लकड़ी की टाल पर वन विभाग के अधिकारियों सहित 25 सदस्यीय टीम ने दी दबिश, टाल संचालक पर लगा अधिकारी को धमकाने का आरोप

लकड़ी की टाल पर वन विभाग के अधिकारियों सहित 25 सदस्यीय टीम ने दी दबिश, टाल संचालक पर लगा अधिकारी को धमकाने का आरोप

कटनी । फॉरेस्ट विभाग की टीम ने माधव नगर थाना एवं नगर निगम सीमा क्षेत्र अंतर्गत शुद्ध न्यास कॉलोनी के पास स्थित पंजाब सा मिल लकड़ी टाल पर छापेमारी की। इस कार्रवाई में वन विभाग के अधिकारियों के द्वारा समस्त कागजों की जाँच की गई ।
। इस संबंध जानकारी देते हुए वन विभाग के अधिकारी रेंजर लक्ष्मी नारायण चौधरी ने बताया कि यह लकड़ी के संबंद्ध मे लगातार शिकायत प्राप्त हो रही थी जिसके आधार पर वन विभाग की टीम के द्वारा संबन्धित लकड़ी टाल में लकड़ियों का सत्यापन कर उनकी नाप जोख की जा रही है। प्रारंभिक जांच में पंजाब सा मिल के संचालक चमनलाल आनंद के द्वारा करवाई में सहयोग ना करने का आरोप भी वनविभाग के अधिकारी रेंजर के द्वारा लगाया गया । जिसके बाद करवाई लगातार जारी रही । इस छापामारी अभियान में 25 सदस्यीय फॉरेस्ट विभाग विभाग की टीम नें हिस्सा लिया जो बारीकी से जाँच कर रही थी । इस संबंद्ध मे प्राप्त जानकारी के अनुसार मंगलवार की सुबह वन विभाग के रेंजर लक्ष्मी नारायण चौधरी पूर्व भाजपा जिला अध्यक्ष चमनलाल आनंद के लकड़ी टाल पंजाब सा मिल पहुंचे और जाँच के लिए आवश्यक दस्तावेज शहित, शासन के द्वारा जारी किए गए लाइसेंस को दिखाने की बात करने लगे, जिस टिंबर एसोसिएशन अध्यक्ष चमनलाल आनंद भड़क गए और रेंजर को ही उसके कर्तव्यों का पाठ पढ़ाने लगे जिसके बाद बन विभाग के जाँच अधिकारी मौके से चले गए और अपने उच्च अधिकारियों को इस बात की जानकारी देने के बाद लगभग 2 दर्जन से अधिक वनकर्मियों के साथ फिर से लकड़ी टाल पंजाब सा मिल मे छापा मारने पहुचे और जांच पड़ताल शुरू की। कई घंटे तक चली जांच पड़ताल के बाद लकड़ी के स्टाक का मिलान रिकॉर्ड वन अधिकारी द्वारा देखा गया । इस मामले में रेंजर लक्ष्मी नारायण चौधरी ने बताया कि कुछ दिनों पूर्व कोडिया ग्राम समीप डिप्टी रेंजर अनिल मिश्रा द्वारा लकड़ी लोड एक वाहन रोकने का प्रयास किया गया तो उन पर वाहन चढ़ाने की कोशिश की गई। इस वाहन को धमका कर वहां से लेकर वाहन चालक भाग गया। इस वाहन में लोड लकड़ी कहां से आई थी इस बात की जांच पड़ताल शुरू की गई। इसी कड़ी में मंगलवार को महाराणा प्रताप वार्ड अंतर्गत सुधार न्यास कॉलोनी में चमन लाल आनंद के पंजाब सा मिल में सुबह 11:00 बजे वन विभाग की टीम जांच करने पहुंची। रेंजर ने बताया कि लकड़ी का स्टॉक गिनती कर रिकॉर्ड से मिलान किया जाएगा। इसके बाद ही यह पता चल सकेगा कि कहीं कोई गड़बड़ी तो नहीं की गई है। रेंजर लक्ष्मी नारायण चौधरी ने बताया कि आवश्यकता पड़ी तो राजस्व विभाग का भी सहयोग लिया जाएगा। वहीं इस मामले में टिंबर एसोसिएशन अध्यक्ष चमनलाल आनंद का कहना है कि रेंजर लक्ष्मी नारायण चौधरी के द्वारा टिंबर एसोसिएशन की आरा मशीनों में जाकर जबरन दम देते हैं परेशान करते हैं कई प्रकार की रुकावट डालते हैं गत शनिवार को विजय साॅ मिल में रेंजर लक्ष्मी नारायण चौधरी पहुंचे और जांच पड़ताल के नाम पर जबरिया परेशान कर रहे थे। विजय सा मिल मे रेंजर और एक फॉरेस्ट गार्ड के द्वारा वैधानिक जांच पड़ताल के उपरांत भी अनावश्यक रूप से टाल संचालकों कों परेशान किया जा रहा था , उन्होंने कहा कि रेंजर चौधरी कुछ समय पूर्व पदस्थ हुए हैं और जांच के नाम पर हमें जबरिया परेशान कर रहे हैं। टिंबर एसोसिएशन के अध्यक्ष चमनलाल आनंद ने कहा कि रेंजर के द्वारा बदले की भावना को लेकर जांच पड़ताल और करवाई की जा रही है जबकि कोई लिखित आदेश नही है जो विधि संगत और उपयुक्त नहीं है।

(हमारा चैनल इस वायरल वीडियो एवं साथ हुई बातचीत के अंश की पुष्टी नही करता )
रेंजर चौधरी ने वीडियो दिखाते हुए आरोप लगाया कि चमन लाल आनंद ने किसी तरह का जांच में सहयोग नहीं किया , वायरल वीडियो के बातचीत का अंश

((—-श्री आनंद नें कहा की आप किसी के यहां भी जाकर उसे तीन दिन का समय दीजिए, रजिस्टर देखिए और आप लाइसेंस वगैरह कुछ भी नहीं देखेंगे. नियम यह है कि 3 साल का लाइसेंस बनता है.1 साल देख लिया अब क्या रोज -रोज देखेंगे, आप साहब से बात करो से बात करो DFO से बात करो.SDO से बात करो कि हम लाइसेंस नहीं दिखाएंगे, सामने है ना आपने एक बार, अरे क्या निर्देश दिया है आपको अनुभव नहीं है ना किताब खोल कर बैठ गए हैं कोई रेंजर किताब खोल कर नहीं बैठता,क्या समझा रहे हो बुढ़ापा आ गया आप से नहीं बनता गलत-गलत बोलते हैं सीधा सीधा हिसाब आता कितने साल हो गए बाबू जी हमसे सीनियर हैं काम कर रहे हैं बेवकूफ बनाते हो हमारे स्टाफ को नहीं देंगे काम करने ,सीधा दस्तखत करो, नहीं तो दो-तीन दिन बाद आकर करवा देंगे आप समय दे दो ,2 दिन 3 दिन 5 दिन दे दो हम करवा देगे देखिए मै अध्यक्ष हूँ 24-25 भाई लोग साथ मे है । ये थे वायरल वीडियो के कुछ अंश ))—

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed