बड़ी खबर…कांग्रेस प्रत्याशी-भाजपा प्रत्याशी से आगे

77.25 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का किया प्रयोग

छत्तीसगढ़। उप चुनाव की मतगणना के शुरूआती दो घंटे पूरे हो गए हैं। मरवाही विधानसभा सीट के लिए तीन नवंबर को डाले गए वोटों की गिनती शुरू हो गई है। मतगणना के कार्य में लगाए गए सभी अधिकारी- कर्मचारियों को मास्क और सैनिटाइजर लगाकर मतगणना कक्ष में प्रवेश दिया गया। प्रारंभिक रुझानों में मरवाही कांग्रेस प्रत्याशी के. के. ध्रुव अपने निकटतम प्रतिद्वंदी से 3664 मतों से आगे चल रहे हैं। मरवाही में एक लाख 91 हजार चार मतदाता हैं। 77.25 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था। अब तक कुल 8520 मत उनके पक्ष में गए हैं, जबकि उनके निकटतम प्रतिद्वंदी भाजपा प्रत्याशी डॉ. गंभीर सिंह को 4856 मत मिले हैं।
मतगणना स्थल में रवाना होने से पहले कांग्रेस के प्रत्याशी डा.केके ध्रुव ने मंदिर में पहुंच कर पूजा अर्चना की। इसके बाद गौरेला स्थित गुरुकुल शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मतगणना स्थल में पहुंचे। पहली बार 70 वर्ष या इससे अधिक के बुजुर्गों और कोरोना संक्रमित मतदाताओं के लिए डाक मतपत्र की सुविधा उपलब्ध कराई गई थी। एक हजार 104 बुजुर्ग व कोरोना संक्रमित मतदाताओं ने डाक मतपत्र के जरिए मतदान किया था। इसके अलावा जिला निर्वाचन कार्यालय द्वारा मतदान के दिन शाम पांच से छह बजे का समय कोरोना संक्रमित मतदाताओं के लिए आरक्षित रखा था।
कलेक्टर और जिला निर्वाचन अधिकारी डोमन सिंह की उपस्थिति में उनके आदेश पर स्ट्रांग रूम का ताला खोला गया। इस दौरान सभी प्रमुख उम्मीदवार भी वहां मौजूद रहे। पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के निधन के बाद यह सीट खाली हुई है। 8 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। मुख्य मुकाबला कांग्रेस के प्रत्याशी डा.केके ध्रुव व भाजपा के डा गंभीर सिंह के बीच है। जिला निर्वाचन कार्यालय ने गुरुकुल को मतगणना स्थल के रूप में परिवर्तित कर दिया है। मतगणना स्थल में प्रवेश बंद कर दिया गया है। साथ ही मतगणना स्थल पर लगे टेबल से राजनीतिक दलों के एजेंट अब इधर से अधर नहीं हो सकेंगे। एक टेबल से दूसरे टेबल की दूरी एक मीटर रखी गई है। मतगणना 14 टेबलों में हो रही।
पहले डाक मतपत्रों की गिनती
मरवाही में मुख्य मुकाबला कांग्रेस और भाजपा के बीच है। सत्ताधारी दल कांग्रेस अगर इस सीट पर कब्जा जमाने में सफल रहती है तो प्रदेश में कांग्रेस विधायकों का आंकड़ा 69 से बढ़कर 70 हो जाएगा। साथ ही राज्य सरकार के कामकाज पर मुहर लगेगी। भाजपा उम्मीदवार के चुनाव जीतने की स्थिति में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की योजनाओं को लेकर सवाल खड़े होंगे। साथ ही विपक्ष की ताकत बढ़ेगी। प्रदेश में एक नए राजनीतिक माहौल की शुरुआत होगी।
गुरूकुल के चार कक्ष
पहले डाक मतपत्रों की गिनती शुरू की गई है, ईवीएम से मतों की गिनती हो रही है। मतगणना के लिए गुरुकुल विद्यालय परिसर में चार कक्ष निर्धारित किए गए हैं। इनमें तीन कक्षों में ईवीएम से मतों की गिनती हो रही है। एक कक्ष में डाक मतपत्रों की गिनती की जाएगी। पहले कक्ष में छह टेबल लगाए गए हैं। दूसरे तथा तीसरे कक्ष में चार-चार टेबल और डाक मतपत्रों की गिनती के लिए अलग से चार टेबल लगाए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *