तालाब के अस्तित्व को बचाने कांग्रेस ने कमिश्नर को दिया ज्ञापन

शहडोल। प्राचीन मान्यताओं के हिसाब से शहडोल में पांडवों द्वारा अज्ञातवास के दौरान लगभग 365 तालाबों पर निर्माण किया गया था। मगर दुर्भाग्य की बात यह है कि आज 65 तालाब भी नहीं बचे हैं। भू-माफिया द्वारा तालाब पर बड़ी-बड़ी इमारतें तैयार की गई है और जिले के तालाब अपना अस्तित्व खो बैठे हैं। वर्तमान में पांडव नगर स्थित बड़ा तालाब आज अपना अस्तित्व खोने की कगार में पहुंच चुका है। प्रदेश कांग्रेस किसान कमेटी के सचिव शेख आबिद एवं प्रदेश कांग्रेस पिछड़ा वर्ग सचिव सबी खान बंटी ने कमिश्नर को ज्ञापन सौंपते हुए बताया कि बड़ा तालाब के चारों तरफ घनी बस्ती है और प्राचीन शिव मंदिर है, जहाँ अक्सर श्रद्धालुओं का आना-जाना लगा रहता है एवं तालाब के पानी का उपयोग स्थानीय लोग अपने निस्तार के लिए उपयोग मेे लाते हैं। इस तालाब में मछली पालन एवं पशुपालन कर अपना जीवन निर्वाह करते हैं।
विगत कुछ दिन पूर्व नगर पालिका द्वारा दबाव पूर्वक जिला हॉस्पिटल से निकलने वाले नाले एवं आसपास की बड़ी बिल्डिंग के नालों को तालाब में जोड़ दिया गया है, जिसकी वजह से तालाब में पल रही मछलियां मर रही हैं एवं तालाब का पानी पीने वाले पशु बीमार पड़ रहे हैं। तालाब के दूषित पानी के दुर्गंध की वजह से यहाँ के रहवासियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। एक ओर नगरपालिका शहर में स्वच्छता अभियान चला रही है एवं डेंगू से बचाव की तैयारी कर रही है और दूसरी तरफ घनी बस्ती के बीच तालाब में गंदे पानी को छोड़ा जा रहा है। अत: हम आपसे निवेदन करते है कि नगर पालिका द्वारा जल्द से जल्द हॉस्पिटल और दूसरी नालियों का पानी वहां से हटाकर दूसरी जगह छोडऩे का काम करें। कांग्रेस पिछड़ा वर्ग सचिव सबी खान बंटी ने कहा कि अगर हमारी मांगे पूरी नहीं हुई तो हम आंदोलन करने को भी तैयार हैं। ज्ञापन के दौरान मुख्य रूप से प्रदेश किसान कांग्रेस के सचिव शेख आबिद, प्रदेश कांग्रेस पिछड़ा वर्ग सचिव सबी खान बंटी, ऋषभ वर्मा, अजय बर्मन, सरवरी बाओ, सीता मरावी, उपस्थिति रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *