स्लोगन तक सिमट कर रह गया स्वच्छता अभियान

वार्डाे में जगह-जगह फैली गंदगी

नरकीय जीवन जीने को मजबूर वार्डवासी

शहडोल। नगरपालिका अधिकारियों की लापरवाही से शहर की स्वच्छता को ग्रहण लगा हुआ है। शहर के विभिन्न वार्डों में जगह-जगह लगे गंदगी के ढेर प्रधानमंत्री के स्वच्छता के सपने को धूमिल करते नजर आ रहे है। गंदगी से परेशान लोग कई बार नपा अधिकारियों को मौखिक तौर पर अवगत करवा चुके है, लेकिन नपा अधिकारियों पर इसका कोई असर ही नही दिख रहा है। नतीजतन शहरवासी गंदगी में जीवन-बसर करने को मजबूर है।
नरकीय जीवन जीने को मजबूर
नपा से शहरवासियों को बड़ी उम्मीद थी, लेकिन विकास की बात तो छोड़े नपा अधिकारी शहर को गंदगी से ही मुक्ति नही दिला पाए है। शहर की नालियां जहां गंदे पानी से अटी पड़ी है। वहीं शहर में जगह-जगह गंदगी का ढ़ेर लगा हुआ है। वार्डाे में जहां-तहां गड्ढे खुदे हुए हैं, वार्डाे की हालात दिन-ब-दिन दयनीय होती जा रही है। नपा की अपेक्षा का शिकार लोग गंदगी की भरमार से नरकीय जीवन जीने को मजबूर है। बार-बार शिकायत के बाद भी नपा अधिकारी की नजर यहां फैली गंदगी पर नहीं पड़ रही है।
लाखों हो रहे खर्च
नगर पालिका द्वारा स्वच्छता सर्वेक्षण के नाम पर लाखों रूपये प्रचार-प्रसार सहित अन्य फंडों में खर्च की गई है, साथ ही नगर के प्रत्येक वार्ड में स्वच्छता दल भी बनाए गये हैं, जिन्हें वार्डाे के भ्रमण कर सफाई का निरीक्षण करने की जिम्मेदारी दी गई है। दूसरी ओर नगर पालिका ने सुपरवाईजर भी नियुक्त किया है। जो सफाई व्यवस्था की देखरेख करेगा। नगर पालिका द्वारा सफाई के नाम प्रतिमाह लाखों रूपये का भुगतान आधा सैकड़ा से ज्यादा कर्मचारियों पर खर्च कर रही है। प्रत्येक वार्डाे से घर कचड़ा संग्रहण के लिए दर्जनों से ज्यादा वाहन भी लगाये हुए हैं, लेकिन अंदर के वार्डाे में सफाई व्यवस्था चुस्त दुरूस्त नहीं है, नालियां कचरे से भरी पटी है, कई जगह तो, नालियां ही टूट गई है।
बदल सकती है नगर की तस्वीर
नगर पालिका द्वारा स्वच्छता सर्वेक्षण को लेकर दिवालों में वाल रायटिंग करवाया जाता है, जिस पर लाखों रूपये ज्यादा खर्च किये जा रहे हैं, स्वच्छता को लेकर आये दिन नगर पालिका द्वारा प्रचार-प्रसार करती है। कचरा गाडिय़ों से लोगों को जागृत करने के मैसेज दिए जाते हैं, जगह-जगह स्लोगन लिखे जाते हैं। नगर पालिका ने सुचारू रूप से स्वच्छता अभियान को अंजाम दिया जा सके, किंतु इन सब प्रयासों के साथ ही अगर नगर पालिका स्वच्छता के लिए नपा के जिम्मेदार ध्यान दें तो, नगर की तस्वीर बदल सकती है।
***************

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *