अतिक्रमणकारी प्रशासन के लिए बने चुनौती

नगरीय निकाय में अनियमितता का बाजार गर्म

ब्यौहारी। नागरिकों की सुविधा और क्षेत्र में विकास के लिऐ स्थानीय प्रशासन वार्डो में सड़क, नाली, पानी, सफाई और प्रकाश की समुचित व्यवस्था के नाम हर वित्तीय वर्ष में लाखों करोड़ों रुपये व्यय करता है। कुछ वार्डो के रहवासी सार्वजनिक निस्तार में बाधा बन सडक नाली और फुटपाथ में अतिक्रमण कर विकास कार्य में रोड़ा बने हुए है। जिनसे निपटने में प्रशासन के भी हाथ पैर फूलने लगते है। यहां के विकास में अवरोध बने अवैध कब्जाधारी प्रशासन के लिए चुनौती बने हुए हैं।
अतिक्रमण कारियों के हौसले बुलंद
विभाग के जिम्मेदारों की मिलीभगत और उदासीनता से यहां अतिक्रमणकारियों के हौसले बढें हुए है। नागरिकों की सुविधाओं के लिए नगरपरिषद द्वारा बनाई गई सड़क नाली और फुटपाथ पर कुछ लोगों ने अवैध कब्जा जमा अतिक्रमण कर रखा है। जिससे आमजन को असुविधाओं का सामना करना पड़ता है। अतिक्रमणकारी नगर में होने वाले विकास कार्यो में प्राय: चुनौती ही बने रहते है। नगरीय क्षेत्र में पानी सप्लाई के लिए डाली जाने वाली पाइप लाइन को वार्डो में नवनिर्मित सड़कों और नालियों को जेसीबी मशीन से खोदा जा रहा है, जिस पर लोगों ने आपत्ति दर्ज कराई है।
ठेकेदार की मनमानी
नगर के बार्डो में डाली जा रही पानी सप्लाई की पाइपलाईन को नवनिर्मित सडक व नाली तोडकर डालने का विरोध हो रहा है। लोगों का कहना है कि जब सड़क किनारे की बची भूमि जहां रसूखदारों ने अवैैध कब्जा कर अतिक्रमण जमा रखा है। वार्डो में पानी सप्लाई की पाइप लाइन अच्छी खासी सडकों को खोदकर ठेकेदार मनमानी तरीके से घरों के विपरीत तालाब के मेढ़ की तरफ पाइप लाईन डाल रहा है। जिससे पानी सप्लाई का कनेक्शन लेने बाले लोग सड़क को तोड़कर ही कनेक्शन लेगें। जिससे पूरी सड़क रोज टूटती और बनती रहेगी। जिससे नगर विकास के नाम पर इनकी दुकानदारी चलती रहेगी।
निष्पक्ष जांच से उठेगा पर्दा
नगर विकास के नाम पर नगर के हित में खर्च होने वाली शासन की राशि को खुर्दबुर्द कर अनियमितता करने के आरोप स्थानीय नागरिकों तथा राजनैतिक दलों के नेताओं ने लगाया है। उन्होंने यह भी कहा कि वर्तमान समय में जनता की चुनी हुई परिषद के भंग होने का फायदा उठा जमकर मनमानी कर रही है। प्रशासक नियुक्ति के बाद हुए समस्त निर्माण कार्य और खरीदी बिक्री की निष्पक्ष जांच होने से बहुत बड़े घोटाले से पर्दा उठने का दावा किया जा रहा है।
इनका कहना है…
इस संबंध में जब मोबाइल पर चर्चा में मौका देखने की बात कही गई, लेकिन जब दूसरे दिन भी उसी क्रम में काम जारी रहा तो उनसे मोबाइल पर सम्पर्क करने का प्रयास किया गया, लेकिन जबाब नही मिला।
जयदेव दीपांकर
मुख्य नगरपालिका अधिकारी
ब्यौहारी

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *