भाजपा आईटी सेल प्रभारी बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार @ 376 सहित एससी एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज

अमलाई पुलिस ने आईटी सेल के कथित नेता को किया गिरफ्तार
कांग्रेस सहित अन्य दलों ने कहा यह भाजपा की परम्परा

देश की सबसे बड़ी पार्टी का चोला ओढ़कर पार्टी को ही कटघरे में खड़े करने वाले भाजपा मण्डल बुढ़ार के पदाधिकारी को पुलिस ने बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार किया है, बीते 4 से 6 महीनों में लगातार पहले जैतपुर, फिर धनपुरी, फिर आमडांड के भाजपा नेता पार्टी की परेशानी बढ़ाते रहे हैं।

शहडोल। अमलाई पुलिस ने बुधवार को महिला की शिकायत पर सुजीत केवट निवासी बकहो नामक युवक को गिरफ्तार किया है, आरोपी के खिलाफ भादवि की धारा 376 सहित एससी-एसटी एक्ट के तहत भी अपराध कायम किया है, आरोपी को गिरफ्तार कर पुलिस ने बीते दिवस ही माननीय न्यायालय में पेश किया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया। आरोपी भारतीय जनता पार्टी के मण्डल बुढ़ार में आईटी सेल का प्रभारी था और इसके साथ ही उसे भारतीय जनता पार्टी ने नगर परिषद बकहो का ग्राम केन्द्र संयोजक भी बनाया था। बीते 4 से 6 महीनों के दौरान भारतीय जनता पार्टी के संगठन में जिम्मेदार पदों पर बैठे पदाधिकारियों को पुलिस ने लगातार इस तरह के आरोप लगने के बाद की गई जांच के उपरांत गिरफ्तार किया है। कांग्रेस सहित समाजवादी पार्टी और अन्य प्रमुख संगठनों ने भाजपा को कटघरे में खड़ा किया है।

यह हैं भाजपा नेता पर आरोप

भारतीय जनता पार्टी के तथाकथित मण्डल के नेता की नियुक्ति पार्टी के जिलाध्यक्ष कमल प्रताप सिंह के द्वारा अन्य 22 पदाधिकारियों के साथ की गई थी। पुलिस को दी गई शिकायत में पीडि़त महिला ने आरोप लगाये हैं कि भाजपा नेता बीते 8 वर्षाे से उसके साथ दैहिक शोषण कर रहा था, इस दौरान अक्सर उसके साथ मारपीट भी होती थी, ऐसा नहीं है कि महिला ने कभी शिकायत न की हो, पीडि़ता की माने तो, इस मामले में भी उसने अमलाई थाने में शिकायत देनी चाहिए थी, लेकिन प्रभारी से उसकी मुलाकात नहीं हो सकी। बीते माहों और वर्षाे में भी उसने भाजपा नेता सुजीत केवट के खिलाफ शिकायत दी थी, लेकिन कुछ खर्चा तय करने के साथ ही खुद की पहुंच का रौब दिखाकर महिला को शांत कर दिया गया और लगातार उसकी गरीब और तंगहाली का फायदा उठाकर दबाव में उसका दैहिक शोषण किया जाता रहा।

फिर कटघरे में पार्टी

भारतीय जनता पार्टी के कथित मण्डल के नेता का बलात्कार में फंसने का यह पहला मामला नहीं है, इससे पूर्व जैतपुर मण्डल अध्यक्ष विजय त्रिपाठी अपने मित्रों के साथ नाबालिग से गैंगरेप में अभी तक जेल में है, धनपुरी के मण्डल अध्यक्ष हेमंत सोनी स्थानीय युवक को फोन पर थाने में बंद करा देने की धमकी के ऑडियो ने भी सुर्खिया बटोरी थी, इधर आमाडांड के मण्डल अध्यक्ष सातिका तिवारी सहित भाजयुमों के जिलाध्यक्ष अजय सिंह बघेल आदि के नाम रेत के अवैध कारोबार से जुड़े हैं। भारतीय जनता पार्टी के व्यापारी प्रकोष्ठ के जवाहर जसवानी छोटे भाई सहित ऑपरेशन शंखनाद में गिरफ्तार हुए और अभी तक जेल में हैं। रसूख और रूपयों के लालच में दर्जनों आपराधिक प्रवृत्ति के लोग पार्टी को अपनी बैसाखी बनाकर उसका दामन दागदार करने में लगे हैं।
.

गिरफ्तारी के बाद भी निष्कासन नहीं

सुजीत केवट को दो से तीन दिन पूर्व अमलाई पुलिस ने शिकायत की जांच के बाद गिरफ्तार किया था, वर्तमान में सुजीत जेल में है, इतना सबकुछ होने के बाद भी पार्टी कथित दागदार को बाहर का रास्ता नहीं दिखा पाई है, शुक्रवार की शाम तक पार्टी ने उसके निष्कासन या अन्य कोई कार्यवाही से संदर्भित बयान जारी नहीं किया, अलबत्ता इस मामले में मण्डल अध्यक्ष कामाख्या नारायण से संपर्क करने का प्रयास किया गया तो, वे बयान देने की जगह मामले से बचते नजर आये।

कांग्रेस-सपा ने कहा…

भाजपा के लिए यह सामान्य

घटना क्रम

कांग्रेस कमेटी के जिलाध्यक्ष आजाद बहादुर सिंह ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि यह भाजपा में आम बात है, पूर्व में भी मण्डल अध्यक्ष गैंगरेप में गिरफ्तार हुए थे, जिले में बुढ़ार से लेकर शहडोल और आमडांड से लेकर ब्यौहारी व देवलोंद तक भाजपा नेताओं के नाम रेत के अवैध उत्खनन, शराब के अवैध कारोबार, आपरेशन शंखनाद में उनकी गिरफ्तारी और पंचायत से लेकर मुख्यालय तक इस तरह के घटना क्रम आम हो चुके हैं, इधर समाजवादी पार्टी के प्रदेश प्रतिनिधि राकेश सिंह बघेल ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि यह निंदनीय कृत्य है, भाजपा एक तरफ चाल-चरित्र और चेहरे का ढोल पीटती है, अब उसके ही पदाधिकारियों की चाल और चरित्र खुलकर थानों में दर्ज हो रहा है, महिलाएं असुरक्षित हैं, इस घटना की जितनी भी निंदा की जाये, वह कम है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *