायरेक्टर से वाहन और गांधी की सेवा अर्से से लेते रहे हैं, जिसके नमक का कर्ज महिला की अस्मत का सौदा कर पूरा कर दिया।

इनका कहना है…
महिला ने कोई ऐसी शिकायत दी है, मुझे नहीं मालूम, इस संबंध में आप पुलिस से ही जानकारी लें।
राकेश सिंह
डायरेक्टर, सेवन ओसियन स्कूल
***
महिला आई जरूर थी, जो कार्यवाही करनी थी, हमने कर दी, महिला कर्मचारी क्यों नहीं थी, बाकी आप टीआई साहब से बात करिए।
सूर्य प्रताप सिंह परिहार
एएसआई, थाना अमलाई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here