आगे आओ……ट्रेनों को निजीकरण से बचाओ, देश बचाओ : राव

शहडोल , केंद्र सरकार का एक ही एजेंडा है रेल सहित सभी सरकारी सेक्टरों को निजी हाथों में सौंपा जाए , भारतीय रेल भारत के लोगों की जीवन रेखा है , यह आज भी आम जनता के लिए सबसे सस्ता सुलभ सुरक्षित सुविधाजनक आवागमन का साधन है , जिस दिन भारतीय रेल निजी हाथों में चली जाएगी उस दिन छात्र , ग्रामीण जनता , वरीष्ठ नागरिकों , पत्रकारों , समाजिक संगठन अन्य सभी को एक महंगी दर पर रेलवे यात्रा करनी पड़ेगी ,
मैं आम जनता मीडिया छात्रों से अपील करता हूं कि रेल को बेचने से बचाने में आप आगे बढ़कर सरकार का विरोध करें , आज यह सिर्फ रेलवे कर्मचारी की लड़ाई नहीं है यह लड़ाई भारतीय आम जनता जो रेल आवागमन की सस्ता सुलभ सुविधा देने वाली जीवन रेखा है , इस रेल को बचाने की लड़ाई है हम 13 लाख रेल कर्मचारी के आंदोलन से आपकी सस्ती सुविधा रेल बिकने से नहीं बचेगी , केंद्र सरकार के द्वारा इसे उद्योगपतियों के हाथों बेचने से बचाना होगा , रेल को बचाने में आप सभी का सहयोग चाहते हैं , रेल के निजी करण से महंगी असुरक्षित जानलेवा हो जाएगी क्योंकि उद्योगपति और प्राइवेट सेक्टर इसके रखरखाव सुरक्षा पर ध्यान न देकर सिर्फ अपनी कमाई पर ध्यान देंगे ,
यह आंदोलन रेल कर्मचारी से ज्यादा आम जनता के शक्ति से लड़कर सस्ती रेल सुविधा छीनने से बचना होगा , केंद्र सरकार की नीजीकरण के फैसले के खिलाफ आम जनता , छात्र , समाजिक संगठन , मीडिया व अन्य सभी वर्गों का इसमें अगर सहयोग मिले तो सरकार के खिलाफ आम जनता और रेल फेडरेशन एक निर्णायक लड़ाई लड़ने के लिए तैयार हैं , उक्त उद्गार नेशनल फेडरेशन इंडियन रेलवे मेन के राष्ट्रीय महामंत्री डॉक्टर एम राघवैया ने से राष्ट्रीय सम्मेलन के समापन के अवसर पर 23 सितंबर 2020 अपने भाषण में कहा | दो दिवसीयश नेशनल फेडरेशन इंडियन रेलवे मैन की दो राष्ट्रीय बैठक दिनांक 22 एवं 23 सितंबर 2019 को मुख्य अतिथि एनएफआईआर के राष्ट्रीय अध्यक्ष गुमान सिंह एवं राष्ट्रीय महामंत्री डॉक्टर एम राघवैया की उपस्थिति में वीडियो कांफ्रेंसिंग वर्चुअल मीटिंग के माध्यम से संपन्न हुआ , इस दो दिवसीय राष्ट्रीय बैठक में ऑल इंडिया रेलवे के 17 जनों के महामंत्री एवं एन एफ आई आर के 253 राष्ट्रीय सदस्य इस बैठक में भाग लिए
नेशनल फेडरेशन इंडियन रेलवे मैन के अध्यक्ष गुमान सिंह ने केंद्र सरकार के द्वारा सरकारी सेक्टरों को खत्म करने की कोशिशों की निंदा करते हुए कहां की हमें रेलवे रेल कर्मचारियों को बताना पड़ेगा रेल को बचाने के लिए हम सबको निर्णायक लड़ाई लड़नी पड़ेगी उन्होंने श्रम संगठनों की शक्तियों को खत्म करने की जो प्रस्ताव संसद में रखे गए हैं उनकी कड़े शब्दों में निंदा , साउथ सेंट्रल रेलवे मजदूर कांग्रेस के महामंत्री एवं एफ आई आर के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष केएस मूर्ति ने वर्तमान स्थिति को बहुत ही खतरनाक बताते हुए रेल को बचाने की अपील की , केंद्र सरकार भारी बहुमत के घमंड पर देश के सरकारी तंत्र को निजी हाथों में बेचने की निंदा की , इस राष्ट्रीय अधिवेशन को रेलवे मजदूर कांग्रेस बिलासपुर के मंडल समन्वयक एवं एन एफ आई आर के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य बी कृष्ण कुमार ने भी संबोधित किया बिलासपुर में निजी करण के खिलाफ लगातार आंदोलन एवं बैठकों की विस्तृत जानकारी दी
आज दिनांक 23 सितंबर 2020 को एन एफ आई आर के राष्ट्रीय बैठक में प्रथम वक्ता के रूप में साउथ ईस्ट सेंट्रल रेलवे मजदूर कांग्रेस बिलासपुर के संयुक्त महामंत्री एवं नेशनल फेडरेशन इंडियन रेलवे मैन के राष्ट्रीय सदस्य लक्ष्मण राव ने भारतीय रेल में ट्रैक मैन की समस्याओं पर चर्चा करते हुए उन्होंने अपने मांग को दोहराया कि भारतीय रेल के ग्रुप डी की भर्ती सीधे ट्रैक मेंटेनर में किया जाना चाहिए और जो ट्रैक मेंटेनर 3 साल काम कर चुके हो उनको अन्य विभाग कमर्शियल ऑपरेटिंग टी आर डी एवं अन्य विभाग के ग्रुप डी के खाली पदों में सीधे विभाग परिवर्तन किया जाना चाहिए
साथ ही साथ निजीकरण पर उन्होंने आम जनता को होने वाले नुकसान की जानकारी देते हुए आंदोलन में सभी वर्गों को जनजागरण कर इस आंदोलन को व्यापक रूप देने की मांग की

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *