रेत के अवैध खनन और कार्यवाही पर भाजपा विधायक ने पुलिस को लिया आड़े हाथों

शहडोल।बीते दिनों पुलिस और प्रशासन के द्वारा रेत कारोबारियों के खिलाफ की गई संयुक्त कार्यवाही के बाद एक बार फिर भारतीय जनता पार्टी के beohari से युवा विधायक शरद को ने प्रशासन के साथ ही पुलिस की कार्यवाही को सवालों के कटघरे में खड़ा कर दिया है।

श्री कोल ने एक बयान जारी करते हुए कहा कि पुलिस द्वारा की गई कार्यवाही संतोषजनक तो है लेकिन विवेचना के दौरान पुलिस जिस तरह से बड़े-बड़े नामों को बचाने का खेल खेल रही है वह चिंताजनक है, उन्होंने कहा कि पुलिस के द्वारा कार्यवाही के दौरान जो हाईवा बड़ी संख्या में पकड़े गए थे, उन वाहनों के नंबर पूरी तरह से सामने नहीं रखे जा रहे हैं, इतना ही नहीं, पुलिस की इस कार्यवाही से यह भी सवाल खड़े होते हैं कि कुछ वाहन जो बड़े-बड़े लोगों के नाम पर शायद पंजीकृत है, इस कारण से पुलिस उन नंबर और उन वाहन मालिकों के नाम का खुलासा नहीं कर रही है ।

इस संदर्भ में विधायक शरद कोल ने जारी बयान में पुलिस विभाग तथा प्रशासन पर सवाल उठाते हुए उन्हें कटघरे में खड़ा किया है,पूर्व में भी विधायक ने अवैध उत्खनन को लेकर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों पर सवाल उठाए थे तथा यह मामला प्रदेश सरकार तक ले जाने की बात कही थी, संभवत उसी के बाद ही जब यहां कलेक्टर डॉक्टर सत्येंद्र सिंह का स्थानांतरण हुआ और नई कलेक्टर को shahdol की कमान मिली, इसके साथ ही नए एडीजीपी के रूप में DC Sagar shahdol पहुंचे, जिसके कुछ दिनों बाद ही यह रेत की बड़ी कार्यवाही की गई।

पुलिस और प्रशासन के द्वारा की गई रेत की इस कार्यवाही से यह तो साफ हो गया कि यह पूरा खेल आज या कल से नहीं बल्कि बीते लंबे अरसे से चल रहा था और जिले में बैठे अधिकारी ही उसे या तो संरक्षण दिए हुए थे या फिर इस ओर से आंखें मूंदे हुए थे, कार्यवाही करने के बाद पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने उसका डंका चारों तरफ पीटा और प्रेस वालों को बुला-बुलाकर विज्ञप्तियां तथा बयान जारी कर पुराने मामलों पर पर्दा डालना चाहा।

लेकिन आमजन में यह चर्चा आज भी है कि पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की शह पर पूर्व में रेत का कारोबार चल रहा था हालांकि कार्यवाही के बाद ऐसा नजर आने लगा कि देर से ही सही पुलिस ने प्रशासनिक अधिकारियों के साथ मिलकर कार्यवाही तो की, लेकिन इसी बीच sharad के इस बयान ने फिर से पूरे मामले को सवालों के कटघरे में खड़ा कर दिया है ।

Police आखिर पकड़े गए समस्त वाहनों के नंबरों तथा उन वाहन मालिकों के नाम स्पष्ट क्यों नहीं कर रही है, पत्रकार वार्ता के दौरान भी एडीजीपी DC Sagar ने इन सवालों के जवाब के दौरान अग्निपथ- अग्निपथ…… कहते हुए बातों को टाल दिया था लेकिन अब भाजपा के विधायक के द्वारा पूछे जा रहे हैं इन सवालों का जवाब तो पुलिस को देना ही होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *