39 लाख लेकर एटीएम एजेंसी के कर्मचारी फरार

शशिकांत कुशवाहा
सीधी मध्य प्रदेश । मध्य प्रदेश के सीधी जिले में अपराधियों के हौसले किस कदर बुलंद है आप इसका अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं कि दिनदहाड़े लोगों ने एटीएम मशीन में पैसे डालने वाले बैंक को ही लूट लिया जिसके बाद से सीधी जिले में हड़कंप मच गया है विगत कुछ दिन पूर्व में ही जिले के नायब तहसीलदार के ऊपर जानलेवा हमला करने वाले आरोपियों ने तहसीलदार को गंभीर रूप से घायल कर दिया जिनका इलाज अभी भी जारी है ।
क्या है मामला
सीधी जिले में एटीएम में नोट डालनें की जिम्मेदारी लेने वाली सीएमएस कंपनी के कर्मचारियों द्वारा 39 लाख रुपए लेकर रफूचक्कर होने की खबर हैं। यह जानकारी मिलते ही उन बैंक प्रबंधकों में हडक़ंप मच गया है जिनके एटीएम में यह नगदी डाली जानी थी। मिली जानकारी के मुताबिक बैंकर्स द्वारा एटीएम में नोट डालने के लिए जिस कंपनी को नगद राशि दी जाती है उसके कुछ कर्मचारी पिछले कई दिनों से अपनी ड्यूटी पर नहीं आ रहे थे जिसको लेकर बैंकर्स को राशि गबन का शक हुआ और उन्होंने सिटी कोतवाली में इसकी प्रारंभिक सूचना दी है। साथ ही अब ऐसे सारे बैंकर्स जो एटीएम के लिए अपने पैसे इस एजेंसी के द्वारा भेजते थे वो अपने-अपने बैंक के लगाए गए एटीएम में जाकर उसमें शेष बची राशि और उसके एटीएम से निकाली गई राशि की अकाउंटिंग करने में जुटे हुए हैं और पूरी राशि का हिसाब होने के उपरांत वास्तविक स्थिति स्पष्ट हो पाएगी की कितनी राशि का फ्रॉड एटीएम में रुपए डालने वाली कंपनी के कर्मचारियों द्वारा किया गया है।
लगभग 39 लाख रुपए के चोरी की संभावना
विश्वस्त सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक बैंक प्रबंधकों ने अपने-अपने हिस्से की राशि की जानकारी देर शाम एकत्रित करने के बाद यह लेखा किया कि संबंधित वैन में 39 लाख रुपए थे। जिसको कंपनी के कर्मचारियों द्वारा संबंधित बैंकों के एटीएम में डाला जाना था। बैंक प्रबंधकों की ओर से एक रिपोर्ट सिटी कोतवाली थाना में भी की गयी है। जिसमें अभी इस फ्रॉड किए गए राशि का विवरण देना शेष है।
जिले की नाकेबंदी
अपुष्ट सूत्रों के मुताबिक पुलिस द्वारा सीधी जिले के सभी थानों को वायरलेश संदेश भेजकर नाकेबंदी कर दी गयी। साथ ही सीमावर्तीय जिलों में भी पुलिस पूरी तरह से एलर्ट मोड में आ चुकी है।
इनका कहना है
इस मामले में राजेश पांडे टीआई प्रभारी कोतवाली सीधी का कहना है कि बैंकर्स द्वारा जानकारी दी गई है जिसकी तस्दीक कराई जा रही है जिसके उपरांत वरिष्ठ अधिकारियों के दिशा निर्देश पर वैधानिक कार्यवाही की जावेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *